शनिदेव : कमजोर या नीच के शनि को ऐसे बनाएं अपना मददगार, इन आसान तरीकों से पाएं दोष मुक्ति

हर व्यक्ति के जीवन में कभी न कभी शनि की दशा जरूर आती है। हर तीस साल पर शनि विभिन्न राशियों में भ्रमण करते हुए फिर से उसी राशि में लौटकर आ जाता है जहां से वह चला होता है।

ज्योतिष में शनि को न्याय का देवता माना जाता है। मान्यता है कि जब शनि व्यक्ति की राशि से एक राशि पीछे आता है तब साढ़ेसाती शुरू हो जाती है। इस समय शनि पिछले तीस साल में किए गए कर्मों एवं पूर्व जन्म के संचित कर्मों का फल देता है।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार शनि ग्रह, कुंडली में स्थित 12 भावों पर अलग-अलग तरह से प्रभाव डालता है। इन प्रभावों का असर हमारे प्रत्यक्ष जीवन पर पड़ता है। ज्योतिष में शनि एक क्रूर ग्रह है, परंतु यदि शनि कुंडली में मजबूत होता है तो जातकों को इसके अच्छे परिणाम मिलते हैं जबकि कमज़ोर होने पर यह अशुभ फल देता है।

MUST READ : दुनिया के इस प्राचीन मंदिर में न्यायाधीश शनि देते हैं इच्छित वरदान

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/one-of-the-most-important-temple-of-shani-dev-kokilavan-at-kosi-kalan-6080783/

वहीं जिन जातकों की कुण्डली में शनि प्रतिकूल स्थिति में होती है उन्हें साढ़ेसाती एवं शनि की ढैय्या के दौरान काफी संघर्ष करना पड़ता है। शनि के प्रभाव के कारण इन्हें शारीरिक मानसिक एवं आर्थिक समस्याओं से गुजरना होता है। ज्योतिषशास्त्र में कहा गया है कि शनि के प्रतिकूल प्रभाव को दूर किया जाए तो शनि दशा के दौरान मिलने वाली परेशानियों में कमी आती है।

शनि के अशुभ प्रभाव : रोकने के आसान उपाय भी हैं...
इसके लिए ज्योतिशास्त्रियों द्वारा ऐसे उपाय बताए जाते हैं जो काफी खर्चीले होते हैं, जैसे काली गाय, काले तिल, काली उड़द, लोहे के बर्तन, काले कंबल का दान। जबकि ज्योतिशास्त्र में शनि को प्रसन्न करने के लिए कुछ ऐसे भी उपाय हैं जिनके लिए एक पैसे भी खर्च करने की जरूरत नहीं है।

शनि शांति के सरल उपाय
इनमें सबसे आसान उपाय है प्रत्येक शनिवार को 11 बार महाराज दशरथ द्वारा लिखा गया दशरथ स्तोत्र का पाठ। माना जाता है कि शनिदेव ने स्वयं दशरथ जी को वरदान दिया था कि जो व्यक्ति आपके द्वारा लिखे गए स्तोत्र का पाठ करेगा, उसे मेरी दशा के दौरान कष्ट का सामना नहीं करना होगा।

MUST READ : शनिवार आज / शनिदेव का दिन है खास, जानें क्या करें और क्या न करें

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/mahima-shani-dev-ki-what-to-do-or-what-don-t-on-saturday-6010254/

मान्यता है कि शनिदेव प्रत्येक शनिवार के दिन के दिन पीपल के वृक्ष में निवास करते हैं। इस दिन जल में चीनी व काला तिल मिलाकर पीपल की जड़ में अर्पित करके तीन परिक्रमा करने से शनि प्रसन्न होते हैं। शनिवार के दिन उड़द दाल की खिचड़ी खाने से भी शनि दोष के कारण प्राप्त होने वाले कष्ट में कमी आती है।

: मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर में तिल का दीया जलाने से भी शनि की पीड़ा से मुक्ति मिलती है।

: शनि को खुश करने के लिए ज्योतिषशास्त्र में कुछ मंत्रों का भी उल्लेख किया गया है। जैसे शनि वैदिक मंत्र 'ओम शं नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये। शं योरभि स्रवन्तु न:।'

शनिदेव: ऐसे पहचानें......
पुराणों के अनुसार शनि के सिर पर स्वर्णमुकुट, गले में माला तथा शरीर पर नीले रंग के वस्त्र और शरीर भी इंद्रनीलमणि के समान। यह गिद्ध पर सवार रहते हैं। इनके हाथों में धनुष, बाण, त्रिशूल रहते हैं।

