Posts

Featured post

हनुमान जयंती 8 अप्रैल : अपने घर में ही इस शुभ मुहूर्त में ऐसे करें हनुमान लला का पूजन

इस साल 2020 में हनुमान जन्मोत्सव हनुमान जयंती 8 अप्रैल दिन बुधवार को सर्वार्थसिद्धि योग में मनाई जाएगी। हनुमान जी जन्मोत्सव प्रतिवर्ष चैत्र मास की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है। इस बार हनुमान जयंती के दिन सर्वार्थसिद्धि का शुभ योग बनने के कारण इस योग में की गई पूजा सबके लिए कल्याणकारी सिद्ध होगी। 8 अप्रैल को ऐसे करें हनुमान जी की पूजा आराधना।चैत्र पूर्णिमा : 8 अप्रैल बुधवार को करें ये चमत्कारी उपाय, जीवन का सारी अपूर्णता हो जाएगी पूर्णपूजा का शुभ मुहूर्त- हनुमान जयंती पर्व बुधवार 8 अप्रैल 2020- पूर्णिमा तिथि का आरंभ - 7 अप्रैल दिन मंगलवार को 12 बजकर 1 मिनट से ही आरंभ हो जाएगी।- पूर्णिमा तिथि समापन 8 अप्रैल को सुबह बजकर 4 मिनट पर होगा।ऐसे करे हनुमान जयंती पर व्रत और पूजनहनुमान जयंती के दिन व्रत रखने वालों को कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। इस दिन हनुमान जी को लाल चोला जरूर चढ़ायें। व्रत रखने वाले व्रत की पूर्व रात्रि से ब्रह्मचर्य का पालन करें। संभव हो सके तो जमीन पर ही शयन करे लाभ मिलेगा। प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में उठकर प्रभू श्री राम, माता सीता व श्री हनुमान का स्मरण करें। गंगाजल मिल…

आज का राशिफल : इन दो राशिवालों के लिए है मुश्किल की घड़ी, सर्तकता से ही मिलेगी सफलता

मंगलवार का दिन है श्री हनुमानजी का: वे उपाय जिन्हें अपनाने के बाद जीवन के हर दुःख हर लेंगे वीर बजरंगबली

वृद्ध लोगों का अनुभव बड़ी-बड़ी परेशानियों से बचा सकता है, हर हाल में इनका सम्मान करें

महाभारत में कर्ण अर्जुन के प्रहारों से हो गया था घायल, तभी श्रीकृष्ण ब्राह्मण वेश में उसके पास पहुंचे

हनुमानजी का मंदिर: यहां अवश्य पूरी होती है हर मन्नत

मल्टी नेशनल कंपनी में काम करने वाले लोगों के लिए अनुकूल रह सकता है बुधवार

विंड चाइम्स के लिए शुभ दिशा और टांगने का सही तरीका, बेडरुम में भी टांग सकते हैं इसे

हर देवता का है विशेष रक्षासूत्र , जानिए कौन से रंग का धागा करेगा आपकी रक्षा

ये पेड़ है खास, इसकी पूजा करती है हनुमानजी को तुरंत प्रसन्न

आज के दिन में क्या है आपके लिए खास, जानिये यहां : Video

5 जून को पूर्णिमा स्नान पर्व, 170 सेवकों के कोरोना टेस्ट के बाद होगा उत्सव, रथयात्रा पर अभी भी संशय

58 साल बाद शनि के मकर राशि में वक्री रहते एक महीने में दो चंद्र और एक सूर्य ग्रहण

ग्रहों की अशुभ स्थिति के कारण 6 राशियों को रहना होगा संभलकर

अंगारक गणेश चतुर्थी व्रत और पूजा की विधि, ब्रह्माजी ने चतुर्थी व्रत को बताया है श्रेष्ठ

विनायक चतुर्थी 26 मई को, शिव पुराण के अनुसार चतुर्थी को हुआ था गणेशजी का जन्म