हनुमानजी के ये हैं चमत्कारिक मंंदिर, जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

श्रीराम भक्त हनुमान चिरंजीवी माने जाने के साथ ही कलयुग का देवता भी माना जाता है। कहा जाता है कि कलयुग में जहां दृश्य देव के रूप में आदि पंच देवों में से केवल सूर्य ही हर किसी को दिख सकते हैं। वहीं मान्यता के अनुसार कलयुग में श्रीगणेश व हनुमान ही मुख्य देव हैं। जो आसान से प्रसन्न किए जा सकते हैं।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार कलयुग में हनुमान जी सर्वाधिक उपास्य देवता हैं। वे शक्ति के आधार, तेज की साकार प्रतिमा और साहस के प्रतीक हैं। उनका नाम लेने से ही सब संकट टल जाते है, इसलिए उन्हें संकटमोचन भी कहा जाता है। वे शिव के अवतार हैं और वेद वेदाग, ज्योतिष, योग, व्याकरण, संगीत, अध्यात्म और मल्ल विधा के आचार्य है। राजनीति व रणनीति में भी वे कुशल है।

जानकारों के मुताबिक सनातन धर्म को मानने वालों के अनुसार भगवान भी अपने भक्तों पर कृपा बनाए रखने के लिए समय समय पर अपनी मौजूदगी का अहसास कराते हैं। हनुमान जी वैसे भी मंगलकारी माने जाते हैं। कई धार्मिक ग्रंथ भी बजरंगबली के चमत्कारी किस्सों से भरे हुए है।

MUST READ : रामायण के वे दमदार पात्र जो महाभारत काल में भी रहे मौजूद

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/mahabharata-after-ramayana-mythological-characters-who-present-in-both-6019916/

इनमें हनुमानजी बहुत शक्तिशाली और चमत्कारी बताए गए हैं। उनके डर से तो भूत-प्रेत भी भयभीत रहते हैं लेकिन वर्तमान समय में भी उनके वह अपने चमत्कार से अपने भक्तों पर अपनी दयादृष्टि बनाए हुए हैं। आज हम आपको हनुमान जी के मौजूद कुछ चमत्कारी मंदिरों के बारे में बताएंगे। इन मंदिरों के संबंध में माना जाता है कि यहां बजरंगबली अपने चमत्कार से श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।

हनुमान बताते हैं भविष्य:-
भारत में एक ऐसा मंदिर भी है जहां पर मान्यता है कि मंदिर में स्थापित हनुमानजी अपने भक्तों को भविष्य बताते हैं। शाजापुर जिले के बोलाई गांव में स्थित हनुमान जी के सिद्धवीर खेड़ापति मंदिर की कहानी कुछ ऐसी ही है। मंदिर करीब 600 साल पुराना बताया जाता है।

सुनने में यकीन करना मुश्किल हो सकता है लेकिन लोगों में इस मंंदिर की आस्था इतनी गहरी है कि लोगों को लगता है कि यहां बजरंग बलि उन्हें भविष्य के बारे में आगाह करते हैं। जो भी भक्त यहां दर्शन करने के लिए आता है, उसे अपने जीवन में घटित होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास हो जाता है। मंदिर में आ चुके कई लोग बताते हैं कि यहां आने के बाद उन्हें ऐसा महसूस हुआ है। इसी वजह से लोगों का इस मंदिर पर विश्वास और मजबूत हो गया है।

MUST READ : दुनिया के प्रमुख शिवलिंग, जानिये क्या है इनकी खासियत

https://www.patrika.com/pilgrimage-trips/world-s-most-amazing-shivling-s-6018761/

ट्रेन की रफ्तार अपने आप हो जाती है कम
जिस तरह लोगों को लगता है कि हनुमान जी यहां पर भविष्य के बारे में जानकारी देते हैं। उसी तरह इसी मंदिर के प्रति लोगों की एक अनोखी आस्था और विश्वास भी है। शायद कम ही लोग हनुमान जी के द्वारा किए जाने वाले चमत्कार पर यकीन करें। फिर भी मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले में स्थित इस हनुमान मंदिर के पास से गुजरने वाली ट्रेन की रफ्तार अपने आप ही कम हो जाती है।

आज इतने वर्षों के बाद भी लोगों की इस मंदिर के प्रति आस्था नहीं कम हुई है। दूर-दूर से लोग इस मंदिर में हनुमान जी के इस चमत्कार को देखने आते हैं। मंदिर इसलिए भी खास है, क्योंकि यहां हनुमान जी की प्रतिमा के बाईं ओर गणेश जी की मूर्ति भी स्थापित की गई है। गांव के निवासी मानते हैं कि मंदिर में एक साथ गणेश जी और हनुमान जी का विराजमान होना शुभ संकेत है। मान्यता है कि यहां दर्शन करने के बाद मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।

चमत्कारों की इस तरह हुई शुरुआत
कई वर्षों से सिद्धवीर हनुमान मंदिर में सेवा करने वाले पुजारी इस बारे में बताते हैं कि यहां से गुजरने वाले ट्रेन के लोको पायलट भी इस अजीबो-गरीब किस्से के बारे में बताते हैं। मंदिर के पास आते ही लोको पायलट को महसूस होता है कि मानो कोई उन्हें ट्रेन की गति कम करने के लिए बोलता है।

