शुक्र का करने जा रहा है राशि परिवर्तन, जानिये किन राशियों का चमकेगा भाग्य

ग्रहों द्वारा लगतार परिवर्तन के बीच आकाश में एक बार फिर बड़ा परिवर्तन होने जा रहा है, जिसके चलते हर कोई आने वाले कुछ समय में खुद को इस परिवर्तन के प्रभाव में पाएगा।

दरअसल ज्योतिष के अनुसार हमारे भाग्य का कारक ग्रह शुक्र एक बार फिर अगस्त 2020 के पहले ही दिन परिवर्तन करने जा रहा है। और जैसा कि हर कोई जानता है कि आज के दौर में भाग्य का क्या महत्व है। ऐसे में शुक्र का ये परिवर्तन न केवल कुछ को बल्कि हर किसी को किसी न किसी तरह से प्रभावित कर अपना असर दिखाएगा।

ज्योतिष के जानकार पंडित सुनील शर्मा के अनुसार तुला और वृषभ राशि के स्वामी और कुंडली में भाग्य के कारक शुक्र 01 अगस्त शनिवार को राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं।

शुक्र का यह गोचर 1 अगस्त 2020 को 5 बजकर 09 मिनट पर मिथुन राशि में होगा। इसके बाद शुक्र 1 सितंबर 2020 की सुबह 2 बजकर 02 मिनट तक इसी राशि में स्थित रहेंगे। शुक्र की स्थिति का प्रभाव सभी राशि के जातकों पर अलग-अलग तरह से पड़ेगा।

positive and negative effects of venus transit in gemini 01August 2020

शुक्र मिथुन राशि में गोचर करने वाले हैं। जब शुक्र इस राशि में गोचर करेंगे तब उनके साथ राहु और बुध भी होंगे और वहीं धनु राशि में गुरु के साथ केतु भी मौजूद होंगे। इन ग्रहों का आपस में समसप्तक योग बनेगा। इन ग्रहों की एक-दूसरे के सातवें घर में दृष्टि होगी।

ज्योतिष शास्त्र में गुरु और शुक्र एक-दूसरे के शत्रु माने जाते हैं। ऐसे में दो ग्रहों की दृष्टि कुछ राशियों के लिए अशुभ प्रभाव दे सकती है। लेकिन इन पांच राशियों के समसप्तक योग का लाभ मिलने वाला है। आइए जानते हैं इन राशियों के बारे में…

ये राशियां रहेंगी खास फायदे में...

: वृषभ राशि :
गुरु शुक्र का समसप्तक योग आपकी राशि के लिए लाभदायक रहेगा। यह गोचर आपको आत्मबल प्रदान करेगा और अपने विचारों को मूर्त रुप देने की आप पूरी कोशिश करेंगे। आपकी वाणी में भी मिठास बनी रहेगी जिससे आपके आसपास के लोग आकर्षित होंगे। किसी करीबी को दी गई आपकी सलाह सही साबित हो सकती है।

द्वितीय भाव धन का भाव भी होता है। इस दौरान आपकी पारिवारिक जीवन में सुधार देखने को मिलेंगे। साथ ही आपको परिवार के साथ समय गुजारना अच्छा लगेगा। आपकी वाणी में मिठास रहेगी, जिससे लोग आपकी तरफ आकर्षिक होंगे। आप खूबसूरत दिखने के लिए थोड़ा धन खर्च भी कर सकते हैं। वृषभ राशि वालों को संतान की तरफ से लाभदायक समाचार सुनने को मिल सकता है।

उपाय- शुक्रवार के दिन सफेद वस्तुओं का दान करें।

MUST READ : ये ग्रह बनते हैं आपकी तरक्की में बाधक, देते हैं पैसे से जुड़ी समस्या

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/money-astrology-the-astrology-of-money-wealth-5921011/

: मिथुन राशि :
शुक्र आपकी राशि में गोचर करने वाले हैं और समसप्तक योग आपकी राशि पर ज्यादा प्रभाव डालेगा। इस राशि के जो जातक शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हैं उन्हें भी शुभ परिणाम प्राप्त होंगे। शिक्षा के क्षेत्र में सफलता मिलने के पूरे योग हैं। बात करें इस राशि के उन जातकों की जो प्रेम संबंधों में पड़े हैं तो इस अवधि में आपमें रोमांस की अधिकता देखी जाएगी।

