#Navratri2020: बुधवार से शुरू होगी नवरात्रि, जानिए शुभ मुहूर्त व पूजा की विधि

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के कहर के बीच नवरात्रि की शुरुआत 25 मार्च यानी बुधवार को हो रही है। 9 दिनों तक चलने वाली नवरात्रि आखिरी दिन 2 अप्रैल गुरुवार को रामनवमी मनाई जाएगी। हिंदी पंचांग के अनुसार प्रतिपदा तारीख से भारतीय नववर्ष की शुरुआत होगी जिसे नव संवत्सर 2077 कहां जाएगा। इसे बसंती नवरात्र भी कहा जाता है क्योंकि यह वसंत ऋतु में आता है। नौ दिनों के व्रत के बाद रखते हैं, लोग कलश स्थापना करते हैं। अष्टमी के दिन कन्या पूजन का विधान है। इस दिन भगवान श्रीराम का जन्म हुआ था।

जानिए शुभ मुहूर्त

पंडितों के मुताबिक 25 मार्च यानी बुधवार के दिन 05 बजकर 57 मिनट पर सूर्योदय होगा, इसके पश्चात कलश स्थापना किया जा सकता है। यदि आप अभिजीत मुहूर्त में कलश स्थापना करना चाहते हैं, तो दिन में 11 बजकर 36 मिनट से दोपहर 12 बजकर 24 मिनट तक कलश स्थापित कर लेना उत्तम रहेगा।

पूजा विधि
25 मार्च को सुबह दैनिक नित्यकर्म कर स्नानादि कर मां दुर्गा, भगवान गणेश, नवग्रह के साथ मिट्टी का कलश की स्थापना करें। कलश के ऊपर रोली से ॐ और स्वास्तिक आदि लिख दें ।
- कलश में जल, गंगाजल, लौंग, इलायची,पान, सुपारी, रोली, मोली, चन्दन, अक्षत, हल्दी, रुपया पुष्पादि डालें।
- जौ अथवा कच्चा चावल कटोरे मे भरकर कलश के ऊपर रखें और अब उसके ऊपर चुन्नी से लिपटा हुआ नारियल रखें ।
- अपने पूजा स्थल से दक्षिण और पूर्व की तरफ घी का दीपक जलाए।
- फिर इसके बाद दुर्गासप्तशी का पाठ करें।

इस मंत्र का करें जाप

शशि सूर्ये गजारूढ़ा शनिभौमे तुरंगमे | गुरौ शुक्रे च डोलायां बुधे नौका प्रकीर्त्तिता' |
गजे च जलदा देवी छत्र भंगस्तुरंगमे | नौकायां सर्वसिद्धि स्यात डोलायां मरण ध्रुवम्



source https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/chaitra-navratri-2020-shubh-muhurat-2020-and-puja-vidhi-5923708/

Comments