निर्धनों को धन, निःसंतानों संतान, इस नवरात्रि सबकी इच्छा पूरी करेंगी माँ दुर्गा

25 मार्च से चैत्र नवरात्रि पर्व शुरू हो गया है, जो आगामी 2 अप्रैल तक रहेगा। नवरात्रि काल में श्रद्धालु अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए तरह-तरह के उपाय, मंत्रों का जप कर माता को प्रसन्न करते हैं। इस नवरात्रि माँ दुर्गा निर्धनों को धन, निसंतानों को संतान की प्राप्ति के साथ अनेक कामनाएं पूरी कर देंगी। अपनी सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए माता के इन मंत्रों के जप जरूर करें।

अपने घर में ही ऐसे करें माँ दुर्गा की पूजा और व्रत

जीवन की समस्याओं से उभरने के लिए व्यक्ति अनेक प्रयास करता है पर कुछ ही लोगों की समस्याएं खत्म हो पाती है। शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि काल और उसमें भी चैत्र नवरात्रि के नौ दिन एक ऐसा विशेष समय होता जिसमें श्रद्धा पूर्वक माँ दुर्गा की शरण में जाकर इन मंत्रों का जप करके अपनी परेशानियों से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है।

चैत्र नवरात्र : माँ दुर्गा की कामना पूर्ति चमत्कारी स्तुति

 

1- धन प्राप्ति के लिए नौ दिनों तक हर रोज चैत्र नवरात्रि में अगर घर का मुखिया या परिवार के अन्य सदस्य अपनी गरीबी को दूर के लिए माँ दुर्गा के इस मंत्र की एक या तीन माला जप करें। माता दुर्गा की कृपा से निर्धनता से हमेशा के लिए मुक्ति मिलेगी।

मंत्र-

ॐ दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तोः।

स्वस्थैः स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि।।

चैत्र नवरात्रि में महिलाएं माता रानी को चढ़ा दे ये चीज, होने लगेगी बरकत

2- निःसंतान माताएं संतान सुख की कामना से इस चैत्र नवरात्रि में इस मंत्र का जप 5 माला माँ दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति के सामने बैठकर करें। ऐसा करने से निश्चित ही माँ दुर्गा की कृपा से संतान सुख की प्राप्ति होगी।

मंत्र

ॐ सर्वाबाधा वि निर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वितः।

मनुष्यो मत्प्रसादेन भवष्यति न संशय॥

Chaitra Navratri : बुधवार 25 मार्च से चैत्र नवरात्रि शुरू, जानें शुभ मुहूर्त

3- अगर अन्य कोई और कामना की पूर्ति चाहते हो तो इस चैत्र नवरात्रि में इस मंत्र का जप 108 बार करें।

मंत्र

ऊँ गिरजायै विद्महे शिव प्रियायै धीमही तन्नों दुर्गा प्रयोदयात।

*******************

निर्धनों को धन, निःसंतानों संतान, इस नवरात्रि सबकी इच्छा पूरी करेंगी माँ दुर्गा

source https://www.patrika.com/dharma-karma/chaitra-navratri-kamna-purti-durga-mantra-jaap-in-hindi-5928337/

Comments