MUST READ : कोरोना वायरस / हर तरह के संक्रामक रोगों से बचाकर चमत्कारिक क्षमता देता है ये पदार्थ, बस इस मंत्र के उच्चारण के साथ ग्रहण करें

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/coronavirus-disease-medicine-is-here-benefits-of-panchamrit-6098727/

शनि के फेर से देवी-देवताओं को तो छोड़ो शिव को भी बैल बनकर जंगल-जंगल भटकना पड़ा। रावण को असहाय बनकर मौत की शरण में जाना पड़ा। शनि को सूर्य का पुत्र माना जाता है। उनकी बहन का नाम देवी यमुना है।

पुराण कथा :

वैसे तो शनि के संबंध में कई कथाएं है। ब्रह्मपुराण के अनुसार इनके पिता ने चित्ररथ की कन्या से इनका विवाह कर दिया। इनकी पत्नी परम तेजस्विनी थी। एक रात वे पुत्र-प्राप्ति की इच्छा से इनके पास पहुंचीं, पर यह श्रीकृष्ण के ध्यान में निमग्न थे। पत्नी प्रतीक्षा करके थक गई। उसका ऋतुकाल निष्फल हो गया।

कहा जाता है कि इस कारण पत्नी ने क्रुद्ध होकर शनिदेव को शाप दे दिया कि आज से जिसे तुम देख लोगे, वह नष्ट हो जाएगा। लेकिन बाद में पत्नी को अपनी भूल पर पश्चाताप हुआ, किंतु शाप के प्रतिकार की शक्ति उसमें न थी, तभी से शनि देवता अपना सिर नीचा करके रहने लगे। क्योंकि यह नहीं चाहते थे कि इनके द्वारा किसी का अनिष्ट हो।

MUST READ : ऐसा मंदिर, जहां निवास करती हैं धरती की सबसे जागृत महाकाली! पूरी होती से सारी मनोकामनाएं

https://www.patrika.com/temples/earth-s-most-awakened-mahakali-is-here-6091678/

न्यायाधीश है शनि :
मान्यता है कि सूर्य है राजा, बुध है मंत्री, मंगल है सेनापति, शनि है न्यायाधीश, राहु-केतु है प्रशासक, गुरु है अच्छे मार्ग का प्रदर्शक, चंद्र है माता और मन का प्रदर्शक, शुक्र है- पति के लिए पत्नी और पत्नी के लिए पति तथा वीर्य बल। जब समाज में कोई व्यक्ति अपराध करता है तो शनि के आदेश के तहत राहु और केतु उसे दंड देने के लिए सक्रिय हो जाते हैं।

शनि की कोर्ट में दंड पहले दिया जाता है, बाद में मुकदमा इस बात के लिए चलता है कि आगे यदि इस व्यक्ति के चाल-चलन ठीक रहे तो दंड की अवधि बीतने के बाद इसे फिर से खुशहाल कर दिया जाए या नहीं।

शनि को यह पसंद नहीं :
शनि को जुआ-सट्टा खेलना, शराब पीना, ब्याजखोरी करना, परस्त्री गमन करना, अप्राकृतिक रूप से संभोग करना, झूठी गवाही देना, निर्दोष लोगों को सताना, किसी के पीठ पीछे उसके खिलाफ कोई कार्य करना, चाचा-चाची, माता-पिता, सेवकों और गुरु का अपमान करना, ईश्वर के खिलाफ होना, दांतों को गंदा रखना, तहखाने की कैद हवा को मुक्त करना, भैंस या भैसों को मारना, सांप, कुत्ते और कौवों को सताना पसंद नहीं है।

MUST READ : हनुमानजी का ऐसा चमत्कारी मंदिर,जहां भंडारे की बुकिंग भी 2025 तक के लिए हो चुकी है फुल

https://www.patrika.com/temples/miraculous-temple-of-hanuman-where-devotee-wishes-fulfilled-6090355/

शनि की शुभता की निशानी :
शनि की स्थिति यदि शुभ है तो व्यक्ति हर क्षेत्र में प्रगति करता है। उसके जीवन में किसी भी प्रकार का कष्ट नहीं होता। बाल और नाखून मजबूत होते हैं। ऐसा व्यक्ति न्यायप्रिय होता है और समाज में मान-सम्मान खूब रहता हैं।

शनि की अशुभ की निशानी :
शनि के अशुभ प्रभाव के कारण मकान या मकान का हिस्सा गिर जाता है या क्षति ग्रस्त हो जाता है, नहीं तो कर्ज या लड़ाई-झगड़े के कारण मकान बिक जाता है। अंगों के बाल तेजी से झड़ जाते हैं। अचानक आग लग सकती है। धन, संपत्ति का किसी भी तरह नाश होता है। समय पूर्व दांत और आंख की कमजोरी।

