पापमोचनी एकादशी, जानें व्रत तारीख, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

पापमोचनी एकादशी चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पड़ती है। इस एकादशी का बहुत महत्व माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाए तो व्यक्ति को पापों से मुक्ति मिलती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पापमोचिनी एकादशी का व्रत करने वाले को सहस्त्र अर्थात् हजार गायों के दान का फल मिलता है। पौराणिक शास्त्रों में इस एकादशी का महत्व मिलता है। आइए जानते हैं क्या करें एकादशी के दिन, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

 

पढ़ें ये खबर- नहाते समय बोल दें ये चमत्कारी मंत्र, पैसों की किल्लत हो जाएगी खत्म

papmochani_ekadashi3.jpg

शास्त्रों के अनुसार अगर पापमोचनी एकादशी के दिन इस व्रत को करने से भक्तों को बड़े से बड़े यज्ञों के समान फल की प्राप्ति होती है। पापमोचिनी एकादशी का व्रत करने से ब्रह्म ह्त्या, सुवर्ण चोरी, सुरापान और गुरुपत्नी गमन जैसे महापाप भी इस व्रत को करने से दूर हो जाते हैं।

 

पापमोचनी एकादशी व्रत तिथि व शुभ मुहूर्त-

पापमोचनी एकादशी व्रत तिथि 19 मार्च 2020
पापमोचनी एकादशी व्रत पारण मुहूर्त
पापमोचनी एकादशी पारणा मुहूर्त :13:41:30 से 16:07:07 तक, 20 मार्च 2020

papmochini_ekadashi2.jpg

पापमोचनी एकादशी के दिन इस विधि से रखें व्रत

1. पापमोचनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के चतुर्भुज रूप की पूजा की जाती है।

2. व्रत दशमी तिथि से शुरु हो जाता है। उस दिन एक बार सात्विक भोजन करे और मन से भोग विलास की भावना को निकालकर भगवान श्री विष्णु की प्रार्थना करें।

3. एकादशी के दिन प्रातः काल स्नान करके व्रत का संकल्प करें। संकल्प के उपरान्त षोड्षोपचार सहित विष्णु जी की पूजा करें।

4. पूजा के बाद भगवान के सामने बैठकर व्रत की कथा का पाठ करें और सुनें।

5. एकादशी के दिन जागरण करने से कई गुणा पुण्य मिलता है, इसलिए रात को जागरण कर भजन कीर्तन करें।

6. द्वादशी के दिन प्रात: स्नान करके विष्णु भगवान की पूजा करें फिर ब्रह्मणों को भोजन करवाकर दक्षिणा सहित विदा करें और व्रत खोल लें।



source https://www.patrika.com/festivals/papmochani-ekadashi-2020-know-date-shubh-muhurt-and-puja-vidhi-5894107/

Comments