रविवार को करें यह उपाय, घर बैठें बन सकता है कोई भी लखपति

धरती के प्रत्यक्ष देवता भगवान सूर्य नारायण माने जाते हैं। सूर्य देव को समस्त देव शक्तियों की ऊर्जा का स्रोत भी माना जाता है। सूर्य भगवान नवग्रहों के अधिपति, सौरमंडल के स्वामी, 27 नक्षत्रों सहित सभी बारह राशियों के स्वामी भी है। अगर जीवन के हर क्षेत्र में तरक्की, सफलता चाहते हैं तो प्रति रविवार के दिन अपनी राशि के अनुसार, नीचे दिए उपायों को एक बार जरूर आजमा कर देखें। सूर्य देव की कृपा से को व्यक्ति के जीवन की सभी कामनाएं पूरी हो जाती है।

रविवार को करें यह उपाय, घर बैठें बन सकता है कोई भी लखपति

1- मेष राशि के जातक रोज सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करने से पैसों से संबंधित समस्याएं दूर होने लगती है।

मंत्र- ।। ॐ अचिंत्याय नम: ।।

2- वृषभ राशि वाले रोज सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करने से नौकरी में तरक्की मिलेगी।

मंत्र- ।। ॐ अरुणाय नम: ।।

3- मिथुन राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ आदि-भुताय नम: ।।

रविवार को करें यह उपाय, घर बैठें बन सकता है कोई भी लखपति

4- कर्क राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ वसुप्रदाय नम: ।।

5- सिंह राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।।ॐ भानवे नम: ।।

6- कन्या राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ शांताय नम: ।।

रविवार को करें यह उपाय, घर बैठें बन सकता है कोई भी लखपति

7- तुला राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ इन्द्राय नम: ।।

8- वृश्चिक राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ आदित्याय नम: ।।

9- धनु राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ शर्वाय नम: ।।

रविवार को करें यह उपाय, घर बैठें बन सकता है कोई भी लखपति

10- मकर राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ॐ सहस्र किरणाय नम: ।।

11- कुंभ राशि के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ ब्रह्मणे दिवाकर नम: ।।

12- मीन के जातक सूर्योदय के समय 108 बार इस मंत्र का जप करें।

मंत्र- ।। ॐ जयिने नम: ।।

*************



source https://www.patrika.com/dharma-karma/benefits-of-surya-mantra-jaap-in-rashi-anusar-6105355/

Comments