Posts

Featured post

Masik Shivratri : मासिक शिवरात्रि का महत्व

पंचांग-पुराण Masik Shivratri: मासिक शिवरात्रि, जानें इसका महत्व और व्रत विधि

पौराणिक मान्यता है कि मासिक शिवरात्रि का व्रत करने से भगवान भोलेनाथ की विशेष कृपा से कोई भी मुश्किल और असम्भव कार्य पूरा किया जा सकता है। मासिक शिवरात्रि का व्रत शुरु करने वाले महा शिवरात्रि से इसे आरम्भ कर सकते हैं और एक साल तक कायम रख सकते हैं। श्रद्धालुओं को शिवरात्रि के दौरान जागे रहना चाहिए और रात्रि के दौरान भगवान शिव की पूजा करना चाहिए। अविवाहित महिलाएं इस व्रत को विवाहित होने हेतु एवं विवाहित महिलाएं अपने विवाहित जीवन में सुख और शान्ति बनाये रखने के लिए इस व्रत को करती है।

महर्षि वेदव्यास को जहां देवी सरस्वती ने दर्शन दिए, तेलंगाना में वहां है श्री ज्ञान सरस्वती मंदिर

2 शुभ योग में दिन की शुरुअात होने से 5 राशियों को हो सकता है धन लाभ

मोटिवेशन मिलने, गलत फैसलों से बचने और धैर्य के साथ करियर में आगे बढ़ने का है दिन

वसंत पंचमी का धार्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व, पौराणिक कथा और पूजा के मुहूर्त

इस दिन अपनी ही राशि में रहेंगे मंगल, गुरु और शनि, अबूझ मुहूर्त मनेगा बसंत पंचमी

Aaj ka Rashifal: बुधवार के दिन सतर्क रहें इस राशि के लोग, आज इन चार राशि वालों की खुलेगा किस्मत का ताला

बुधवार का भाग्यांक है 7, सोच-विचार कर ही किसी काम में आगे बढ़ें

जब तक इच्छाओं का अंत नहीं होगा, तब तक भगवान की भक्ति में मन नहीं लग पाएगा

तेलंगाना का ज्ञान सरस्वती मंदिर, महाभारत और वेद व्यास से जुड़ा है इस मंदिर और शहर का इतिहास

हर किसी को धरती माता की तरह सहनशील तथा क्षमाशील होना चाहिए : भगवान बुद्ध

दुनिया की सबसे बड़ी स्वयं-भू प्रतिमाओं में से एक हैं बेंगलुरु के डोडा गणपति

बसंत पचंमी 2020 : धन, विद्या, बुद्धि जो मांगोगे मिलेगा, कर लें यह उपाय

जीवन की दशा और दिशा को है बदलना, तो आज ही करें सिंदूर के यह चमत्कारी उपाय

गुप्त नवरात्रिः अष्टमी के दिन जरूर करें ये काम, हर कामना होगी पूरी

बुद्धं शरणं गच्छामि का मूल क्या है? किस ग्रंथ में पहली बार उपयोग किया गया ये मूल मंत्र