आपका संगी आपके प्रति आकर्षण महसूस करेगा। इस राशि के जो जातक अब तक सिंगल हैं वो मिंगल कर सकते हैं। साथ ही कार्यक्षेत्र में भी आपको नया पद भी मिल सकता है। आप नया सीखने के लिए तत्पर रखेंगे और आय के नए स्त्रोत भी आपको प्राप्त होंगे। आपके बिजनस बढ़ोतरी के लिए कई अवसर मिलेंगे, जिससे आपको भविष्य में फायदा होगा।

उपाय- माता-पिता का आशीर्वाद लेकर घर से निकलें।


: सिंह राशि :
शुक्र आपकी राशि के 11वें भाव में गोचर करेगा। इस दौरान समसप्तक योग का आपको भरपूर लाभ मिलेगा।शुक्र की स्थिति का आपको पूर्ण लाभ मिलेगा। यदि आप लंबे समय से किसी काम को कर रहे थे और अब तक आपको कोई सफलता नहीं मिली थी तो अब उसके मिलने की पूरी संभावना है। जो जातक नौकरी पेशा हैं उन्हें भी कार्यक्षेत्र में इस दौरान सराहना मिलेगी और मेहनत का अच्छा फल मिलेगा।

सिंह राशि के जो भी जातक इस अवधि में यात्राएं करेंगे उन्हें यात्राओं से लाभ होगा। आपकी ज्यादातर कामना और इच्छाएं पूरी होंगी। अगर आप विदेश जाना चाहते हैं तो यह समय आपके लिए शुभ है। कार्यक्षेत्र में आपके काम की सराहना होगी और मेहनत का फल भी आपको अच्छा मिलेगा। इस राशि की महिलाओं को धन लाभ भी होगा और सरकार की योजनाओं का फायदा भी मिलेगा।

उपाय- शुक्र के शुभ फल प्राप्त करने के लिए सुबह सूर्योदय से पहले उठें।


: तुला राशि :
शुक्र आपकी राशि के नौवे भाव में गोचर करने वाला है। इस भाव में शुक्र के गोचर से आपकी बौद्धिक क्षमता को मजबूती मिलेगी। इस राशि के जो लोग शोध कार्य से जुड़े हैं उनके लिये यह समय बेहत अनुकूल साबित होगा। वहीं विद्यार्थी वर्ग के जातक भी कई कठिन विषयों को समझने में भी इस दौरान सफल होंगे।

आप अपने ज्ञान को लगातार बढ़ाने की दिशा में अग्रसर होंगे। अपने व्यवहार और अच्छी वाणी से आप परिवार के माहौल में भी सकारात्मकता ला सकते हैं। वहीं इस दौरान आपको पुराने रोगों से मुक्ति मिलेगी। साथ ही आपके ज्ञान में भी इजाफा होगा और कोर्ट-कचहरी के मामले में आपको शुभ समाचार मिल सकता है।

आपकी लव लाइफ सही रहेगी और वहीं शादीशुदा लोगों की जिंदगी भी खुशमय रहेगी। इस दौरान धर्म-कर्म के कार्य में आपकी रुचि बढ़ सकती है। समसप्तक योग से आपको बौद्धिक क्षमता में मजबूती आएगी।

उपाय- गुरुजनों का सम्मान करें और उनका आशीर्वाद लें।

: धनु राशि :
शुक्र आपकी राशि के सातवें भाव में गोचर करने वाला है। इस भाव में शु्क्र के गोचर से आपके पारिवारिक जीवन में सकारात्मक बदलाव आएंगे। घर के किसी सदस्य से यदि अनबन चल रही थी तो वो दूर हो सकती है। माता-पिता का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। वहीं सामाजिक स्तर पर भी आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे और दोस्तों या जान-पहचान के लोगों से आपको लाभ की प्राप्ति होगी।

वहीं इस दौरान समसप्तक योग से आपका सामाजिक स्तर ऊंचा उठेगा और मान-सम्मान में वृद्धि होगी। अगर आपकी किसी से अनबन चल रही है तो वह भी दूर होगी। माता-पिता का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा और घर में कोई नया सदस्य आ सकता है, जिससे घर का माहौल भी खुशनुमा रहेगा। ससुराल पक्ष से आपको लाभ हो सकता है और छात्रों का प्रतियोगी परिक्षाओं में सफलता मिल सकती है।

उपाय- स्फटिक की माला धारण करें।

अन्य राशियों पर असर....