शनि के उपाय :
इसके लिए सबसे पहले भगवान भैरव की उपासना करें (ॐ भैरवाय नम:)। शनि की शांति के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जप भी कर सकते हैं। तिल, उड़द, भैंस, लोहा, तेल, काला वस्त्र, काली गौ, और जूता दान देना चाहिए।

कौवे को प्रतिदिन रोटी खिलाएं। छायादान करें- अर्थात कटोरी में थोड़ा-सा सरसों का तेल लेकर अपना चेहरा देखकर शनि मंदिर में अपने पापो की क्षमा मांगते हुए रख आएं। दांत साफ रखें। अंधे-अपंगों, सेवकों और सफाईकर्मियों से अच्छा व्यवहार रखें। मंत्र- ॐ शं शनैश्चराय नम: ।

MUST READ : पाप मुक्ति का सर्टिफिकेट तक मिलता है यहां, जानिये कैसे?

https://www.patrika.com/dharma-karma/unique-temple-of-shiv-where-you-get-a-certificate-of-sin-relief-6094184/

इन बातों का खास ध्यान रखें :
कुंडली के प्रथम भाव यानी लग्न में हो तो भिखारी को तांबा या तांबे का सिक्का कभी दान न करें अन्यथा पुत्र को कष्ट होगा। यदि आयु भाव में स्थित हो तो धर्मशाला का निर्माण न कराएं। अष्टम भाव में हो तो मकान न बनाएं, न खरीदें। उपरोक्त उपाय भी लाल किताब के जानकार व्यक्ति से पूछकर ही करें।

ऐसे दूर करें शनि के अशुभ प्रभाव...
संसार के प्रत्येक जीव को उसके कर्मों के अनुसार अच्छा या बुरा फल देना शनि देव का ही कार्य है। उनकी इस व्यवस्था को चलाने में राहु-केतु उनकी पूरी तरह मदद करते हैं।

: सूर्योदय के पूर्व या सूर्यास्त पश्चात शनि स्रोत मंत्र, चालीसा का पाठ करें।
: सूर्योदय के पूर्व प्रति शनिवार पीपल वृक्ष की जड़ में एक लोटा जल चढ़ाएं।
: सरसों के तेल का दीपक लगाएं, काले कुएं या कौवे को तेल में तली हुई गुड़ में बनी मीठी रोटी खिलाएं।
: काले घोड़े की नाल का छल्ला मध्यमा में शनिवार को धारण करें।
: अशक्त व वृद्धजनों को शनिवार के दिन काले वस्त्र, तवा, चिमटा दान दें व भोजन कराएं।

MUST READ : हनुमान जी का ये अवतार! जिनका आशीर्वाद लेने देश से ही नहीं पूरी दुनिया से आते हैं लोग

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/indian-spiritual-legacy-avatar-of-shri-hanumanji-at-kenchi-dham-5979098/

ये भी हैं उपाय...
: शनिवार का व्रत रखें।
: व्रत के दिन शनि देव की पूजा (कवच, स्तोत्र, मंत्र जप) करें।
: शनिवार व्रत कथा पढ़ना भी लाभकारी रहता है।
: सायंकाल हनुमानजी या भैरवजी का दर्शन करें।
: काले उड़द की खिचड़ी (काला नमक मिला सकते हैं) या उड़द की दाल का मीठा हलवा ग्रहण करें।
: शनि की प्रसन्नता के लिए उड़द, तेल, इन्द्रनील (नीलम), तिल, कुलथी, भैंस, लोहा, दक्षिणा और श्याम वस्त्र दान करें।
: किसी भी शनि मंदिरों में शनि की वस्तुओं जैसे काले तिल, काली उड़द, काली राई, काले वस्त्र, लौह पात्र तथा गुड़ का दान करने से इच्छित फल की प्राप्ति होती है।
: प्रति शनिवार सुरमा, काले तिल, सौंफ, नागरमोथा और लोध मिले हुए जल से स्नान करें।
: शनिवार को अपने हाथ की नाप का 19 हाथ काला धागा माला बनाकर पहनें।
: शनिवार को सायंकाल पीपल वृक्ष के चारों ओर 7 बार कच्चा सूत लपेटें, इस समय शनि के किसी मंत्र का जप करते रहें।
: फिर पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक प्रज्ज्वलित करें तथा ज्ञात अज्ञात अपराधों के लिए क्षमा मांगें।



source https://www.patrika.com/dharma-karma/shani-dev-become-kind-for-you-if-you-use-these-tips-6103807/

Comments