शुरू होने जा रही है बुध की वृषभ यात्रा, जानिये क्या होगा असर

बुद्धि, वाक चातुर्य, वाणी और व्यापार व्यवसाय का प्रतिनिधि ग्रह बुध अपने परममित्र शुक्र की राशि वृषभ में 09 मई 2020,शनिवार को सुबह 09:47 बजे गोचर करेंगे। इसके बाद 24 मई 2020, 23:57 बजे बुध ग्रह अपनी स्वराशि मिथुन में गोचर कर जाएंगे। यानि वृषभ राशि में बुध ग्रह 16 दिनों तक स्थित रहेंगे।

गोचर के इन 16 दिनों तक बुध सभी राशियों के साथ प्रकृति, पर्यावरण आदि पर अपना असर दिखाएंगे। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार बुध का संबंध व्यापारियों के साथ चिकित्सक, वकील और आर्थिक मसलों से जुड़े लोगों से भी होता है, इसलिए इन सभी के कार्यक्षेत्र में भी बदलाव, जिम्मेदारियों का बोझ जैसी बातें देखने को मिलेंगी।

MUST READ : कोरोना की जन्मपत्री - जानें राशि के अनुसार बचाव के उपाय

https://www.patrika.com/dharma-karma/janampatri-of-coronavirus-and-its-treatment-through-zodiac-signs-6074160/

ये बन रहा योग...
इस समय शुक्र स्वयं अपनी राशि वृषभ में पहले से विद्यमान हैं, वहीं अब शनिवार को यहां बुध के भी साथ आ जाने से फलित ज्योतिष का महान 'लक्ष्मी-विष्णु' योग का निर्माण होगा। इस योग में बुध को विष्णु जबकि शुक्र को लक्ष्मी की संज्ञा दी गयी है।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार बुध के वृषभ राशि में गोचर का हर राशि पर प्रभाव पड़ेगा और परिवार, करियर, स्वास्थ्य, प्रेम, विवाह, शिक्षा आदि क्षेत्रों में इसका खास असर देखने को मिलेगा।

1. मेष राशि

सभी 12 राशियों पर ये होगा असर!

1. मेष राशि

बुध का गोचर आपकी राशि के जातकों से द्वितीय भाव में होगा। यह भाव धन व संपत्ति का भाव है, ऐसे में मेष राशि के जातकों को अपने धन की बचत करने की कोशिश करनी होगी, वहीं इस समय निवेश करना आपके लिए अच्छा होगा। इस दौरान इस राशि के पेशेवर लोगों को कार्यक्षेत्र में इस दौरान लाभ की प्राप्ति होगी। वहीं मेष राशि के कारोबारियों को इस दौरान कुछ परेशानियां आ सकती हैं।

आपके छठे भाव के स्वामी बुध की स्थिति के कारण आप अत्यधिक खर्चीले हो सकते हैं। इस दौरान आपको बातचीत के दौरान सावधानी बरतनी होगी। इस गोचर काल के दौरान आपको किसी भी तरह का लोन या उधार लेने से बचना चाहिए।

उपाय- फलों का दान करें।

 

2. वृषभ राशि

2. वृषभ राशि
इस समय बुध ग्रह आपके लग्न पर ही गोचर करेंगे, प्रथम भाव से जातक का व्यक्तित्व सहित उसके शरीर संरचना आदि के बारे में जाना जाता है। बुध की यह स्थिति आपको आकर्षक व्यक्तित्व वाला बनाएगी इसके साथ ही आपका वार्तालाप कौशल भी शानदार रहेगा। आप लोगों को आकर्षित कर पाएंगे।

इस राशि के जो जातक नौकरी पेशा या व्यापारी हैं, इस समय उनमें अत्यधिक जिज्ञासा जगेगी। आप नए अनुभवों से गुजरेंगे जिससे भविष्य में आपके कौशल में और भी निखार आएगा। इस गोचर काल के दौरान आप अपनी सभी जिम्मेदारियों को आसानी से पूरा कर लेंगे। आपके सहकर्मी और सीनियर्स आपके काम से खुश होंगे। इस राशि के जो लोग आयात-निर्यात से जुड़ा कारोबार करते हैं उन्हें इस दौरान लाभ मिल सकता है।

इस दौरान आपका रवैया निजी और पेशेवर दोनों ही मोर्चों पर आपको सकारात्मक परिणाम देगा। इस राशि के जो जातक प्रेम संबंधों में पड़ें हैं वो अपने लवमेट के साथ प्रेम के बंधन को और मजबूत कर पाएंगे। जबकि शादीशुदा जातक अपने रिश्ते में अधिक संतोष और खुशी महसूस करेंगे।