: मेष राशि :
शुक्र देव का गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में होगा। यह भाव साहस पराक्रम और छोटे भाई-बहनों से आपके संबंधों का होता है। यदि आप रचनात्मक कार्य जैसे- अभिनय, संगीत आदि में रुचि रखते हैं तो इस दौरान आपको अपनी कला को प्रदर्शित करने का पूरा मौका मिलेगा, इसके साथ ही आप अपने रचनात्मक कार्य को ही अपने व्यवसाय में बदल सकते हैं।

शुक्र के तृतीय भाव में विचरण करने से आपको मनपसंद जगहों पर घूमने का भी इस दौरान मौका मिलेगा। शुक्र को प्रेम का कारक ग्रह भी माना जाता है इसलिये इस दौरान आपके प्रेम जीवन में भी सुधार आने की पूरी संभावना है। आप अपने संगी के साथ रोमांटिक पल बिता पाएंगे। हालांकि आपको शारीरिक रुप से ज्यादा आत्मिक रुप से अपने संगी से जुड़ने की कोशिश इस दौरान करनी चाहिये।

सामाजिक स्तर पर भी इस राशि के लोगों को अच्छे फल मिलेंगे। दोस्तों के साथ भी अच्छा समय बिता सकते हैं। यदि नवविवाहित हैं तो आपके जीवन में किसी नये मेहमान की दस्तक होने की पूरी संभावना है। स्वास्थ्य के लिहाज से भी यह गोचर अच्छा रहेगा लेकिन अत्यधिक ठंडा खाना न खाएं नहीं तो सर्दी-जुकाम हो सकता है।

उपाय- कोई भी काम शुरु करने से पहले पिता या पितातुल्य लोगों से सलाह लें।

: कर्क राशि:
कर्क राशि के जातकों के द्वादश भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। द्वादश भाव को हानि का भाव भी कहा जाता है और इससे नुक्सान, अलगाव, लंबी यात्रा, विदेश आदि के बारे में विचार किया जाता है। यह गोचर कर्क राशि के उन जातकों के लिये तो अच्छा रहेगा जो विदेशों से जुड़ा व्यापार या विदेशी कंपनियों में काम करते हैं लेकिन बाकी लोगों को इस गोचर के दौरान परेशानियां आ सकती हैं।

इस अवधि में आपको बहुत सोच समझकर आगे बढ़ने की जरुरत है। आपके माता का स्वास्थ्य इस दौरान खराब हो सकता है जिसके कारण आपकी मानसिक चिंता बढ़ सकती है। ऐसे समय में आपको अपनी माता को ज्यादा से ज्यादा समय देना चाहिये। इस समय यदि आप किसी तरह का परिवर्तन करने वाले हैं तो शुरुआत में तो वो आपको ठीक लगेगा लेकिन आगे चलकर आप उस परिवर्तन के कारण परेशान हो सकते हैं, वैसे भी कर्क राशि के जातक आसानी से परिवर्तन को पसंद नहीं करते।

इस राशि के शादीशुदा जातकों की बात की जाए तो उनके लिये भी यह समय अनुकूल नहीं है, जीवनसाथी के साथ मनमुटाव की स्थिति बन सकती है। इसलिये आपको किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से पहले एक बार सोचना अवश्य चाहिये। वहीं जो लोग नौकरी पेशा हैं, खासकर सरकारी नौकरी से संबंधित जातकों का तबादला ऐसी जगह हो सकता है जहां वो जाना नहीं चाहते थे। स्वास्थ्य को लेकर भी आपको सावधान रहना होगा, आंखों से संबंधी समस्याएं इस राशि के लोगों को परेशान कर सकती हैं।

उपाय- घर या दफ्तर में शुक्र यंत्र की स्थापना करें।

: कन्या राशि:
बुध के स्वामित्व वाली कन्या राशि के जातकों के दशम भाव में शुक्र का गोचर होगा। काल पुरुष की कुंडली में दशम भाव मकर राशि का होता है और इस भाव से आपके व्यवसाय, नौकरी, नेतृत्व, पिता आदि के बारे में पता चलता है। इस भाव में शुक्र के गोचर से आपका भाग्योदय होगा। कार्यक्षेत्र में आपको सफलता मिलेगी। जिस भी काम को आप इस दौरान शुरु करेंगे उसे पूरा करके ही रहेंगे। भाग्य का साथ आपको कदम-कदम पर मिलेगा। आपके जीवन में सुख-सुविधाएं बढ़ेंगी।

