शीतला सप्तमी व्रत किया जाएगा 15 को और शीतलाष्टमी 16 को

जीवन मंत्र डेस्क. चैत्र माह के कृष्णपक्ष की सप्तमी और अष्टमी यानी होली के बाद सातवें या आठवें दिन शीतला माता का व्रत और पूजा की जाती है। जिसे शीतला सप्तमी या शीतलाष्टमी नाम से जाना जाता है। वहीं कुछ स्थानों पर इनकी पूजा होली के बाद पड़ने वाले पहले सोमवार या गुरुवार के दिन ही की जाती है। शीतला माता का उल्लेख स्कंद पुराण में मिलता है। माना जाता है कि इनकी पूजा और ये व्रत करने से चेचक एवं अन्य तरह की बीमारियां और संक्रमण नहीं होता है।


केवल इसी व्रत में किया जाता है ठंडा भोजन

शीतला माता का ही व्रत ऐसा है जिसमें शीतल यानी ठंडा भोजन किया जाता है। इस व्रत पर एक दिन पूर्व बनाया हुआ भोजन करने की परंपरा है। इसलिए इस व्रत को बसौड़ा या बसियौरा भी कहा जाता है। माना जाता है कि ऋतुओं के बदलने पर खान-पान में बदलाव किया जाता है। इसलिए ठंडा भोजन करने की परंपरा बनाई गई है। धर्म ग्रंथों के अनुसार शीतला माता की पूजा और इस व्रत में ठंडा भोजन करने से संक्रमण एवं अन्य तरह की बीमारियां नहीं होती।

शीतला सप्तमी और अष्टमी

  • शीतला माता की पूजा और व्रत के लिए चैत्र माह के कृष्णपक्ष की सप्तमी तिथि श्रेष्ठ बताई गई है। कहीं कहीं अष्टमी तिथि पर भी शीतला माता का व्रत और पूजा की जाती है। इसलिए इस बार ये तिथियां 15 और 16 मार्च को रहेंगी। चुंकि सप्तमी तिथि के स्वामी सूर्य और अष्टमी के देवता रूद्र होते हैं। दोनों ही उग्र देव होने से इन दोनों तिथियों में शीतला माता की पूजा की जा सकती है।
  • मुहूर्त चिंतामणी ज्योतिष ग्रंथ के अनुसार इस व्रत में सूर्योदय व्यापिनी तिथि ली जाती है। इसलिए सप्तमी पर पूजा और व्रत 15 मार्च को किया जाना चाहिए। इसी तरह शीतलाष्टमी 16 मार्च को मनाई जानी चाहिए।

शीतला सप्तमी 15 मार्च, रविवार

सप्तमी तिथि प्रारम्भ - 15 मार्च को सुबह 04:25 पर
सप्तमी तिथि समाप्त - 16 मार्च को सुबह 04:10 पर

शीतला अष्टमी 16 मार्च, सोमवार
अष्टमी तिथि प्रारम्भ - 16 मार्च को सुबह 04:11 पर
अष्टमी तिथि समाप्त - 17 मार्च को सुबह 04 बजे



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Sheetla Saptami Ashtami Vrat Vidhi 2020: Sheetla Mata Ashtami Fasting Rules, Sheetla Fast (Upvas) Rules and Significance, Sheetla Vrat Mahatva and Katha


Comments