चैत्र नवरात्रि की अष्टमी तिथि को ऐसे करें गणेश जी की सर्व कामना पूर्ति पूजा और इस मंत्र का जप

बुधवार 1 अप्रैल को चैत्र नवरात्रि की अष्टमी तिथि है, इस दिन माँ महौगौरी के पूजन के साथ गौरी पुत्र श्रीगणेश जी का भी पूजन करने से प्रसन्न होकर गणेश जी सभी कामना पूरी कर देते हैं। अष्टमी तिथि के दिन विधिवत गणेश पूजन के साथ नीचे दिए गए गणेश मंत्रों का जप करें। गणेश मंत्र जप के बाद माता महागौरी के बीज मत्र का जप भी करें।

दुर्गा नवमी : अपनी राशि के अनुसार करें ये उपाय, पूरे साल बनी रहेगी माता रानी की कृपा

कामना पूर्ति श्रीगणेश मंत्र

1- मुकदमे में सफलता प्राप्त करने के लिए इस मंत्र का जप करें।

।। ॐ वर वरदाय विजय गणपतये नमः ।।

2- वाद-विवाद, कोर्ट कचहरी में विजय प्राप्ति के लिए एवं शत्रु भय से छुटकारा पाने के लिए इस मंत्र को जपें।

।। ॐ गं गणपतये सर्वविघ्न हराय सर्वाय सर्वगुरवे लम्बोदराय ह्रीं गं नमः ।।

3- इस मंत्र के जप से यात्रा में सफलता मिलती है।

।। ॐ नमः सिद्धिविनायकाय सर्वकार्यकर्त्रे सर्वविघ्न प्रशमनाय सर्व राज्य वश्य कारनाय सर्वजन सर्व स्त्री पुरुषाकर्षणाय श्री ॐ स्वाहा।।

4- यह हरिद्रा गणेश साधना का चमत्कारी मंत्र हैं, इसके जप से सर्वत्र मंगल ही मंगल होता है।

।। ॐ हुं गं ग्लौं हरिद्रा गणपत्ये वरद वरद सर्वजन हृदये स्तम्भय स्वाहा ।।

चैत्र नवरात्रि की अष्टमी तिथि को ऐसे करें गणेश जी की सर्व कामना पूर्ति पूजा और इस मंत्र का जप

5- इस मंत्र का श्रद्धापूर्वक जप करने से गृह कलेश दूर होता है एवं घर में सुखशान्ति बनी रहती है।

।। ॐ ग्लौं गं गणपतये नमः ।।

6- इस मंत्र के जप से दरिद्रता का नाश होकर, धन प्राप्ति के प्रबल योग बनने लगते हैं।

।। ॐ गं लक्ष्म्यौ आगच्छ आगच्छ फट् ।।

7- व्यापार से सम्बन्धित बाधाएं एवं परेशानियां निवारण एवं व्यापर में निरंतर उन्नति हेतु।

।। ॐ गणेश महालक्ष्म्यै नमः ।।

8- भयानक असाध्य रोगों से परेशानी होने पर, उचित ईलाज कराने पर भी लाभ प्राप्त नहीं हो रहा हो, तो पूर्ण विश्वास सें इस मंत्र का जप करने से या किसी साधक से करवाने पर रोगी धीरे-धीरे रोगी रोग मुक्त हो जाता है।

। । ॐ गं रोग मुक्तये फट् ।।

**********

नवरात्रि के आठवें दिन होती है पूजा माता महागौरी की पूजा

माता महागौरी के इस मंत्र का ऐसे करें जप

गाय के घी का दीपक जालकर, माता महागौरी का विधिवत आवाहन पूजन कर सभी कामनाओं की पूर्ति के लिए इस मंत्र का जप 108 बार करें।

"ॐ अंग ह्रींग क्लींग चामुण्डायै विच्चे ।

*********



source https://www.patrika.com/dharma-karma/chaitra-navratri-ganesh-puja-for-durga-ashtami-1-april-2020-5951320/

Comments