मंगलवार 21 अप्रैल को मासिक शिवरात्रि, जानें व्रत व पूजा विधि

मंगलवार 21 अप्रैल को वैशाख मास की मासिक शिवरात्रि है। इस दिन भगवान शंकर का विशेष पूजन करने का विधान है। अगर इस मासिक शिवरात्रि के दिन षोडशोपचार विधि से भगवान शिव का पूजन व अभिषेक किया जाए तो वे प्रसन्न होकर मनवांछित कामनाएं पूरी होने का आशीर्वाद देते हैं। वैशाख मास की मासिक शिवरात्रि के दिन इस विधान से करें भोलेनाथ का पूजन।

भगवान नृसिंह के इस मंत्र का जप, करता है शत्रुओं से रक्षा

वैशाख महीने की मासिक शिवरात्रि के दिन शिवजी का अभिषेक करने से जीवन की अनेक बाधाएं दूर हो जाती है। अगर किसी व्यक्ति की कोई खास मनोकामना है, जो पूरी नहीं हो पा रही हो तो इस मासिक शिवारात्रि के दिन सूर्योदय एवं सूर्यास्त, दोनों ही समय किसी प्राचीन शिव मंदिर या अपने घर पर ही शिवलिंग का गन्ने के ताजे रस या फिर देसी गाय के ताजे दुध से अभिषेक करें। अभिषेक करते समय- ऊँ नमः शिवाय मंत्र का उच्चारण 108 बार करते रहे। शिव कृपा बरसने लगेगी।।

मंगलवार 21 अप्रैल को मासिक शिवरात्रि, जानें व्रत व पूजा विधि

मासिक शिवरात्रि पूजन विधि

मासिक शिवरात्रि के दिन प्रातः काल स्नान करके भगवान शिव मंदिर जाकर विधिवत बेल पत्र, दुग्ध, गंगा जल, शहद, पुष्प इत्यादि से भगवान का पूजन करें।

1- सूर्योदय के बाद शिवलिंग का पंचोपचार (जल, चावल, पुष्प, धुप-दीप एवं मिष्ठान) आदि से पूजन करें।

2- गाय के घी का दीपक जलाएं।

3- पीले कनेर के पुष्प व माला शिवलिंग को पहनाएं।

4- केसर युक्त चावल की खीर का भोग शिवजी को लगाएं।

5- ॐ नमः शिवाय मंत्र का 108 बार जप करें।

6- अगर किसी को कोई रोग हो तो वे कुश से रुद्राभिषेक करते हुए महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण करते रहे।

मंगलवार 21 अप्रैल को मासिक शिवरात्रि, जानें व्रत व पूजा विधि

मासिक शिवरात्रि के दिन इन कामों को करने से बचें

1- शिवलिंग पर तुलसी पत्ता भूलकर भी नहीं चढ़ाएं।

2- इस दिन किसी की निंदा भी ना करें।

3- इस दिन झूठ बोलने से बचें।

4- मासिक शिवरात्रि के दिन शिवजी को तिल भी नहीं चढ़ाना चाहिए।

5- इस दिन शिवलिंग पर सिंदूर भी नहीं चढ़ाना चाहिए

*********



source https://www.patrika.com/festivals/masik-shivratri-vrat-puja-vidhi-tusday-21-april-2020-6019374/

Comments