हनुमान जी करेंगे मंगल ही मंगल, मंगलवार की शाम जरूर करें ये काम

आज 17 मार्च को चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मंगलवार का शुभ दिन है। इस दिन कामना पूर्ति के लिए महाबली हनुमान जी की विशेष पूजा अर्चना करने का विधान है। अगर किसी के जीवन में बार-बार कष्ट, बाधाओं के साथ, धन आवक में वृद्धि भी नहीं हो रही हो तो मंगलवार की शाम को जरूर करें ये महाउपाय। मंगल को प्रसन्न होकर हनुमान जी करेंगे मंगल ही मंगल।

चैत्र नवरात्रि : पाना है माँ दुर्गा की भरपूर कृपा तो अभी से हो जाए तैयार

मंगलवार की शाम को करें ये महाउपाय

1- मंगलवार को सूर्यास्त के बाद किसी भी प्राचीन हनुमान मंदिर में बैठकर इस मंत्र का 108 बार जप करने से अनेक कामनाएं पूरी होने लगती है।

मंत्र- ऊँ रामदूताय नम:।।

2- मंगलवार को विधिवत हनुमान जी का पूजन करने के बाद, सुंदरकांड एवं श्री हनुमान चालीसा का पाठ करने से प्रसन्न होकर हनुमान जी सभी ज्ञात-अज्ञात पापों से मुक्ति दिलाते हैं।

हनुमान जी करेंगे मंगल ही मंगल, मंगलवार की शाम जरूर करें ये काम

3- मंगलवार के दिन हनुमानजी के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाकर उसमें 2 लौंग डालने से धन संबंधित सभी समस्या खत्म होने लगती है।

4- मंगलवार की शाम को हनुमानजी की प्रतिमा के सामने बैठकर रामायण और श्रीराम रक्षा स्त्रोत का पाठ करने से कष्ट, बाधाएं दूर होती है।

हनुमान जी करेंगे मंगल ही मंगल, मंगलवार की शाम जरूर करें ये काम

5- मंगलवार को सूर्यास्त के तुरंत बाद हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाने से व्यक्ति के भाग्य का उदय होता है।

6- मंगलवार के दिन रक्त दान करने से भविष्य में होने वाली दुर्घटनाओं से रक्षा होती है।

हनुमान जी करेंगे मंगल ही मंगल, मंगलवार की शाम जरूर करें ये काम

7- मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर में गाय के घी का पांच बत्ती वाला दीपक जलाने से शत्रुओं पर विजय मिलती है।

8- मंगलवार के दिन हनुमानजी को लाल लंगोट चढ़ाने से अचानक व्यापार में वृद्धि होने लगती है।

हनुमान जी करेंगे मंगल ही मंगल, मंगलवार की शाम जरूर करें ये काम

9- मंगलवार के दिन किसी भी हनुमान मंदिर की छत पर लाल झंडा लगाने से जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं।

10- मंगलवार के दिन गंभीर बीमारियों से मुक्ति के लिए किसी गरीब बीमार व्यक्ति को दवाइयों का दान जरूर करें।

********************



source https://www.patrika.com/dharma-karma/mangalwar-hanuman-ji-ke-achuk-upay-5901736/

Comments