मोहिनी एकादशी व्रत पूजा शुभ मुहूर्त 4 मई सोमवार 2020

सोमवार 4 मई को मोहिनी एकादशी व्रत रखा जाएगा। यह व्रत हर साल वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को रखा जाता है। इस व्रत रखने से अनेक कामनाएं पूरी हो जाती है। इस दिन सीता माता का पता लगाने के लिए भगवान श्रीराम ने व्रत रखकर रखा था। कहा जाता इसी दिन भगवान विष्णु ने समुद्र मंथन से निकले अमृत की रक्षा दानों से करने के लिए मोहिनी रूप धारण किया था, तभी से इसे मोहिनी एकादशी कहा जाने लगा। इस दिन व्रत रखकर इस शुभ मुहूर्त में पूजा करने से व्रती को मनचाही कामना की प्राप्ति का आशीर्वाद मिलता है।

मोहिनी एकादशी के दिन इसलिए की जाती भगवान राम की विशेष पूजा, जानें अद्भुत कथा

मोहिनी एकादशी पूजा विधि

इस दिन भगवान राम को पीले फूल, पंचामृत तथा तुलसी दल अर्पित करें, फल भी अर्पित कर सकते हैं। इसके बाद भगवान राम का ध्यान करें तथा उनके मन्त्रों का जप करें। इस दिन पूर्ण रूप से जल पर उपवास रखना चाहिए। इस दिन मन को ईश्वर में लगायें, क्रोध न करें, असत्य न बोलें। इस दिन भगवान राम के सामने कुछ देर जरूर बैठना चाहिए। श्रीराम रक्षा स्तोत्र का पाठ करें। राम जी के इस मंत्र का जप 108 बार जरूर करें- मंत्र "ॐ राम रामाय नमः"।।

मोहिनी एकादशी व्रत पूजा शुभ मुहूर्त 4 मई सोमवार 2020

शास्त्रों में सभी तिथियों में सर्वश्रेष्ठ तिथि एकदशी तिथि को माना गया है, इस दिन किए गए जप-तप, यज्ञ, दान और सेवा का बहुत अधिक महत्त् माना जाता है। एकादशी तिथि के दिन इन कार्यों को नहीं करना चाहिए।

1- जुआ खेलना- जुआ नहीं खेलने वाले जीवन में हमेशा धन का अभाव रहता है।

2- पान खाना- ग्यारस के दिन पान खाने से मन में रजोगुण की प्रवृत्ति बढ़ती है।

शनिवार शाम पीपल पेड़ के नीचे बैठकर करें इस मंत्र का इतना जप, सप्ताह भर में दिखेंगे चमत्कार

3- दूसरों की बुराई से बचना- एकादशी के दिन दूसरों की बुराई करने से मन में दूसरों के प्रति कटु भाव आ सकते हैं ।

5- एकादशी के दिन चोरी, हिंसका जैसे गलत कार्य नहीं करना चाहिए।

6- स्त्रीसंग- एकादशी पर स्त्रीसंग करना भी वर्जित है क्योंकि इससे भी मन में विकार उत्पन्न होता है और ध्यान भगवान भक्ति में नहीं लगता । अतः ग्यारस के दिन स्त्रीसंग नहीं करना चाहिए।

मोहिनी एकादशी व्रत पूजा शुभ मुहूर्त 4 मई सोमवार 2020

मोहिनी एकादशी व्रत के लाभ

मोहिनी एकादशी के व्रती की चिंताएं और मोह माया का प्रभाव कम होता है। मोहिनी एकादशी के व्रती को ईश्वर की कृपा का अनुभव होने लगता है। मोहिनी एकादशी के व्रती के पाप प्रभाव कम होता है और मन शुद्ध होता है। मोहिनी एकादशी के व्रती हर तरह की दुर्घटनाओं से सुरक्षित रहता है। मोहिनी एकादशी के व्रती को गोदान का पुण्य फल प्राप्त होता है।

मोहिनी एकादशी व्रत पूजा शुभ मुहूर्त 4 मई सोमवार 2020

इस शुभ मुहूर्त में करें पूजन

मोहिनी एकादशी का आरंभ 4 मई सोमवार को सूर्योदय से पूर्व ही हो जाएगा, इसलिए इस दिन यह तिथि पूरे दिन ही रहेगी। लेकिन कहा जाता है कि इस दिन व्रती को सुबह, दोपहर एवं शाम के समय तीनों काल में ही पूजन करना चाहिए।शाम को एकादशी व्रत की कथा पढ़कर, पूजन करके ही अपना व्रत खोलना चाहिए।



source https://www.patrika.com/festivals/mohini-ekadashi-vrat-puja-shubh-muhurta-monday-4-may-2020-6059724/

Comments