चैत्र अमावस्या का ये टोटका दिलाएगा मनचाही नौकरी, करेगा हर इच्छा पूरी

साल 2020 में चैत्र मास की अमावस्या 24 मार्च दिन मंगलवार को हैं। चैत्र मास की अमावस्या से ठीक दूसरे ही दिन से माँ दुर्गा की आराधना का सबसे बड़ा महापर्व चैत्र नवरात्रि की शुरुआत भी होती है। अगर किसी के जीवन में नौकरी, व्यापार से संबंधित परेशानी चल रही हो तो इस चैत्र अमावस्या के दिन ये टोटका जरूर करें। धर्म शास्त्रों के अनुसार अमावस्या तिथि को किए गए उपाय उपायकर्ता की सभी कामनाएं पूरी करते हैं।

पापमोचिनी एकादशी व्रत पूजा विधि, मुहूर्त और महत्व

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, चैत्र मास की अमास्या तिथि को मनोकामना पूर्ति के जो भी उपाय किये जाते हैं वे कभी भी निष्फल नहीं होते। चैत्र मास की अमावस्या की रात को अपने घर में इन पांच स्थानों पर गाय के घी के एक-एक दीपक जलाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा हमेशा के लिए नष्ट हो जाती है। कहा जाता है जहां नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है वहां लक्ष्मी कभी निवास नहीं करती है और घर के सदस्यों को अनेक तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

पापमोचिनी एकादशी : जाने-अंजाने में हुए पापों से पाना है मुक्ति तो जरूर करें यह उपाय

चैत्र अमावस्या के दिन घर में यहां करें उपाय

1- चैत्र अमावस्या को सूर्यास्त के समय घर के मंदिर पूजा स्थल में एक दीपक गाय के घी का जलाने से घर में अचानक धन की आवक बढ़ने लगती है।

2- चैत्र अमावस्या को सूर्यास्त के बाद घर के आंगन में लगी तुलसी में गाय के घी का दीपक जलाने से घर में सुख-शांति व समृद्धि का वातावरण बनने लगता है।

साक्षात दर्शन देंगे शिरडी के साईंनाथ गुरुवार को केवल एक बार कर लें यह काम

3- अमावस्या की रात पीपल के पेड़ के नीचे पितृ दोष, विवा बाधा, नौकरी, व्यापार आदि की सफलता के लिए सरसों के तेल का दीपक जलावें। इस उपाय से अचानक ही गुप्त धन की प्राप्ति होती है।

4- चैत्र मास की अमावस्या की रात को अपने घर की छत पर एक दीपक जलाने से घर में माँ लक्ष्मी की कृपा से आजीवन धन की कमी नहीं रहती।

5- चैत्र अमावस्या की रात को घर के मुख्य द्वार के दोनों तरफ एक-एक दीपक घी का जलाने से धन आवक के सारे रास्ते खुल जाते हैं। घर में हमेशा माँ लक्ष्मी निवास करने लगते हैं।

*********

चैत्र अमावस्या का ये टोटका दिलाएगा मनचाही नौकरी, करेगा हर इच्छा पूरी

source https://www.patrika.com/dharma-karma/chaitra-amavasya-2020-dhan-prapti-ke-upay-5906974/

Comments