शुक्र हुए अस्त, जानियें राशियों पर इसका असर

ग्रहों में हो रहे लगातार बड़े परिवर्तनों के बीच शुक्र ग्रह वृषभ में वक्री गति कर रहे शुक्र अस्त हो गए हैं। पंडित सुनील शर्मा के अनुसार शुक्र ग्रह का अस्त अवस्था में होना वैदिक ज्योतिष के अंतर्गत काफी महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि शुक्र ग्रह सभी सुख-सुविधाओं का मुख्य कारक है। इसके अतिरिक्त यह नैसर्गिक रूप से भी एक शुभ ग्रह है और यही कारण है कि सभी प्रकार के मांगलिक कार्यों में शुक्र ग्रह का अस्त होना शुभ नहीं माना जाता, यानि मांगलिक कार्यों मे रोक लग जाती है।

शुक्र अस्त 2020 तारीखें

शुक्र तारा अस्त प्रारम्भ : मई 31, 2020, रविवार को 07:38 पी एम बजे

शुक्र तारा अस्त समाप्त : जून 9, 2020, मंगलवार को 04:54 ए एम बजे

कुल अस्त अवधि = 9 दिन

MUST READ : राशि के अनुसार कौन सा शिवलिंग है आपके लिए बेहद खास, जानिये यहां

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/shivling-which-is-very-special-for-your-according-to-the-zodiac-signs-6152120/

शुक्र ग्रह अस्त का फल
पंडित शर्मा के अनुसार जिस प्रकार किसी भी ग्रह का सूर्य के नज़दीक आना उसे अस्त कर सकता है, ठीक उसी प्रकार जब शुक्र ग्रह का गोचर होता है और वह किसी विशेष स्थिति में सूर्य के इतना समीप आ जाता है कि उन दोनों के मध्य 10 अंश का ही अंतर रह जाता है, ऐसी स्थिति में शुक्र ग्रह अस्त हो जाता है। इस दौरान शुक्र के मुख्य कारकत्वों में कमी आ जाती है और वह अपने शुभ फल देने में कमी कर सकता है।

ज्योतिष के अनुसार सभी प्रकार के सुखों से प्राप्त करने के लिए शुक्र ग्रह का मजबूत होना अति आवश्यक है। शुक्र एक कोमल ग्रह है और सूर्य एक क्रूर ग्रह। इसलिए जब शुक्र अस्त होता है तो उसके शुभ परिणामों की कमी हो जाती है और व्यक्ति कई प्रकार के सुखों से वंचित हो सकता है। शुक्र मुख्य रूप से तो एक शुभ ग्रह है, लेकिन हर कुंडली के लिए ये शुभ नहीं होता।

MUST READ : जल्द लग रहे तीन बड़े ग्रहण, जानिए कदम दर कदम कैसे बदलेगा समय

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/three-big-eclipses-soon-know-how-time-will-change-step-by-step-6127851/

इसलिए देखना आवश्यक हो जाता है कि यह अस्त होकर कुंडली में किस स्थिति में विराजमान है। यदि यह किसी कुंडली विशेष के लिए शुभ फल देने वाला ग्रह है तो इसके अस्त होने की स्थिति में किसी जानकार की सलाह पर ही इसके रत्न हीरा, ओपल अथवा जरकन को धारण करना चाहिए।

लेकिन इसके विपरीत स्थिति होने पर रत्न धारण करने से बचना चाहिए और शुक्र के बीज मंत्र “ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः” का जाप करना चाहिए। ऐसा करने से न केवल शुक्र के अस्त प्रभावों में कमी आएगी बल्कि वह आपको और अधिक अनुकूल परिणाम देगा।

पंडित शर्मा के अनुसार शुक्र अस्त के दौरान सारे मांगलिक कार्य रोक दिए जाते हैं। इसके अलावा इस दौरान ना तो व्यापार में धन नहीं लगाना चाहिए और ना ही नौकरी बदलनी चाहिए। ऐसे में इस बार सारे शुभ कार्य 31 मई से 9 जून तक वर्जित रहेंगे। वहीं शुक्र उदय होने के बाद सारे रुके हुए काम फिर से शुरू किए जा सकते हैं। हालांकि 28 मई को शुक्र अस्त होने से पहले वारर्धक योग लगाएंगे। आइए जानते हैं कि शुक्र के अस्त होने का राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा...

