शीतलाष्टमी आज : ऐसी पूजा से पाएं माँ शीतला की कृपा, पूरे होंगे सारे काम

आज चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को शीतला अष्टमी मनाई जा रही है। अगर आप माता शीतला की कृपा पाना चाहते हैं तो आज के दिन माता की इस विधि विधान से पूजा करें, माँ शीतला सभी कामनाएं पूरी कर देंगी। जानें पूजा विधि एवं महत्व।

संकट हरेंगे संकट मोचन हनुमान, केवल 7 दिन कर लें यह काम

माता शीतला को देश कई राज्यों में अलग अलग नामों से जाना व पूजा जाता है- जैसे- शीतला माता, बसौड़ा, बसोरा आदि। शीतला माता को चेचक जैसे रोग की देवी माना जाता है। यह हाथों में कलश, सूप, मार्जन (झाड़ू) और नीम के पत्ते धारण किए होती है। गर्दभ की सवारी किए यह अभय मुद्रा में विराजमान है।

शीतलाष्टमी आज : ऐसी पूजा से पाएं माँ शीतला की कृपा, पूरे होंगे सारे काम

मीठे चावल का प्रसाद है मुख्य भोग

शीतला अष्टमी के दिन शीतला माता की पूजा के समय उन्हें खास मीठे चावलों का भोग चढ़ाया जाता है। ये चावल गुड़ या गन्ने के रस से बनाए जाते हैं, इन्हें सप्तमी की रात को बनाया जाता है। इसी प्रसाद को घर में सभी सदस्यों को खिलाया जाता है। शीतला अष्टमी के दिन घर में ताज़ा खाना नहीं बनता।

कोरोना वायरस से बचने का छोटा सा तांत्रिक मंत्र : रोज सुबह शाम केवल इतनी बार जपे

ऐसे करें शीतला माता की पूजा

सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर नहाएं, पूजा की थाली तैयार करें, थाली में दही, पुआ, रोटी, बाजरा, सप्तमी को बने मीठे चावल, नमक पारे और मठरी रखें। दूसरी थाली में आटे से बना दीपक, रोली, वस्त्र, अक्षत, हल्दी, मोली, होली वाली बड़कुले की माला, सिक्के और मेहंदी रखें। दोनों थाली के साथ में लोटे में ठंडा पानी रखें। शीतला माता की पूजा करें और दीपक को बिना जलाए ही मंदिर में रखें। माता को सभी चीज़े चढ़ाने के बाद खुद और घर से सभी सदस्यों को हल्दी का टीका लगाएं। अब हाथ जोड़कर माता से प्रार्थना करें और 'हे माता, मान लेना और शीली ठंडी रहना' कहें।

शीतलाष्टमी आज : ऐसी पूजा से पाएं माँ शीतला की कृपा, पूरे होंगे सारे काम

आज के दिन घर में पूजा करने के बाद माता के मंदिर में भी पूजा करें। मंदिर में पहले माता को जल चढ़ाएं, रोली और हल्दी के टीका करें। मेहंदी, मोली और वस्त्र अर्पित करें। बड़कुले की माला व आटे के दीपक को बिना जलाए अर्पित करें। अंत में वापस जल चढ़ाएं और थोड़ा जल बचाएं. इसे घर के सभी सदस्य आंखों पर लगाएं और थोड़ा जल घर के हर हिस्से में छिड़कें। इसके बाद जहां होलिका दहन हुआ था वहां पूजा करें, थोड़ा जल चढ़ाएं और पूजन सामग्री चढ़ाएं। घर आने के बाद पानी रखने की जगह पर पूजा करें। पूजन के बाद अगर पूजा की सामग्री बच जाएं तो उसे गाय को खिला दें।



source https://www.patrika.com/festivals/sheetala-ashtami-puja-vidhi-16-march-2020-5897701/

Comments