शुक्रवार को शनि जयंती, राशि अनुसार क्या करें और किन बातों का ध्यान रखें

शुक्रवार, 22 मई को शनि जयंती मनाई जाएगी। इस दिन ज्येष्ठ मास की अमावस्या रहेगी। इस तिथि पर पितरों के लिए विशेष धूप-ध्यान और तर्पण आदि पुण्य कर्म करना चाहिए। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार शनि जयंती और अमावस्या पर अपने इष्टदेव का ध्यान करें और जरूरतमंद लोगों को अपने सामर्थ्य के अनुसार दान करें। इस समय नेशनल लॉकडाउन है, कई लोगों को खाना नहीं मिल पा रहा है, ऐसी स्थिति में दूसरों की मदद करने से शनिदेव की विशेष कृपा मिल सकती है। शनिदेव ऐसे लोगों से प्रसन्न रहते हैं जो गरीबों की निस्वार्थ भाव से सेवा करते हैं।

इस दिन सभी 12 राशि के लोगों को ऊँ शं शनैश्चराय नम: मंत्र का जाप करें। भोजन में तिल और तेल से बने व्यंजन अवश्य शामिल करें। हनुमानजी के सामने दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। यहां जानिए शनि जयंती पर राशि अनुसार किन बातों का ध्यान रखें...

मेष- दूसरों को परेशान न करें। सुंदरकांड या हनुमान चालीसा का पाठ करें।

वृषभ- अपने स्वार्थ के लिए अन्य लोगों को नुकसान न पहुंचाएं। शनि के नामों का जाप करें।

मिथुन- माता-पिता के प्रणाम करके दिन की शुरुआत करें। शनिदेव को काली उड़द चढ़ाएं।

कर्क- झूठ बोलने से बचें। राजा दशरथ कृत शनि स्त्रोत का पाठ करें।

सिंह- व्यापार में किसी का अनुचित लाभ न उठाएं। हनुमानजी का चोला चढ़ाएं।

कन्या- इस राशि के लोग क्रोध से बचें। उपवास रखें और शनिदेव के मंत्रों का जाप करें।

तुला- इन लोगों को निस्वार्थ भाव से जरूरतमंद लोगों की सेवा करनी चाहिए। शनिदेव का अभिषेक सरसों के तेल से करें।

वृश्चिक- आलस्य से बचें और मेहनत में कमी न करें। हनुमान चालीसा का पाठ करें और चींटियों को आटा डालें।

धनु- अत्यधिक उत्साह से बचें। मन शांत रखकर काम करें। पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलाएं।

मकर- ये लोग घर में शांति बनाए रखें। शनिदेव के वैदिक मंत्रों का जाप करें।

कुंभ- किसी भी तरह की लापरवाही से बचें। हनुमानजी की उपासना करें और नीलम रत्न धारण करें।

मीन- अनाज का दान करें। बजरंग बाण का पाठ करें और गरीबों की हर संभव मदद करें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Shani Jayanti on 22 may, shani jyaanti 2020, shani puja vidhi, how to worship to lord shani, shani puja vidhi


Comments