अक्षय तृतीया : इनमें से किसी भी एक चीज का दान करने से जन्म जन्मांतरों तक धन की कमी नहीं रहती

इस साल 2020 में 26 अप्रैल दिन रविवार को अक्षय तृतीया का पर्व है। अक्षय तृतीया का पर्व प्रतिवर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार, अक्षय तृतीया के दिन दान करने से अथाह पुण्यफल के साथ अक्षय धन की प्राप्ति होती है। इस दिन किसी भी तरह के शुभ मांगलिक कार्य बिना पंचांग, मुहूर्त देखें किए जाते हैं।

Akshaya Tritiya 2020 : अक्षय तृतीया पर्व पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

अक्षय तृतीया पर्व को अखातीज और वैशाख तीज भी कहा जाता है। यह त्यौहार भारत में एक बड़े पर्व के रूप में भी मनाया जाता है। इस दिन स्नान, दान, जप, हवन आदि करने पर इनका फल अक्षय रूप में प्राप्त होता है।

अक्षय तृतीया

अक्षय तृतीया के दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है। सतयुग और त्रेता युग का प्रारंभ इसी तिथि से हुआ था, ऐसा माना जाता है। भगवान विष्णु नर-नारायण के रूप में एवं हृयग्रीव और परशुराम का अवतरण भी इसी तिथि को हुआ था। इस दिन सभी विवाहित और अविवाहित बहनें विशेष पूजा भी करती है। अक्षय तृतीया के दिन भगवान गणेशजी एवं माता लक्ष्मी की पूजा भी की जाती हैं। कुछ लोग तो इस दिन महालक्ष्मी मंदिर में जाकर धन प्राप्ति की कामना से चारों दिशाओं में सिक्के उछालते हैं।

अक्षय तृतीया : इनमें से किसी भी एक चीज का दान करने से जन्म जन्मांतरों तक धन की कमी नहीं रहती

अक्षय तृतीया को दान का महत्व

धर्म शास्त्रों के अनुसार, इस खास दिन दान-पुण्य करने से धन-वैभव में वृद्धि होने लगती है। एक प्राचीन कथा के अनुसार, आज ही के दिन भगवान शिव शंकर से कुबेर को धन मिला था और इसी खास दिन भगवान शिव ने माता लक्ष्मी को धन की देवी का आशीर्वाद भी दिया था। इस दिन दान करने से मृत्यु का भय दूर हो जाता है। इस दिन जिस भी चीज का दान किया जाता है, उसके फल मनुष्य को कई जन्मजन्मांतरों तक मिलते रहते हैं।

भगवान परशुराम जयंती 2020 : पर्व पूजा विधि व शुभ मुहूर्त

इन चीजों का करें दान-

1- अक्ष्य तृतीया के दिन गरीब बच्चों को दूध, दही, मक्खन, पनीर आदि का दान करने से विद्या की देवी मां सरस्वती का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है।

2- अक्षय तृतीया के दिन जौ, तिल एवं चावल का दान करने से आजीवन अन्न की कमी नहीं रहती।

3- अक्षय तृतीया के शुभ दिन गंगा, नर्मदा जैसी पावन नदियों में स्नान के बाद सत्तू खाने और जौ और सत्तू दान करने से व्यक्ति अनेक पापों के दुष्फल से मुक्त हो जाते हैं।

******************



source https://www.patrika.com/dharma-karma/akshaya-tritiya-2020-daan-ka-mahatva-in-hindi-6035544/

Comments