जानें कुछ देर मौन बैठने से कैसे बदल जाता है कठिनाईयों से भरा जीवन

धर्म शास्त्र कहते हैं मनुष्य की अधिकतर समस्याओं का समाधान स्वयं मनुष्य के पास ही होता है। अगर किसी के जीवन में कोई कठिनाई चल रही हो तो वे खुद ही अपनी इच्छा से कुछ ही समय में उन कठिनाईयों से मुक्ति पा सकते हैं। इसका सबसे सरल उपाय यह कि वह कुछ समय के लिए पूर्णतः मौन हो जाए, बोलना छोड़ दें और अपने भीतर में ही समाधान का चितंन करें। कुछ दिन ऐसा करने से शीघ्र सकारात्मक परिणाम मिलने लगेंगे। जानें मौन रहने से क्या-क्या फायदे होते हैं।

इस सूर्य स्तुति के पाठ से सूर्य की तरह चमकता है भाग्य

मौन के लाभ- मौन की शुरुआत जुबान के चुप होने से होती है। धीरे-धीरे जुबान के बाद आपका मन भी चुप हो जाता है। मन में चुप्पी जब गहराएगी तो आंखें, चेहरा और पूरा शरीर चुप और शांत होने लगेगा। तब आप इस संसार को नए सिरे से देखना शुरू कर पाएंगे। बिल्कुल उस तरह से जैसे कोई नवजात शिशु संसार को देखता है। जरूरी है कि मौन रहने के दौरान सिर्फ श्वांसों के आवागमन को ही महसूस करते हुए उसका आनंद लें। मौन से मन की शक्ति बढ़ती है। शक्तिशाली मन में किसी भी प्रकार का भय, क्रोध, चिंता और व्यग्रता नहीं रहती। मौन का अभ्यास करने से सभी प्रकार के मानसिक विकार समाप्त हो जाते हैं।

जानें कुछ देर मौन बैठने से कैसे बदल जाता है कठिनाईयों से भरा जीवन

1- संतुष्टि- कुछ न बोलना, यानि अपनी एक सुविधा से मुंह मोड़ना। जी हां, बोलना आपके लिए एक बहुत बड़ी सुविधा ही होती है। जो आपके मन में चल रहा होता है उसे आप तुरंत बोल देते हैं। लेकिन, मौन रहने से चीजें बिल्कुल बदल जाती है। मौन अभाव में भी खुश रहना सिखाता है।

2- अभिव्यक्ति- जब आप सिर्फ लिखकर बात कर सकते हैं तो आप सिर्फ वही लिखेंगे जो बहुत जरूरी होगा। कई बार आप बहुत बातें करके भी कम कह पाते हो। लेकिन ऐसे में आप सिर्फ कहते हो, बात नहीं करते। इस तरह से आप अपने आपको अच्छी तरह से व्यक्त कर सकते हैं।

भगवान नृसिंह के इस मंत्र का जप, करता है शत्रुओं से रक्षा

 

3- प्रशंसा- हमारे बोल पाने की वजह से हमारा जीवन आसान हो जाता है, लेकिन जब आप मौन धारण करेंगे तब आपको ये अहसास होगा कि आप दूसरो पर कितना निर्भर है। मौन रहने से आप दूसरों को ध्यान से सुनते हैं। अपने परिवार, अपने दोस्तों को ध्यान से सुनना, उनकी प्रशंसा करना ही है।

 

4- ध्यान देना- जब आप बोल पाते हैं तो आपका फोन आपका ध्यान भटकाने का काम करता है। मौन आपको ध्यान भटकाने वाली चीजों से दूर करता है। इससे किसी एक चीज या बात पर ध्यान लगाना आसान हो जाता है।

 

5- विचार- शोर से विचारों का आकार बिगड़ सकता है। बाहर के शोर के लिए तो शायद हम कुछ नहीं कर सकते, लेकिन अपने द्वारा उत्पन्न शोर को मौन जरूर कर सकते हैं। मौन विचारों को आकार देने में हमारी मदद करता है। हर रोज अपने विचारों को बेहतर आकार देने के लिए मौन रहें।

जानें आखिर तंत्र विद्या क्या है और यह कैसे काम करती है

 

6- प्रकृति- जब आप हर मौसम में मौन धारण करना शुरू कर देंगे तो आप जान पाएंगे कि बसंत में चलने वाली हवा और सर्दियों में चलने वाली हवा की आवाज भी अलग-अलग होती है। मौन हमें प्रकृति के करीब लाता है। मौन होकर बाहर टहलें। आप पाएंगे कि प्रकृति के पास आपको देने के लिए काफी कुछ है।

 

7- शरीर- मौन आपको आपके शरीर पर ध्यान देना सिखाता है। अपनी आंखें बंद करें और अपने आप से पूछें, "मुझे अपने हाथ में क्या महसूस हो रहा है?" अपने शरीर को महसूस करने से आपका अशांत मन भी शांत हो जाता है। शांत मन स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। साथ ही मौन से अनेक समस्याओं का समाधान स्वतः ही होने लगता है।

*******



source https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/maun-vrat-ke-fayde-in-hindi-6019832/

Comments