बुध का राशि परिवर्तन 2 अगस्त को : जानिये किसका चमकेगा भाग्य

बुध ग्रह को ज्योतिष में एक शुभाशुभ ग्रह माना गया है। वहीं यह भी माना जाता है कि यह ग्रहों की संगति के अनुरूप ही यह फल देता है, यानि दुष्ट या अशुभ ग्रह की संगति में बुरा व अशुभ फल व शुभ ग्रहों की संगति शुभ फल। इसी के तहत बुध ग्रह शुभ ग्रहों (गुरु, शुक्र और बली चंद्रमा) के साथ होता है तो यह शुभ फल देता है और क्रूर ग्रहों (मंगल, केतु, शनि राहु, सूर्य) की संगति में अशुभ फल देता है।

वहीं इस बुध ग्रह का गोचर 2 अगस्त को 03:23 बजे कर्क राशि में होगा और 17 अगस्त 08:18 बजे तक यह इसी राशि में रहेगा। यानि बुध अपने पिता चंद्र की स्वामित्व, वाली राशि ( कर्क में ) में प्रवेश कर रहे हैं, यहां ये जान लेना अति महत्वपूर्ण है कि यह अपने पिता यानी चंद्रमा से शत्रु भाव रखते हैं। लेकिन इस समय कर्क में सूर्य भी मौजूद होने के कारण कन्या व मिथुन राशि के स्वामी बुध के कर्क राशि में जाने पर बुधादित्य योग बन रहा है।

MUST READ : कर्क संक्रांति 2020- इस दिन से होने जा रहा है ये बड़ा बदलाव, जानिये आप पर इसका असर

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/surya-rashi-parivartan-positive-and-negative-effects-on-zodiac-signs-6230530/

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार बुध ग्रह मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है। कन्या इसकी उच्च राशि भी है जबकि मीन इसकी नीच राशि मानी जाती है। 27 नक्षत्रों में बुध को अश्लेषा, ज्येष्ठा और रेवती नक्षत्र का स्वामित्व प्राप्त है। बुध ग्रह को बुद्धि का देवता माना गया है। वहीं इसके कारक देव श्री गणेश माने जाते हैं।कुंडली में इसकी स्थिति काफी अधिक महत्व रखती है।

यदि बुध अच्छी स्थिति में हो तो व्यक्ति को बुद्धि संबंधी कार्यों में विशेष सफलताएं प्राप्त होती हैं। जबकि ये अशुभ स्थिति में हो तो कई प्रकार की मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं अगर हम इंसान के करियर के बारे में बात करें तो इसे भी आकार देने में बुध काफी महत्वपूर्ण निभाता है।

बुध को सभी नौ ग्रहों में राजकुमार का दर्जा प्राप्त है। यह ग्रह बुद्धि, त्वचा, व्यवसाय आदि का कारक माना जाता है। कुंडली में यह अच्छी स्थिति में हो तो आपकी तार्किक क्षमता में वृद्धि होती है और गणित जैसे विषयों में आप अच्छा प्रदर्शन करते हैं।

MUST READ : कोरोना संक्रमण- इस दिन से शुरु होगा समाप्ति का सफर, जानें बचाव के ज्योतिषीय उपाय

https://www.patrika.com/hot-on-web/corona-infection-will-come-down-from-this-date-in-india-6306245/

बुध को बुद्धिमत्‍ता, वाणी और व्यापार का कारक माना जाता है। इस तरह के संयोग से गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर अलग-अलग पड़ेगा।

बुध के गोचर का राशियों पर असर... effects of Mercury Transit

1. मेष राशि :
आपकी राशि से चौथे भाव में बुध का गोचर रहेगा। इस दौरान आपको नई जॉब में सफलता मिलेगी। आपको कार्यक्षेत्र में उच्चाधिकारियों और सहकर्मियों का पूरा सहयोग मिलेगा। नए प्रोजेक्ट के कार्य पूरे होते नजर आने के साथ ही भविष्य में आपको उनसे लाभ मिलेगा। आपके भाई-बहनों को इस गोचर के दौरान शिक्षा या कॅरियर के क्षेत्र में उपलब्धि हासिल हो सकती है।संतान की तरफ से आपको शुभ समाचार सुनने को मिल सकता है। वहीं परिवार में कई तरफ लाभ देखने को मिलेंगे।
हालांकि किसी वजह से आपका मन इस गोचर के दौरान परेशान हो सकता है। माता के स्वास्थ्य के साथ-साथ अपने स्वास्थ्य का भी इस दौरान आपको ख्याल रखना होगा।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन जरुरतमंदों को भोजन दान करें ।


2. वृषभ राशि:
आपकी राशि से तीसरे स्थान पर बुध का गोचर रहेगा। इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति में फायदा देखने को मिलेगा। वहीं आपको आमदनी के नए स्त्रोत के बारे में पता चलेगा। आप अपने मित्रों के साथ बिजनेस यात्रा पर जा सकते हैं, जिसका आपको लाभ मिलेगा। वहीं अगर आपने किसी से कर्ज लिया है तो इस अवधि में वह चुका सकेंगे।परिवार वाले आपको हर तरफ से सपॉर्ट करेंगे।

