प्रकृति में उत्साह का संचार, इस माह हुआ था चंद्रमा का जन्म

फाल्गुन मास हिन्दू पंचांग का आखिरी महीना होता है। इस माह के बाद हिंदू नववर्ष की शुरुआत होती है। ऐसा माना जाता है कि फाल्गुन माह में ही चंद्र देव का जन्म हुआ था। यही कारण है कि फाल्गुन माह में चंद्र देव का पूजन शुभ माना जाता है।


फागुन की हुई शुरुआत, जानें कब है कौन-सा व्रत और त्यौहार


फाल्गुन माह में दो महत्वपूर्ण पर्व आते हैं महाशिवरात्रि और होली, जो हिंदू धर्म में अपना खास महत्व रखते हैं। इस मास को उल्लास का माह भी कहा जाता है। इस मास में प्रकृति में हर तरफ उत्साह का संचार होता है।


इस माह में कई महत्वपूर्ण त्यौहार भी आते हैं। फाल्गुन मास में कृष्ण पक्ष अष्टमी को माता सीता की जयंती के रूप मनाया जाता है। फाल्गुन कृष्ण पक्ष एकादशी को विजया एकादशी के नाम से जाना जाता है। फाल्गुनी अमावस्या का धार्मिक दृष्टि से बहुत ही महत्व है।

फाल्गुन का महीना है बहुत खास, इस उपाय से चंचल मन कर सकते हैं शांत


फाल्गुन शुक्ल एकादशी को आमलकी एकादशी कहा जाता है। इस दिव उपवास रखना बहुत ही शुभ माना जाता है। फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को भगवान शिव की उपासना का महापर्व शिवरात्रि मनाई जाती है। फाल्गुन में ही चन्द्रमा का जन्म हुआ, इसलिए इस माह में चंद्रमा की उपासना की जाती है।

आज से फाल्गुन की शुरुआत, जानें धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व


फाल्गुन में होली का त्यौहार भी मनाया जाता है। फाल्गुन माह में भगवान श्री कृष्ण की उपासना विशेष फलदायी है। इस माह से खानपान और जीवनचर्या में बदलाव करना चाहिए। इस माह में भोजन में फलों का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए।



source https://www.patrika.com/religion-news/moon-was-born-in-phalguna-month-5754190/

Comments