अगर वह इस आवाज को अनसुना करके रफ्तार कम नहीं करते हैं तो मंदिर के करीब आते ही ट्रेन की गति स्वयं ही कम हो जाती है। यहां के निवासी बताते हैं कि एकबार यहां दो मालगाड़ियां आपस में टकरा गईं थी। लोको पायलट का कहना था कि उन्हें इस घटना के बारे में पहले ही आभास हो गया था। टकराने के बाद उसे लगा कि कोई बोल रहा है कि ट्रेन की गति धीरे कर लो,लेकिन उन्होंने उस ओर ध्यान नहीं दिया, जिस वजह से यह दुर्घटना हो गई।

यहां टूटी हड्डियों का इलाज करते हैं हनुमान जी :-
मध्यप्रदेश के ही कटनी जिले से 35 किलोमीटर की दूरी पर मोहास गांव में भी हनुमान जी का एक चमत्कारी मंदिर है। इस मंदिर में हनुमान जी का एक और चमत्कारी स्वरूप है। मंदिर में हनुमान जी का चमत्कार देखने हजारों की भीड़ लगती है।

मान्यता है कि यहां आने वाले लोग खाली हाथ में नहीं जाता है। दरअसल कहा जाता है कि इस मंदिर में हनुमान वैद्य या डॉक्टर की तरह मरीजों का इलाज करते हैं। इस मंदिर में जिन लोगों के शरीर की हड्डियां दुर्घटनावश टूट-फूट जाती हैं वह इसके उपचार के लिए यहां आते हैं। अपनी टूटी हड्डियों की बीमारी से ग्रस्त कई लोग तो यहां एंबुलेंस और स्ट्रेचर से भी आते हैं। मान्यता है हनुमान जी के चमत्कार से लोगों की टूटी हड्डियां जुड़ जाती हैं।

इस तरह होता है उपचार का ‘चमत्कार’
यहां आने वाले लोगों की श्रद्धा इतनी गहरी है कि लोग मानते हैं कि महावीर हनुमान अपनी दिव्य शक्ति से लोगों की हड्डियां जोड़ते हैं। इसलिए हनुमान जी का यह मंदिर हड्डी जोड़ने वाले हनुमान के नाम से भी प्रसिद्ध है। मंदिर के बाहर बनी दुकानों पर हड्डियों के दर्द से राहत पाने के लिए तेल भी मिलते हैं।

मंदिर में आगमन के बाद मरीज को आंख बंद करके मंत्र जाप करने को कहा जाता है। जैसे ही वह इसमें लीन हो जाता है, तभी वहां मौजूद पुजारी और सहयोगी उसे वहां की आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों से बनी कोई औषधि खिलाते हैं। यह औषधि अच्छी तरह चबाकर खानी होती है। लोगों का मानना है कि इसके बाद औषधि के प्रभाव और हनुमान जी की कृपा से टूटी हुई हड्डियां जुड़ जाती हैं। खास बात यह है कि यह प्राकृतिक औषधि होती है और निशुल्क मिलती है। हालांकि भक्त जो श्रद्धानुसार देना चाहे वो दानपेटी में डाल देते हैं।

‘जोड़ियां’ बनाते हैं बजरंग बली :-
मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित हनुमान जी का यह मंदिर लोगों की शादियां कराने के लिए प्रसिद्ध है। रामदूत श्री हनुमान वैसे तो बाल ब्रह्मचारी माने जाते हैं लेकिन जबलपुर के आगासौद गांव में प्राचीन हनुमान मंदिर में हनुमान जी भक्तों की शादियां कराते हैं।

जी हां, यहां जो भी आकर अपनी शादी की अर्जी लगाता है, उसकी शादी बजरंग बली बिना किसी अड़चन पूरी करवाते हैं। लोगों की मंदिर पर इतनी श्रद्धा है कि वह मानते हैं हनुमान जी अर्जी लगाने के 90 दिन के अंदर ही शादी करवा देते हैं। जिस वजह से यह मंदिर ‘शादी वाले हनुमान वाले मंदिर’ के नाम से भी जाना जाता है।

लाल कपड़े में बंधा नारियल करवाता है हाथ ‘पीले’
हनुमान जी के इस चमत्कार के बारे में कहा जाता है कि इस मंदिर में विवाह के लिए प्रार्थना करने पर जल्द ही कुंवारे स्त्रियों-पुरुषों के हाथ पीले हो जाते हैं। मंदिर में शादी की मनोकामना पूरी करने की प्रक्रिया भी काफी दिलचस्प बताई जाती है।

दरअसल विवाह इच्छुक श्रद्धालुओं को तीन बार महावीर के दरबार में आना पड़ता है। सर्वप्रथम यहां आने वाले श्रद्धालु लाल कपड़े में मनोकामना मांग कर नारियल बांधते हैं। मनोकामना पूरी होने के बाद इस नारियल को बजरंगबली को अर्पित किया जाता है।जैसे ही बजरंग बली अर्जी पूरी कर देते हैं इसके बाद यहां हवन किया जाता है हालांकि हवन मंदिर समिति करवाती है।
बताया जाता है कि प्रतिदिन यहां लाखों की संख्या में लोग शादी की मनोकामना मांगने आते हैं। अब तक यहां हनुमान जी की कृपा से सैकड़ों जोड़े परियण-सूत्र में बंध चुके हैं। लोगों का मानना है कि शादी ही नहीं यहां विराजे हनुमान भक्तों के सभी तरह के कष्टों को भी दूर करते हैं।



source https://www.patrika.com/dharma-karma/miraculous-temples-of-hanumanji-6021819/

Comments