इस दौरान आपके कलात्मक कौशल को सराहना भी मिलेगी। इस समय परिवार के लोग हर क्षेत्र में आपका सहयोग करेंगे। इस राशि के विद्यार्थियों की रचनात्मकता इस दौरान चरम पर रहेगी और अपनी रचनात्मकता से आप सहपाठियों को प्रभावित भी कर पाएंगे।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन ब्रह्ममणों को फल दान करें।

3. मिथुन राशि :
आपकी राशि से दूसरे स्थान पर इस समय बुध गोचर करेंगे। इस दौरान घर का माहौल खुशनुमा रहेगा। आपकी मेहनत का आपको भरपूर लाभ मिलेगा। आपकी वाणी में मिठास रहेगी जिससे लोग आपकी ओर आकर्षित होंगे। छात्रों को इस समय और मेहनत की जरूर है, जिससे वह अपना मुकाम हांसिल कर सकें। आपको अपने माता-पिता से लाभ होगा और आपके रचनात्मक कार्य की तरफ आकर्षित भी होंगे।

आपके निर्णय लेने की क्षमता भी अच्छी होगी जिससे मुश्किल परिस्थितियों से भी आप बचकर निकल सकते हैं। प्रेम जीवन में भी इस राशि के लोगों को इस गोचर के दौरान अच्छे फल मिलेंगे।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- अपनी बुआ या मौसी को उनकी पसंद की चीजें भेंट करें।


4. कर्क राशि:
आपकी राशि में ही इस समय बुध का गोचर रहेगा। इस दौरान जो जातक एमएनसी में काम कर रहे हैं उनको भरपूर लाभ होगा। वहीं यदि आपको लगता है कि किसी स्थिति या व्यक्ति की वजह से आपके काम में दिक्कत आ रही है, तो उससे तुरंत दूर हो जाएं। भाई-बहनों की तरफ से आपको लाभ मिलेगा। साथ ही आपके प्रयासों की सराहना भी मिलेगी।

इसके साथ ही आपको अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखने के साथ ही घर से बाहर निकलते समय पूरी सुरक्षा ध्यान रखना होगा। वहीं विद्यार्थियों को भी पढ़ाई करते समय एक्रागता की कमी लग सकती है। इस समय अनचाहे खर्चों को रोकने की जरुरत होगी।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- गाय की सेवा करें।

5. सिंह राशि:
आपकी राशि से इस समय बुध 12वें स्थान पर गोचर करेंगे। इस दौरान धन संचय के मामले में आपको कामयाबी मिलेगी। आपकी स्थिति मजबूत रहेगी, जिससे आप हर चुनौती को पार कर जाएंगे। वहीं आपकी नए लोगों से मुलाकात होगी, जो आपको लाभ कराएंगे। ससुराल पक्ष से आपको लाभ हो सकता है।

हालांकि आपको कार्यक्षेत्र में थोड़ी और मेहनत करनी पड़ सकती है, जिससे आपकी सभी परेशानियां दूर होंगी। आप चाहकर भी अनचाहे खर्चों को नहीं रोक पाएंगे। इस दौरान कुछ समस्याएं भी आ सकती हैं।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- विष्णुसहस्रनाम का पाठ करें।


6. कन्या राशि:
आपकी राशि से 11वें भाव में इस समय बुध गोचर करेंगे। इस दौरान अपनी कामनाओं को पूरा करने के लिये आप इस दौरान पूरी कोशिश करेंगे और कामयाबी मिलने के भी पूरा आसार हैं। इस राशि के जातकों को अपने बड़े भाई-बहनों से भी इस समय सहयोग प्राप्त होगा और पारिवारिक स्थिति भी अच्छी बनी रहेगी। वहीं स्वास्थ्य में भी इस राशि के जातकों को इस दौरान सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे।

भले ही आपको इस समय कार्यक्षेत्र में कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन आप हर स्थिति को मुकाबला करने को तैयार रहेंगे। परिवार का आपको सहयोग मिलेगा, जिससे आपको मानसिक शांति मिलेगी।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन मंदिर में कपूर का दान करें ।

7. तुला राशि :
आपकी से 10वें स्थान पर बुध गोचर करेंगे। इस दौरान व्यापार के क्षेत्र में आपकी समस्याओं का अंत होगा। वहीं भाग्य के सहयोग के चलते आपको कार्यक्षेत्र में नई जिम्मेदारियों मिलेंगी, जिससे आपको लाभ होगा। नया कारोबार शुरू करने के लिए यह अच्छा समय है। यदि पिता के साथ किसी बात को लेकर मतभेद की स्थिति पैदा हुई थी तो वो अब खत्म हो जाएगी। परिवार के लोगों के साथ मिलकर धन के सही प्रबंधन की बात कर सकते हैं।

लेकिन, जीवनसाथी की तरफ से आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। दवाइयों में आपका खर्च हो सकता है।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- अपनी बहन, बुआ, या चाची को बुधवार के दिन कोई उपहार दें।


