भगवान शिव भक्तों को ऐसे देते हैं चमत्कार का पूर्वाभास

आज के दौर में हर कोई अपने भविष्य को लेकर चिंतित रहता है, ऐसे में लोग अपना भविष्य पहले ही जानने की तमाम तरह के प्रयास करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं प्रकृति भी कई संकेतों के माध्यम से हमें हमारे आने वाले समय के बारे में बताती रहती है, लेकिन जानकारी के अभाव में हम कई बार प्रकृति के इन इशारों को नहीं समझ पाते। जानकारों के अनुसार पशु, पक्षियों से लेकर घर में आने वाले जीव तक हमें कई तरह से आने वाले समय के संबंध में बताते हैं।

स्वप्नशास्त्र के अनुसार सपनों में चीजों को दिखने का अपना अलग-अलग महत्व होता है। सपने अवचेतन मस्तिष्क के संपर्क में आने वाले वो विचार होते हैं जिनका संबंध इंसान के भूत और भविष्य से होता है। अगर आपको आध्यात्म या धर्म से जुड़े सपने आते हैं तो समझें कि आप बहुत ही खास किस्म के इंसान हैं।

MUST READ : यदि सपने में आएं हनुमानजी, तो जानें क्या होने वाला है आपके साथ

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/hanuman-ji-gives-good-and-positive-signs-to-us-6114921/

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार इसी प्रकार स्वप्न में भी हमें कई तरह से इशारे मिलते हैं, केवल सपने में आने वाले जीव जंतु ही नहीं बल्कि भगवानों की प्रतिमा भी हमें कई तरह के संकेत देतीं हैं।

जानकारों की मानें तो नींद के सपने हमारी कल्पनाओं का आइना होते हैं। एक ओर जहां ये हमारे मन की बातों को बताते हैं, वहीं कई बार हमें जिंदगी की हकीकत से रुबरू भी करवाते हैं। सपने कई तरह को होते हैं।

शास्त्रों में इनका अलग-अलग महत्व बतलाया गया है। कुछ सपने काल्पनिक होते हैं, तो कुछ हमारी जिंदगी से जुड़ी हुई घटनाओं को बताते हैं। यहां तक की कभी-कभी कुछ स्वप्न हमको भविष्य में होने वाली घटना का संकेत भी देते हैं।

पंडित शर्मा के अनुसार माना जाता है कि यदि आप सकारात्व विचार और ऊर्जा से ओतप्रोत हैं, तो आपको अध्यात्म से जुड़े हुए स्वप्न आएंगे और वह आपको कई प्रकार के संकेत देंगे। अभी श्रावण का माह चल रहा है, ऐसे में भगवान शिव के इस प्रिय माह में भगवान शंकर के सपने भी हमें कई तरह के संकेत देते हैं...

MUST READ : देवी मां का सपने में आना देता है ये खास संकेत, ऐसे समझें इन इशारों को

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/all-goddess-gives-some-positive-and-negative-signs-to-us-in-dreams-5917400/

कई बार शिवभक्तों को स्वप्न में शिव के प्रतीक चिन्हों से जुड़े स्वप्न आते हैं, जो उनकी शिवभक्ति और उनसे जुड़े आशीर्वाद को बतलाते हैं। तो आइये जानते है भगवान शिव के प्रतीक व उनसे जुडें सपने हमें क्या संकेत देते हैं...

: माना जाता है कि यदि आपको स्वप्न में शिवलिंग के दर्शन होते हैं तो इसका अर्थ है कि आप जल्द परेशानियों से मुक्त होने वाले हैं और धन-संपत्ति आपके पास आने वाली है। स्वप्न में शिवलिंग के दर्शन से मानव को पूर्णता का अहसास होता है, क्योंकि शिवलिंग स्वंय में पूर्णता का प्रतीक है।

शिव-पार्वती के दर्शन
भगवान महादेव और देवी पार्वती को एक साथ स्वप्न में देखने के संबंध में माना जाता है कि कोई बेहतर अवसर आपकी राह देख रहा है और उससे आपका भाग्योदय होने वाला है। इसका मतलब है कि आपको व्यापार, नौकरी आदि में लाभ के साथ आपकी संपत्ति और सुखों में इजाफा होने वाला है। यानि कुल मिलाकर आपकी किस्मत चमकने वाली है।

तांडव स्वरूप में दर्शन
मान्यता के अनुसार भगवान शिव के यदि तांडव स्वरूप में स्वप्न में दिखाई दे, तो यह आपको समस्याओं से मुक्ति दिलवाने वाला होता है। शिव का तांडव नृत्य बुराइयों औऱ दुष्टों के संहार का प्रतीक है। यानि आप जल्द ही दिक्कतों से निजात पाने वाले हैं। माना जाता है कि इसका एक अर्थ यह भी होता है कि आपको धन तो मिलेगा, लेकिन संघर्षों के बाद।

: शिव मंदिर के स्वप्न में दिखाई देने का मतलब होता है की आपको पुत्र रत्न की प्राप्ति हो सकती है। इसके साथ आप बीमारियों से भी निजात पा सकते हैं।

त्रिशूल के दर्शन
स्वप्न में भगवान शिव का त्रिशूल दिखाई देने के संबंध में माना जाता है कि आपकी परेशानियां जल्द खत्म होने वाली है, क्योंकि त्रिशूल : भूत, भविष्य और वर्तमान का प्रतीक माना जाता है।

: वहीं महादेव के अर्धचंद्र का स्वप्न में आने का मतलब यह माना जाता है कि आपको ज्ञान की प्राप्ति हो सकी है अर्थात आपको शिक्षा के क्षेत्र में कोई उपलब्धि हासिल हो सकती है। शिव का तीसरा नेत्र जागरुकता का प्रतीक है इसके स्वप्न में आने का मतलब जिंदगी से जुड़े अहम बदलाव से होता है।

ब्रह्मांड का प्रतीक है डमरू
शिव-शंकर का डमरू ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है। इसके स्वप्न में आने का मतलब यह माना जाता है कि आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होने वाला है। जो आपकी जिंदगी को बेहतर बनाएगा।

: भगवान शिव की जटाओं से निकलने वाली मां गंगा को ज्ञान का प्रतीक माना जाता है। गंगा के स्वप्न में आने का मतलब होता है कि आपकी अंतरात्मा निर्मल हो रही है और आप ज्ञान और आध्यात्म की ओर अग्रसर हो रहे हैं।

अर्धनारीश्वर प्रतिमा
सपने में यदि भगवान शिव और पार्वती की अर्धनारीश्वर वाली प्रतिमा या मूर्ति दिखाई दे तो मानें कि आपको जल्द ही नए अवसर मिलने वाले हैं। आपको जल्द ही धन-संपदा से संबंधित शुभ समाचार मिल सकते है।

अर्धचंद्र
शिव के माथे पर दिखने वाला अर्धचंद्र बुद्धिमत्ता को दर्शाता है। सपने में यदि शिव के माथे का अद्र्धचंद्र दिखाई देता है तो समझें कि जल्द ही आप कोई बड़ा निर्णय लेने वाले हैं। ऐसा सपना आपके शिक्षा के क्षेत्र में शुभ संकेत देता है।



source https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/good-and-bad-effects-in-life-of-shiv-symbol-in-dream-6275341/

Comments