जगन्नाथ मंदिर समिति का फैसला- इस बार रथयात्रा भक्तों और भीड़ के बिना निकाली जाए; सरकार से अनुमति मांगी

भगवान जगन्नाथ की विश्वप्रसिद्ध रथयात्रा इस बार बिना भक्तों और भीड़ के निकल सकती है। शनिवार दोपहर श्री जगन्नाथ मंदिर प्रबंध समिति ने इस पर अपनी रजामंदी जताई है। अगर उड़ीसा सरकार इस पर मुहर लगाती है तो रथयात्रा निकलने का रास्ता साफ हो जाएगा। मंदिर समिति ने इस पर निर्णय लिया है। समिति के चेयरमैन उड़ीसा के गजपति महाराज दिव्यसिंह देब ने कहा है कि रथयात्रा का लाइव प्रसारण अलग-अलग चैनलों पर किया जाए। बिना भीड़ के केवल मंदिर के सेवकों और पुलिस-प्रशासन की मौजूदगी में रथयात्रा निकाली जा सकती है। मंदिर में रथयात्रा के रथों का निर्माण भी तेजी से किया जा रहा है। रथयात्रा 23 जून को निकलनी है।

रथयात्रा को लेकर लंबे समय से असमंजस की स्थिति चल रही है। 26 अप्रैल को अक्षय तृतीया से रथों का निर्माण होना था लेकिन लॉकडाउन के चलते ये शुरू नहीं हो पाया था। इसके बाद 8 मई को केंद्र सरकार की अनुमति के बाद रथों का निर्माण शुरू हुआ। लेकिन, इस दौरान पुरी जिले में कोरोना वायरस के 30 से ज्यादा केस निकल गए। साथ ही अम्फान साइक्लोन के कारण भी दो से तीन दिन काम बाधित हुआ। शनिवार दोपहर 1 बजे गजपति महाराज दिव्यसिंह देब की अध्यक्षता में हुई बैठक में अंततः समिति ने फैसला लिया है कि न्यूनतम लोगों की मौजूदगी में रथयात्रा निकाली जाएगी।

  • पूर्णिमा स्नान की परंपरा भी मंदिर के भीतर ही होगी

5 जून को पूर्णिमा स्नान की परंपरा को भी मंदिर के भीतर ही मंदिर से जुड़े लोगों की मौजूदगी में ही पूरा किया जाएगा। रथयात्रा निकलने से लगभग 15 दिन पहले होने वाला पूर्णिमा स्नान उत्सव काफी महत्वपूर्ण है। इसमें पवित्र त्रिमूर्ति (भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा) को सुगंधित जल से अभिषेक-स्नान कराया जाएगा। ये उत्सव रथयात्रा से जुड़ा है और इससे बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। लेकिन, इस बार मंदिर समिति ने तय किया है कि कुछ ही लोगों की मौजूदगी में आयोजित किया जाएगा।

इसी उत्सव में 108 घड़ों के पानी से स्नान के बाद भगवान की तबीयत खराब होती है और उन्हें कुछ दिन एकांत में रखा जाता है। औषधियां दी जाती हैं। इसके बाद जैसे ही भगवान ठीक होते हैं, उन्हें मौसी के घर गुंडिचा मंदिर ले जाता है। अपने-अपने रथों में सवार भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा 8 दिन के लिए जाते हैं ।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Rath Yatra may go without devotees and crowds this time, temple committee's decision


Comments