8. वृश्चिक राशि :
आपकी राशि से नौवें स्थान पर इस समय बुध का गोचर रहेगा। इस दौरान नौकरी पेशा लोगों के लिए यह गोचर अनुकूल रह सकता है। आमदनी के नए स्रोत खुल सकते हैं जिससे आपकी आर्थिक तंगी दूर होगी। वहीं कुछ जातकों को अच्छी नौकरी मिलने के भी आसार हैं। इसके अलावा आपको परिवार का पूरी तरह सहयोग मिलेगा और धन प्राप्ति के भी विशेष योग बनेंगे। आपका अटका हुआ धन भी आपको मिल सकता है।

हालांकि घर से बाहर निकलते समय पूरी सुरक्षा ध्यान में रखें। धर्म के मामले में आपकी रुचि बढ़ेगी और शाम के समय थोड़ा पूजा-पाठ भी करेंगे। ध्यान कहीं ना भटके इसके लिए योग का भी सहारा लेंगे।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन पक्षियों का जोड़ा आजाद करें।

9.धनु राशि :
आपकी राशि से बुध आठवें स्थान पर गोचर करेंगे। इस दौरान इस राशि के शादीशुदा लोगों को इस समय काल में अपने ससुराल पक्ष के लोगों से मदद मिल सकती है। इसके साथ ही आपकी बुआ या मौसी से भी आपको जरुरी सहायता मिल सकती है। इस राशि के विद्यार्थियों के लिए भी यह गोचर अच्छा रहेगा। ससुराल पक्ष से आपको लाभ हो सकता है, साथ ही मदद के लिए हमेशा आगे रहेंगे।

वहीं इस समय आपको परिवार में कुछ परेशानियों के बारे में पता चलेगा, जिसे आप एक-एक करके हल करेंगे। छात्रों को इस समय थोड़ी और मेहनत करने की जरूरत है। साथ ही आप अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखें, बाहर के खान-पान से बचें।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन किन्नरों को दान दें।


10. मकर राशि :
आपकी राशि से सातवें स्थान पर बुध का गोचर रहेगा। इस दौरान इस समय शेयर बाजार में पैसा लगाने से आपको लाभ होगा। वहीं आपको कार्यक्षेत्र में गिफ्ट या सरप्राइज मिल सकता है।

हालांकि विराधियों का सामना करना पड़ सकता है। बच्चों के स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखें और किसी भी तरह के वाद-विवाद से बचें। जीवनसाथी के व्यवाहार में थोड़ा चिढ़चिढ़ापन आ सकता है। इस राशि के जो जातक साझेदारी में बिजनेस करते हैं उन्हें इस दौरान बहुत ज्यादा सोच-विचार करने से बचना चाहिए, आप छोटी-छोटी बातों में कमियां निकालते इस दौरान नजर आएंगे जिसके चलते कारोबार में नुक्सान हो सकता है। इसके अलावा छोटी-छोटी यात्राओं से इस राशि के लोगों को लाभ होने की संभावना है।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन हरी मूंग की दाल का दान करें।

11.कुंभ राशि :
इस समय आपकी राशि से बुध का गोचर छठवें स्थान पर रहेगा। इस दौरान आपको साथ काम करने वाले कर्मचारियों का पूरा सहयोग मिलेगा। वहीं आप पैसा कमाने के नए-नए तरीके खोजेंगे साथ ही आपको कर्ज से मुक्ति भी मिलेगी। आप तार्किक बातों से विरोधियों को भी परास्त कर देंगे। साथ ही आपको रिश्तेदारों की तरफ से बिजनेस का नया प्रपोजल मिल सकता है। नौकरी पेशा लोगों की बात की जाए तो, यदि आप किसी उच्च पद पर हैं तो आपके अधीनस्थ कर्मचारी इस दौरान आपके व्यवहार से खुश रहेंगे।

आपमें से कुछ जातकों को इस दौरान अपने लवमेट या किसी करीबी से अचानक उपहार भी मिल सकता है। आपके खर्चों में वृद्धि देखने को मिलेगी।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाएं।


12. मीन राशि :
इस समय बुध आपकी राशि से पांचवे स्थान पर गोचर करेंगे। इस दौरान आप कार्यस्थल पर अच्छा प्रदर्शन करेंगे, जिससे आपको लाभ होगा। संतान की तरफ से आपके शुभ समाचार सुनने को मिल सकता है। आप परिवार के साथ अच्छे से समय गुजारेंगे।

लेकिन अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखें। किसी भी तरह के वायरस से दूर रहें। आपकी एकाग्रता में कमी आ सकती है। वहीं आप इस दौरान दुविधा की स्थिति में रहेंगे जिसके कारण निर्णय लेने की इनकी क्षमता प्रभावित होगी। कार्यक्षेत्र में अपने विरोधियों से आपको बचकर रहें। संतान के स्वास्थ्य को लेकर आपको परेशानियां आ सकती हैं।

अशुभ प्रभावों को दूर करने के उपाय- शुद्ध घी का दान करें।



source https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/good-and-bad-effects-of-budh-rashi-parivartan-on-2-august-2020-6309938/

Comments