MUST READ : जून 2020 - जानें इस माह कौन कौन से हैं तीज -त्योहार, ये हैं तिथि

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/hindu-calendar-june-2020-for-hindu-festivals-6141442/

अस्त हुए शुक्र: जानें किन राशियों को होगा लाभ, किसे नुकसान

1. मेष राशि-
शुक्र के अस्त होने के असर के चलते आपके कार्यक्षेत्र में कोई बड़ा बदलाव हो सकता है। वहीं धन लाभ में कमी, जबकि खर्चे बढ़ेंगे और परेशानियां आएंगी। सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। चावल का दान करें।

2.वृषभ राशि-
शुक्र ग्रह वृषभ राशि वालों का स्वामी है और इस समय यहीं वक्री स्थिति में बैठें हैं। ऐसे में आपको मान-सम्मान का ध्यान रखना पड़ेगा। किसी भी प्रकार के वित्तीय निवेश के लिए बहुत सोच समझ कर आगे बढ़ें। दूध का दान करें।

3. मिथुन राशि-
शुक्र का अस्त होना आपके करियर के लिए यह परिवर्तन काफी अच्छा रहेगा। आपको नौकरी बदलने से काफी लाभ मिल सकता है। वहीं इसका असर आपके निजी संबंधों पर पड़ने के चलते पति-पत्नी के बीच मन-मुटाव हो सकता है। दूध का दान करें।

4. कर्क राशि-
इस दौरान भविष्य के लिए बनाई गई आपकी योजनाएं सफल होने के बीच नौकरी में अड़चन या किसी से झगड़ा हो सकता है। कॅरियर के क्षेत्र में अच्छी सफलता प्राप्त होगी। पेठा का दान करें।

MUST READ : पैसों के मुश्किल हालात में मिलेगी मदद, बस इन बातों का ध्यान रखें

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/money-mantras-for-good-financial-situation-6127385/

5. सिंह राशि-
इस समय आपके कई अटके हुए काम पूरे होंगे जिससे आपका मनोबल भी बढ़ेगा। लेकिन इस दौरान धन-आगमन रुक जाने से गुस्से में अत्यधिक बढ़ौतरी होगी, जिसके कारण खूब लड़ाइयां होने की संभावना है। चावल का दान अवश्य करें.

6. कन्या राशि-
शुक्र का ये अस्त होना आपके लिए काफी खास रहेगा। इस दौरान आपको फायदा तो हो सकता है, लेकिन कुछ बुरे लोगों से आपकी लड़ाई हो सकती हैं, या आप बुरे लोगों की संगत में पड़ सकते हैं। शर्बत का दान करें।

7. तुला राशि-
शुक्र आपकी राशि के भी स्वामी है। इस स्थिति का सीधा असर आपके काम पर पड़ेगा। वहीं शादी की बात के लिए भी ये समय उचित नहीं है, क्योंकि इस समय बात नहीं बन पाने की संभावना है। बताशे का दान जरूर करें।

8. वृश्चिक राशि-
यह समय आपके लिए थोड़ा विचलित करने वाला रहेगा। इस समय जो लोग नौकरी कर रहे हैं उनकी अचानक से ट्रांसफर होने की सम्भावना रहेगी। सेहत खराब होने के साथ ही लोगों से लड़ाई-झगड़े हो सकते हैं। आलू की सब्जी और पूड़ी दान करें।

MUST READ : लुप्त हो जाएगा आठवां बैकुंठ बद्रीनाथ - जानिये कब और कैसे! फिर यहां होगा भविष्य बद्री...

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/eighth-baikunth-of-universe-badrinath-dham-katha-6075524/

9. धनु राशि-
आपके लिए ये समय तकरीबन हर दृष्टि से बहुत अच्छा रहेगा, लेकिन कुछ छोटी मोटी परेशानियों जैसे छोटे भाई-बहनों से जुड़ी भी बनी रहेंगी। आपके खर्चे बढ़ेंगे. चांदी का कोई जेवर अपने पास रखें.

10. मकर राशि-
आपके लिए शुक्र का ये अस्त परेशान करने वाला रहेगा। मकर राशि वालों जहां प्यार में बाधा आएगी, वहीं गुस्सा बहुत ज्यादा आएगा। इस समय दूध में बताशे डालकर दान करें।

11. कुंभ राशि-
यह समय आपके लिए मिलाजुला रहने वाला है, जहां एक ओर इस समय आर्थिक तौर पर आप को मजबूती मिलेगी, वहीं किसी मुकदमें में फंसने की भी संभावना है। इस समय आप कुछ अच्छे कार्यो विशेषकर धर्म-कर्म और पुण्य कार्यों पर धन खर्च करेंगे। पेठे का दान करें।

12. मीन राशि-
यह समय आपके लिए मिलाजुला रहेगा। एक ओर जहां इस दौरान आपके काम नहीं बनेंगे और फंसे हुए पैसे भी वापस नहीं आएंगे, वहीं कार्यक्षेत्र में आपके कार्य को सराहना प्राप्त होगी। जल में गंगाजल डालकर स्नान करें।



source https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/venus-is-set-know-its-effect-on-zodiac-signs-6153162/

Comments