उपाय- हर रोज सूर्योदय के समय रामरक्षा स्तोत्र का पाठ करें।

3. मिथुन राशि

3. मिथुन राशि
बुध ग्रह इस गोचर के दौरान आपके द्वादश भाव में रहेंगे, इसे व्यय भाव भी कहते हैं। भले ही बुध आपका राशि स्वामी है, लेकिन इस भाव में बुध की स्थिति मिथुन राशि के जातकों के लिए अनुकूल नहीं कही जा सकती। इस समय मिथुन राशि के कुछ जातकों को विदेशी संबंधों से लाभ हो सकता है। लेकिन बुध के इस गोचर के दौरान आपके खर्चे भी बढ़ सकते हैं, जो आपकी मानसिक परेशानी और चिंता में इजाफा कर सकते हैं। इस राशि के कई जातकों का स्थानांतरण भी इस दौरान हो सकता है।

यह गोचर आपके आत्मविश्वास में गिरावट ला सकता है। ऐसे में इस दौरान आपको कोई नया काम करने से बचना चाहिए। आप इस दौरान बहुत छोटी-छोटी बातों को लेकर भी जल्दी नाराज हो सकते हैं,इस गोचर के दौरान शांत बने रहें इससे आपको हालातों को समझने में मदद मिलेगी। इस समय किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

उपाय- किसी जानकार की सलाह के बाद ही अपने सीधे हाथ की छोटी अंगुली पर पन्ना रत्न (5-6 कैरेट) धारण करें।

4. कर्क राशि

4. कर्क राशि
इस समय बुध ग्रह का गोचर कर्क राशि के एकादश भाव में होगा, इसे आय या लाभ भाव भी कहते हैं। कर्क राशि के जातकों के लिए यह गोचर शुभ साबित होगा। इस राशि के जो कारोबारी विदेशों से जुड़ा व्यापार करते हैं या विदेशी कंपनियों में काम करते हैं, उन्हें लाभ मिलने की पूरी संभावना है।

बुध का यह गोचर आपकी दबी इच्छाओं को पूरा करने वाला भी साबित हो सकता है। छोटी यात्राओं से कर्क राशि के जातकों को इस दौरान लाभ होने की संभावना तो है लेकिन वर्तमान परिस्थितियों में यह संभव नहीं हो पाएगा।

वहीं इस राशि के नौकरी पेशा लोगों को उनके द्वारा अतीत में किये गए किसी काम का रिवार्ड मिल सकता है। लेकिन, इस गोचर के दौरान आप अपने पार्टनर से बहुत ज्यादा अपेक्षाएं लगाएंगे जिसके कारण रिश्ते में कुछ दिक्कतें आ सकती हैं।

उपाय- मनी प्लांट या हरे पौधे घर में लगाएं।

5. सिंह राशि

5. सिंह राशि
इस दौरान बुध ग्रह आपके कर्म भाव यानि दशम भाव में गोचर करेंगे। सिंह राशि के जातकों के लिए बुध ग्रह द्वितीय और एकादश भाव का स्वामी हैं। ऐसे में बुध की स्थिति से पता चलता है कि सिंह राशि के जातकों को बुध के इस गोचर से लाभ की प्राप्ति होगी। सहकर्मियों और उच्च अधिकारियों के बीच आपकी छवि बेहतर होगी।

इस दौरान सिनेमा, मनोरंजन और अन्य क्षेत्रों जैसे क्रिएटिव मैनेजमेंट में काम करने वाले जातकों को इस अवधि में अच्छे परिणाम और लाभ प्राप्त होने की पूरी संभावना है। वहीं व्यावसायिक रूप से, आपकी रचनात्मकता और संगठन कौशल में वृद्धि होगी और आप उन कार्यों को मूर्त रुप देने में सक्षम होंगे, जिसके चलते उत्पादकता और दक्षता में वृद्धि हो। इसके साथ ही वे जातक जो पब्लिक डीलिंग से जुड़े बिजनेस में हैं उन्हें भी इस दौरान लाभ मिलने की पूरी संभावना है। उन कारोबारियों के लिए यह समय खास अच्छा रहेगा, जो परिवार से जुड़ा बिजनेस करते हैं।

प्रेम जीवन की बात की जाए तो बुध की स्थिति आपके रिश्ते को संतुलन देगी। वहीं लवमेट के साथ आपकी नज़दीकियों इस दौरान बढ़ सकती हैं। जबकि शादीशुदा लोगों के जीवन में प्यार और खुशी बनी रहेगी।

उपाय - बुधवार के दिन बुध बीज मंत्र का जाप करें।

5. सिंह राशि

6. कन्या राशि
इस समय बुध ग्रह का गोचर कन्या राशि के जातकों के नवम भाव यानि भाग्य भाव में होगा। कन्या राशि के जातकों को हर काम में इस दौरान भाग्य का साथ मिलेगा। पेशेवर लोगों की बात की जाए तो इस दौरान आपको नई नौकरी मिल सकती है और आमदनी में भी वृद्धि हो सकती है। वहीं इस गोचर काल के दौरान आपका मान सम्मान बढ़ेगा और सामाजिक स्तर पर आप अच्छी पहचान बना पाएंगे।