यदि कोई नया सामान खरीदना चाहते हैं तो यह समय अनुकूल है। घर के ऑफिस के अच्छे माहौल के कारण आपको मानसिक शांति अनुभव होगा। परिवार के लोग हर स्थिति में आपका सहयोग करेंगे। यदि आप पारिवारिक व्यवसाय करते हैं तो यह समय फायदेमंद रहेगा, व्यापार को नयी दिशा मिल सकती है।

इस राशि के जो जातक फिल्म जगत से जुड़े हैं वो भी इस दौरान सफलता अर्जित करेंगे। जिस भी प्रॉजेक्ट से आप जुड़े हैं उसके सफल होने की पूरी-पूरी संभावना है। यह गोचर कन्या राशि के लोगों के लिये अनुकूल है इसलिये अपने प्रयासों को पूरा करने के लिये इस दौरान उन्हें ज्यादा से ज्यादा मेहनत करनी चाहिये। आज की गई मेहनत आपके भविष्य को भी सुधार सकती है।

उपाय- सुबह के समय शुक्र बीज मंत्र का जाप करें।

: वृश्चिक राशि
शुक्र का गोचर आपके अष्टम भाव में होगा। यह भाव को आयुर भाव भी कहा जाता है। यह भाव जीवन में आने वाली बाधाओं, दुर्घटना, पैतृक संपत्ति, युद्ध, शत्रु आदि के बारे में जानकारी देता है। इस भाव में शुक्र का गोचर आपके लिये बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता इसलिये आपको इस दौरान बहुत संभलकर रहना होगा।

पारिवारिक जीवन में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा, आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि परिवार के लोग आपकी बातों का गलत मतलब निकाल रहे हैं। इसलिये अपनी बातों को बहुत स्पष्टता के साथ आपको रखना होगा। दांपत्य जीवन में जीवनसाथी की खराब तबीयत आपकी परेशानी का सबब बन सकती है।

वहीं आपको भी अपने स्वास्थ्य का इस दौरान ध्यान रखना होगा आंखों और गुप्तांगों से जुड़ी परेशानी होने की संभावना है। आपको सलाह दी जाती है कि स्वच्छता बनाए रखें। प्रेम जीवन में भी संगी के साथ अहम का टकराव हो सकता है।

अपनी वाणी पर इस दौरान संयम रखें नहीं तो रिश्ता खराब हो सकता है। हालांकि इस राशि के कुछ जातकों को इस समयावधि में गिफ्ट या कोई अच्छा सरप्राइज मिल सकता है। इस गोचर के दौरान यदि अच्छे फल प्राप्त करना चाहते हैं तो मेहनत जारी रखें और मन में शांति बनाए रखें, इसके लिये आप योग-ध्यान का सहारा ले सकते हैं।

उपाय- शुक्रवार के दिन माता संतोषी की पूजा करें।


: मकर राशि
मकर राशि के जातकों के षष्ठम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को रिपु भाव भी कहा जाता है और इससे रोग, ऋण, शत्रु आदि के बारे में विचार करते हैं। इस भाव में शुक्र का गोचर मकर राशि के लोगों के लिये बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। पारिवारिक जीवन में इस दौरान आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। छोटी-छोटी बातों को लेकर घर के लोगों से मनमुटाव हो सकता है।

ऐसे समय में आपको अपनी वाणी पर नियंत्रण रखना होगा और कम से कम बोलना होगा। जितना आप चुप रहेंगे उतनी परेशानियां कम हो जाएंगी। नौकरी पेशा और व्यवसायी लोगों को भी संभलकर रहना होगा, धोखा मिलने की संभावना है। कार्यक्षेत्र में महिला सहकर्मियों से सोच-समझकर बात करें नहीं तो मान-सम्मान की हानि हो सकती है। प्रेम में पड़े इस राशि के जातकों के लिये भी यह समय अच्छा नहीं है, किसी वजह से आपका संगी आपसे दूर हो सकता है।

यह ऐसा समय है जब शुभ परिणामों की प्राप्ति के लिए आपको दोगनी मेहनत करनी पड़ेगी। इसलिये इस दौरान आलस्य को त्याग कर आगे बढ़ते रहें। आपके विरोधी भी इस दौरान सक्रिय रहेंगे और उनके द्वारा आपके खिलाफ साजिश हो सकती है। स्वास्थ्य की बात की जाए तो, आपको बाहर का तला-भुना खाना खाने से दूर रहना चाहिये नहीं तो पेट से संबंधी परेशानियां हो सकती हैं।

