देश के ऐसे धार्मिक स्थल जो हैं अपने आप में विशेष, इनकी खासियत जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

भारत के विभिन्न शहरों व जिलों में आपको मंदिर मिल ही जाएंगे। लेकिन देश के कई राज्यों में ऐसे चमत्कारिक मंदिर भी हैं, जहां हर साल चमत्कार तो होते ही है। साथ ही इनकी स्थापना की कथा भी अपने आप में खास निराली है। यहां कुछ जगह तो देवी देवताओं को एक अलग ही रूप में तक पूजा जाता है।

ऐसे में आज हम आपको देश के उत्तरी भाग हिमाचल प्रदेश के कुछ खास मंदिरों के बारें में बता रहे हैं, जहां के कुछ मंदिर अपने आप में खास विशेषता रखते हैं। दरअसल प्राकृतिक सौन्दर्य से भरपूर हिमाचल में धार्मिक स्थलों की कमी भी नहीं है। वहीं यहां हिन्दुओं के अलावा यहां बौद्धों के भी कई मठ हैं। आइए जानते हैं यहां स्थित हिन्दू के कुछ प्रमुख धार्मिक स्थलों के बारे में...

MUST READ : लुप्त हो जाएगा आठवां बैकुंठ बद्रीनाथ - जानिये कब और कैसे! फिर यहां होगा भविष्य बद्री...

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/eighth-baikunth-of-universe-badrinath-dham-katha-6075524/

लक्ष्मी नारायण मंदिर :
पुरातन शैली का चंबा का लक्ष्मी नारायण मंदिर दरअसल मंदिरों का समूह है। इसका निर्माण काल 8वीं शताब्दी का बताया जाता है। यहां भगवान शिव और विष्णु के मंदिर हैं। इन मंदिरों में लक्ष्मी नारायण मंदिर सबसे पुराना है। शेष मंदिर चंबा शहर के चारों ओर स्थापित हैं, जो कि हरिराय, चम्पावती, बंसीगोपाल, रामचंद्र, ब्रिजेश्वरी, चामुंडा और भगवान नरसिंह को समर्पित हैं

मणिमहेश मंदिर :
यह प्राचीन मंदिर माता लक्ष्मी का है, जहां माता की पूजा महिषासुरमर्दिनी के रूप में की जाती है।
हर वर्ष जन्माष्टमी के मौके पर मणिमहेश यात्रा शुरू होती है। यह यात्रा चंबा जिले के लक्ष्मी नारायण मंदिर से आरंभ होती है और श्रद्धालु भरमौर के पहाड़ी रास्ते से होते हुए पवित्र मणिमहेश झील में डुबकी लगाते हैं।

MUST READ : भगवान शिव के चमत्कारों से भरे ये स्थान, जिन्हें देखकर आप भी रह जाएंगे हैरान

https://www.patrika.com/pilgrimage-trips/these-places-filled-with-the-wonders-of-lord-shiva-6132305/

चौरासी मंदिर :
भरमौर में स्थित चौरासी मंदिर चंबा घाटी में सबसे महत्वपूर्ण हिन्दू मंदिरों में से एक है। इन्हें 9वीं शताब्दी का बताया जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार अनुसार राजा साहिल वर्मन की राजधानी भरमौर में 84 योगियों ने दौरा किया था। उन्होंने राजा की विनम्रता और आदर सत्कार से खुश हो कर उन्हें 10 पुत्रों और 1 पुत्री (चम्पावती) का आशीर्वाद दिया था। संभवत: चौरासी योगियों की वजह से इस मंदिर का नाम चौरासी मंदिर पड़ा।

ब्रिजेश्वरी मंदिर:
यह मंदिर कांगड़ा शहर से ठीक बाहर स्थित है। ब्रिजेश्वरी माता का मंदिर अत्यधिक धन-सम्पदा के लिए जाना जाता रहा है। यही कारण रहा कि यह आक्रमणकारियों की लूट का भी शिकार बना।

Most Important religious place at North India

1905 में आए भीषण भूकंप में यह मंदिर पूरी तरह से ध्वस्त हो गया था। 1920 में इसे पुन: तीर्थयात्रा के लिए तैयार कर दिया गया।

नयना देवी मंदिर :
बिलासपुर और कीरतपुर के नजदीक एक शिखर पर बना है माता नयना देवी का मंदिर। हर साल जुलाई-अगस्त में श्रावण अष्टमी को रंगारंग मेलों का आयोजन होता है। हिमाचल के अतिरिक्त भारत के अन्य हिस्सों से भी श्रद्धालु नयना माता के दर्शनों के लिए पहुंचते हैं।



source https://www.patrika.com/religion-news/most-important-religious-place-at-north-india-6132927/

Comments