इस गोचर के दौरान आपका झुकाव आध्यात्मिकता की तरफ हो सकता है, आप लोगों की सहायता और सेवा कर सकते हैं। वहीं लव लाइफ के मामले में यदि आप शादीशुदा हैं, तो ससुराल पक्ष के लोगों के साथ आपके संबंध सुधरेंगे जिससे जीवनसाथी के साथ आपका रिश्ता सुधरेगा। जबकि सिंगल लोगों की बात की जाए तो यदि वे किसी से प्यार करते हैं और इजहार करने में हिचकिचा रहे हैं तो अपने किसी दोस्त की मदद लेना आपके लिए फायदेमंद रहेगा।

उपाय- गाय को हरा चारा खिलाएं।

7. तुला राशि

7. तुला राशि
इस राशि के जातकों के अष्टम भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा,इस भाव को आयु भाव भी कहा जाता है। इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा सावधान रहने की जरुरत है। इस समय आपको धूल और प्रदूषण से दूर रहें। यदि वाहन चलाते हैं तो वाहन चलाते समय सावधानी बरतें, नहीं तो दुर्घटना हो सकती है।

तुला राशि के लोगों को बुध के इस गोचर के दौरान कई प्रस्ताव मिल सकते हैं, लेकिन फैसले पर पहुंचने से पहले फायदे और नुक्सान के बारे में अच्छे से विचार कर लें। हां इस समय आप अपने बड़ों से विरासत या उपहार के रूप में अचानक से लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं। इस समय आपको अपने जीवनसाथी का भावनात्मक और आर्थिक सहयोग आपको प्राप्त होगा, जिससे आप मुश्किल परिस्थितियों का भी आसानी से सामना कर पाएंगे।

यह गोचर तुला राशि के उन लोगों के लिए शुभ रहेगा जो किसी तरह का शोध से जुड़ा कार्य कर रहे हैं, आपको इस दौरान मनमाफिक सफलता मिल सकती है। इस समय रहस्यमय और गुप्त विज्ञान को सीखने या समझने में आपकी रुचि इस समय बढ़ सकती है।

उपाय- अपने घर में कपूर का दीपक जलाएं।

8. वृश्चिक राशि

8. वृश्चिक राशि
आपके लिए बुध ग्रह का गोचर उनके सप्तम भाव में होगा, यह विवाह भाव है। लेकिन यहां ये ध्यान रखने वाली बात है कि बुध ग्रह वृश्चिक राशि के जातकों के अष्टम भाव का स्वामी तो हैं ही साथ ही लाभ के एकादश भाव का भी स्वामी हैं। ऐसे में बुध के इस गोचर से वृश्चिक राशि के लोगों को मिश्रित परिणाम प्राप्त होने की संभावना है।

ऐसे में इस समय जहां आपको लाभ की प्राप्ति होगी खासकर उन लोगों को जो पार्टनरशिप में बिजनेस करते हैं। इस गोचर की अवधि में आप जितने सामाजिक संपर्क बनाएंगे उतना ही आपको लाभ होने की संभावना है।

वहीं इस गोचर के दौरान आपके व्यवहार में निरंतर होने वाले परिवर्तन के कारण जीवनसाथी के साथ गलतफहमियां पैदा हो सकती हैं। वहीं इस राशि के सिंगल जातकों की बात की जाए तो इस गोचर काल के दौरान उनकी मुलाकात किसी खास से हो सकती है।

उपाय- हर रोज माता सरस्वती की पूजा करें।

9. धनु राशि

9. धनु राशि
इस गोचर में धनु राशि के जातकों के षष्ठम भाव में बुध ग्रह होगा, यह भाव शत्रु, रोग भी कहलाता है। ऐसे में इस राशि के नौकरी पेशा जातकों के लिए बुध का यह गोचर शुभ रहेगा। आपके लगातार परिश्रम और दृढ़ निश्चय के चलते कार्यक्षेत्र में आपको सफलता मिलेगी। लेकिन इस दौरान शत्रुओं से सावधान रहने की जरुरत है, क्योंकि उनके द्वारा आपके खिलाफ कोई साजिश की जा सकती है।

इस समय उधार या लोन लेने से भी आपको इस दौरान बचना चाहिए, नहीं तो यह आपकी मानसिक चिंताओं का कारण बन सकता है। आपके जीवनसाथी की तबीयत इस गोचर काल में नाजुक बनी रह सकती है। वहीं आप कुछ गलतफहमियों का शिकार भी हो सकते हैं। इस राशि के विद्यार्थियों की बात की जाए तो उन छात्र-छात्राओं को इस दौरान सफलता मिल सकती है जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे थे।