उपाय- परशुराम जी चरित्र का पाठ करना शुभ रहेगा।

: कुंभ राशि
शुक्र का गोचर आपके पंचम भाव में होगा। यह भाव संतान भाव के रुप में भी जाना जाता है और इससे शिक्षा और प्रेम संबंधों पर भी विचार किया जाता है। इस भाव में शुक्र के गोचर से आपको इस अवधि में अच्छे फल मिलेंगे। पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो लोगों के बीच सामंजस्य बना रहेगा जिससे आपको भी खुशी प्राप्त होगी। आप घर के लोगों के साथ भविष्य को लेकर कोई नई योजना बना सकते हैं।

आर्थिक पक्ष को सुधारने के लिये माता-पिता से सलाह लेना भी आपके लिये लाभदायक रहेगा। इस राशि के विवाहित लोगों को अपनी संतान से लाभ की प्राप्ति होगी। आपके बच्चे कुछ ऐसा कर सकते हैं जिससे समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा। यदि आपकी माता नौकरी पेशा हैं तो इस गोचर से उनको भी लाभ होने की संभावना है। प्रॉपर्टी के क्रय-विक्रय से भी आप फायदे की स्थिति में रहेंगे।

कुंभ राशि के लोग अक्सर अपनी भावनाओं को आसानी से व्यक्त नहीं करते जिस कारण वो खुद को ही परेशान करते हैं, इस अवधि में आपको ऐसा करने से बचना चाहिये और खुद को ज्यादा से ज्यादा व्यक्त करने की कोशिश करनी चाहिये। यदि आप किसी से प्रेम करते हैं या शादीशुदा हैं तो अपने पार्टनर के सामने खुलकर अपनी बातें रखें इससे उनको खुशी होगी।

उपाय- श्री सूक्त का पाठ करना आपके लिये शुभ रहेगा।

MUST READ : मानसून 2020-नक्षत्रों के आधार पर कब-कब, कहां-कहां होगी बरसात

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/monsoon-2020-in-india-astrological-prediction-jal-jyotish-6144517/

: मीन राशि
शुक्र देव का गोचर आपकी राशि से चतुर्थ भाव में होगा। काल पुरुष की कुंडली में यह स्थान कर्क राशि का होता है और इससे सुख, माता, भूमि, गुप्त प्रेम संबंध आदि के बारे में विचार किया जाता है। शुक्र के इस गोचर के दौरान आपको भाई-बहनों से लाभ की प्राप्ति होगी और यदि उनके साथ किसी तरह का मनमुटाव था तो वो भी दूर हो सकता है। मानसिक रुप से आप शांत रहेंगे लेकिन माता का स्वास्थ्य आपको परेशान कर सकता है।

कार्यक्षेत्र की बात की जाए तो कुछ परेशानियों का सामना कार्यक्षेत्र में करना पड़ सकता है। संभव है कि आपको ऐसा महसूस हो कि जो काम आप कर रहे हैं आप उसके लिये नहीं बने हैं। हालांकि ऐसे समय में आपको जल्दबाजी में जॉब छोड़ने का फैसला नहीं करना चाहिये। इस दौरान प्रेम से जुड़े मामलों में भी आपको दिक्कतें आएंगी, अपने संगी से आपको कोई भी ऐसा वादा इस समय नहीं करना चाहिये जिसे निभाना आपके सामर्थ्य में नहीं है।

दांपत्य जीवन में प्रवेश कर चुके लोगों को जीवनसाथी से गिले-शिकवे खत्म करके आगे बढ़ना चाहिए। इस राशि के जातकों के स्वास्थ्य में इस गोचर के दौरान कुछ कमी आ सकती है। खांसी, जुकाम जैसी छोटी-मोटी बीमारियां आपको परेशान करेंगी। इस अवधि में आपको ठंडे पदार्थों को खाने से बचना चाहिये नहीं तो समस्या और बढ़ सकती है।

उपाय- शुक्र की मजबूती के लिये आपको शक्कर का दान करना चाहिए।



source https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/positive-and-negative-effects-of-venus-transit-in-gemini-01august-2020-6291301/

Comments