हरियाली तीज 2020

2020 हरियाली तीज

तीज का त्यौहार मुख्यतः उत्तर भारतीय महिलाओं द्वारा धूमधाम से मनाया जाता है। तीज मुख्यतः राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखण्ड में मनाई जाती है। सावन (श्रावण) और भादव (भाद्रपद) के मास में आने वाली तीन प्रमुख तीज निम्न हैं:
  1. हरियाली तीज
  2. कजरी तीज
  3. हरतालिका तीज


उपरोक्त तिजों के अतिरिक्त अन्य प्रमुख तीज निम्न है- आखा तीज, जिसे अक्षय तृतीया भी कहते है और गणगौर तृतीया (गणगौर) है। हरियाली तीज, कजरी तीज व हरतालिका तीज श्रावण व भाद्रपद महीनों में आने के कारण अपना एक विशिष्ट महत्त्व रखती हैं। वर्षा ऋतू में आने के कारण तीज के इन त्यौहारों का महत्त्व महिलाओं के लिए और भी अधिक बढ़ जाता है।
हरियाली तीज आमतौर पर नाग पंचमी के दो दिन पूर्व यानि श्रावण माह की शुक्ल पक्ष तृतीया को आती है। यह तीज भगवान शिव व माता पार्वती को समर्पित है। हरियाली तीज श्रावण माह में आती है, जो भगवान शिव व माता पार्वती की आराधना व उन्हें समर्पित उपवास करने के लिए अत्यंत पवित्र महीना माना गया है।
हरियाली तीज का त्यौहार भगवान शिव व माता पार्वती के पुनर्मिलन का प्रतिक है। इस दिन महिलाएं माता पार्वती की पूजा करती हैं व सुखी वैवाहिक जीवन के लिए प्रार्थना करती हैं। महिलाएं नए वस्त्र, विशेषतः हरी साड़ी में सजधज कर अपने मायके जाती हैं व तीज के गीत गाते हुए हर्षोल्लास के साथ झूलने का आनन्द लेती हैं व यह त्यौहार मनाती है।
सिंधारा उपहार स्वरुप भेंट की गई वे वस्तुएं हैं जो विवाहित कन्या को उसके माता-पिता के द्वारा उसके व उसके ससुराल पक्ष के लिए भेजा जाता है। सिंधारा में विशेषतः मिठाई, घेवर, मेहँदी, चूड़ियां आदि वस्तुएं भेंट दी जाती है। क्यूंकि हरियाली तीज के दिन सिंधारा भेंट करने की प्रथा है, इसलिए इस तीज को सिंधारा तीज भी कहा जाता है।
हरियाली तीज के अन्य नाम छोटी तीज व श्रावण तीज भी हैं। कजरी तीज, जो हरियाली तीज के पंद्रह दिन बाद आती है, उसे बड़ी तीज कहा जाता है।

Comments