उपाय- गाय को रोज हरा चारा खिलाएं।

10. मकर राशि

10. मकर राशि
बुध ग्रह इस समय मकर के जातकों के पंचम भाव में गोचर करेगा, इस भाव को बुद्धि व संतान भी कहते हैं। प्रेम और रोमांस के लिए बुध का यह गोचर अच्छा रहेगा। इस राशि के जो जातक अभी तक सिंगल थे वो इस गोचर के दौरान अपने प्यार का इजहार किसी खास से कर सकते हैं। बुध का यह गोचर मकर राशि के विवाहित जातकों के लिए भी शुभ साबित होगा।

आपके विचारों को इस समय उच्च अधिकारियों से सराहना मिलेगी। इस दौरान उन नौकरीपेशा लोगों को प्रमोशन मिल सकता है जिन्हें प्रमोशन की उम्मीद थी और इसके साथ ही मनचाही जगह पर आपका तबादला भी हो सकता है। इस राशि के कारोबारियों को भी इस दौरान लाभ की प्राप्ति होगी।

इस गोचर के दौरान मकर राशि के विवाहित जातकों को अपने बच्चों की तरफ से कोई अच्छा समाचार भी मिल सकता है। वहीं उच्च शिक्षा अर्जित कर रहे इस राशि के विद्यार्थियों के लिए भी यह गोचर लाभदायक रहेगा।

उपाय- भगवान गणेश को प्रतिदिन दूर्वा चढ़ाएं।

11. कुंभ राशि

11. कुंभ राशि
बुध ग्रह का गोचर इस समय कुंभ राशि के जातकों के लिए चतुर्थ भाव में होगा, इसे सुख या माता का भाव भी कहा जाता है। ऐसे में इस समय माता के स्वास्थ्य की ओर ध्यान देना खास आवश्यक है। बुध आपके पंचव व अष्टम भाव का भी स्वामी है, ऐसे में इस दौरान आपके जीवन में कुछ उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, आपको कार्यक्षेत्र में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

इस दौरान आपको क।रियर क्षेत्र में अच्छे रिजल्ट पाने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। इसके साथ ही उच्च अधिकारियों के साथ कुछ मतभेदों के कारण आप परेशान हो सकते हैं। टकराव की स्थिति से इस समय दूर ही रहें। लेकिन इस राशि के कारोबारियों को इस समय अचानक से लाभ की प्राप्ति हो सकती है।

वहीं इस राशि के शादीशुदा जातकों को संतान से जुड़ी कुछ परेशानियां आ सकती हैं और आपकी संतान आपका काफी समय लेगी। इस राशि के विद्यार्थियों की एकाग्रता पर असर पड़ सकता है, जिससे शिक्षा के क्षेत्र में दिक्कत आएगी।

प्रेम और रोमांस के लिए बुध का यह गोचर अच्छा रहेगा, इस गोचर के दौरान आपके पार्टनर को प्रोफेशनल जीवन में सफलता और उपलब्धि मिलेगी। इस दौरान आपका साथी आपका पूरा सहयोग देगा।

उपाय- प्रत्येक बुधवार को विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करें।

12. मीन राशि

12. मीन राशि
बुध ग्रह का गोचर मीन राशि वालों के लिए उनके तृतीय भाव में होगा, इस भाव को पराक्रम या भाई-बहनों का भाव भी कहते हैं। बुध के इस गोचर के दौरान आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी जिसके कारण आप कठिन निर्णय लेने में भी पीछे नहीं हटेंगे। इससे आपके सीनियर मैनेजमेंट और सहकर्मियों के सामने आपकी छवि अच्छी बनेगी। वहीं इस गोचर के दौरान आपके संचार और बातचीत करने के कौशल में वृद्धि होगी। वहीं आप अपने कठिन प्रयासों से आप आर्थिक स्थिति को भी मजबूत कर पाएंगे।

इस समय आप अपने लक्ष्य और महत्वकांक्षाओं के प्रति इस दौरान एकाग्रचित रहेंगे। इस समय घर का माहौल सौहार्दपूर्ण रहेगा, आपको अपने भाई-बहनों का पूरा सहयोग इस दौरान प्राप्त होगा। इस राशि के जातकों को संचार के साधनों जैसे इंटरनेट या सोशल मीडिया से कोई खुशखबरी मिल सकती है।

उपाय- बुधवार को भोज्य पदार्थ का दान करें।

MUST READ : लुप्त हो जाएगा आठवां बैकुंठ बद्रीनाथ - जानिये कब और कैसे! फिर यहां होगा भविष्य बद्री...

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/eighth-baikunth-of-universe-badrinath-dham-katha-6075524/

source https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/rashi-parivartan-of-budh-grah-and-its-effects-on-you-09may-2020-6079307/

Comments