शनिदेव: न्याय के देवता से जुड़ी ये खास बातें क्या आप जानते हैं

शनिवार को शनिदेव का दिन माना जाता है, कारण इस दिन के कारक देव यही हैं। इसके अलावा शनि को लेकर लोगों में अत्यधिक भ्रम की स्थिति बनी हुई है, जिस कारण हर कोई शनि से भय खाता है। इस संबंध में जानकारों का कहना है भले ही ज्योतिष में शनि को दुख का कारक माना जाता हो, परंतु वास्तव में वह न्याय के देवता हैं, जो दंड के विधान का पालन करते हैं।

पंडितों व जानकारों के अनुसार चूकिं वर्तमान में कलयुग के प्रभाव से अनुचित कार्यों का अत्यधिक बोलबाला है, ऐसे में शनि केवल आपके द्वारा किए गए ऐसे कार्यों पर ही दंड देते हैं, जो अनुचित माने जाते हैं। लेकिन समय के प्रभाव के चलते तकरीबन सभी लोग जाने अंजाने भी इसमें फंस जाते हैं। यहीं कारण है कि शनि के दंड को लेकर हर किसी में डर रहता है। जिसके चलते शनि को लेकर कई भ्रांतियां फैल गईं हैं।

जानकारों के अनुसार शनि केवल दंड ही नहीं देते बल्कि शुद्ध कर्म करने वालों को आशीर्वाद भी देते हैं। यहां तक की ऐसे लोगों को फर्श से उठाकर अर्श तक भी ले जाते हैं। पंडित सुनील शर्मा के अनुसार शनि दृढता देने वाला ग्रह है, जो भले ही आपके काम अपनी धीमी गति के चलते देरी से कराएं, लेकिन जब कराता है तो पूरी मजबूती के साथ कराता है।

कुल मिलाकर सूर्य पुत्र शनिदेव को लेकर समाज में कई तरह की भ्रांतियां फैली हुई हैं, जैसे कि वह गुस्सैल, भावहीन और निर्दयी हैं। लेकिन इनमें से कुछ भी सत्य नहीं है, शनिदेव न्याय के देवता हैं और वह व्यक्ति को उसके कर्मों का ही फल अथवा दंड देते हैं।

इसी कारण भगवान शिव ने शनि महाराज को नवग्रहों में न्यायाधीश का काम सौंपा है। उनकी कृपा जिस पर होती है, उसे जीवन में कभी किसी चीज की कमी नहीं होती है। तो आइये जानते हैं किन लोगों से प्रसन्न होते है शनिदेव...

: शनि देव को सच बोलने वाले लोग पसंद हैं, साथ ही वे किसी प्रकार के गलत कार्य में संलग्न न हो और न ही किसी का दिल दुखाते हों।
: जो लोग बड़ों का और खासतौर पर अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, शनिदेव उन लोगों पर प्रसन्न रहते हैं।
: जो लोग मेहनत करते हैं, ईमानदारी से कार्य करते हैं और किसी का हक नहीं छीनते, शनिदेव उन लोगों से रुष्ट नहीं होते।
: शनिदेव को अनुशासन अतिप्रिय है। यहां अनुशासन का अर्थ है, अपने दायित्वों का सही तरीके से निर्वाह करना। जो व्यक्ति घर, परिवार, समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को सही तरीके से निभाते हैं, शनिदेव ग्रह दशा खराब होने पर भी ऐसे लोगों को बुरे फल नहीं देते हैं। हां, जीवन में संघर्ष जरूर बढ़ सकता है, लेकिन शनिदेव की कृपा से कुछ बहुत बुरा नहीं घटित होता है।
: ज्योतिष की मान्यताओं के अनुसार, धार्मिक कार्यों में लीन रहनेवाले और भगवान हनुमान के भक्तों को शनिदेव कभी प्रताणित नहीं करते हैं। गरीब और जरूरतमंद लोगों की सहायता करने पर शनिदेव प्रसन्न होते हैं।
: शनिदेव मांस और मदिरा का सेवन करनेवालों को पसंद नहीं करते। यदि आपकी कुंडली में शनि की दशा सही नहीं है तो आपको इन चीजों से विशेष तौर पर परहेज करना चाहिए।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार आपको ये जानकर हैरानी होगी कि जिस शनि के प्रकोप से दुनिया डरती है वह भी कुछ देवी-देवताओं से डरते हैं, इसलिए वे इनके भक्तों पर क्रोधित नहीं होते हैं, लेकिन किसी गलत कर्म को करने पर यानि दंड विधान के अंतर्गत आने पर इनके भक्तों को भी शनिदेव दंड देते हैं। आइये जानते हैं कौन हैं ये देवी-देवता...

1. सूर्यदेव :-
शनि महाराज भगवान सूर्य और उनकी दूसरी पत्नी छाया के पुत्र हैं। सूर्य ने अपने ही पुत्र शनि को शाप देकर उनके घर को जला दिया था। इसके बाद शनि ने तिल से अपने पिता सूर्य देव की पूजा की जिससे सूर्य प्रसन्न हो गए। इस घटना के बाद से तिल से शनि और सूर्य की पूजा की परंपरा शुरू हुई।

2. हनुमान जी :-
शनि महाराज को जिनसे डर लगता है उनमें सबसे मुख्य हैं हनुमान जी। हनुमान जी ने शनिदेव का घमंड तोडा था, तब से शनिदेव से पहले हनुमान जी की पूजा का भी विधान बन गया। कहते हैं हनुमानजी के दर्शन और उनकी भक्ति करने से शनि के सभी दोष समाप्त हो जाते हैं और हनुमान जी के भक्तों को शनिदेव परेशान नहीं करते हैं।

3 श्रीकृष्ण :-
श्रीकृष्ण, शनि महाराज के ईष्ट देव माने जाते हैं। एक पौराणिक कथा के अनुसार, जब कृष्ण जन्म हुआ तो शनिदेव को उनकी वक्रदृष्टि के दोष के कारण अन्य देवताओं ने कृष्ण के दर्शन नहीं करने दिए। जिससे शनिदेव दुखी हो गए और उन्होंने कोकिलावन में कड़ा तप किया। जिससे कृष्ण द्रवित हो गए और उन्होंने शनिदेव को कोयल के रूप में दर्शन दिए। शनि महाराज ने कान्हा को वचन दिया था कि वह कृष्ण भक्तों को परेशान नहीं करेंगे।

4. पीपल का वृक्ष :-
कहते हैं कि पीपल के वृक्ष पर शनिदेव का वास रहता है। कहा जाता है की एक असुर कैटभ ने एक ऋषि आश्रम में पीपल का रूप धारण कर रखा था। जब भी कोई ऋषि उस पेड़ के नीचे आता तो वो असुर उसे निगल जाता। सभी ऋषि मुनि शनिदेव के पास गए और उनसे सहायता मांगी, और शनिदेव ने उस राक्षस का संहार कर दिया। शनिदेव ने ऋषि मुनियों की रक्षा के लिए उन्हें वचन दिया था कि पीपल की पूजा करने वालों की वह स्वयं रक्षा करेंगे।

5. भगवान शिव :-
भगवान शिव शनि महाराज के आराध्य हैं। भगवान शिव ने शनि महाराज से कहा कि मेरे भक्तों पर तुम अपनी वक्र दृष्टि नहीं डालोगे। इसलिए शिव भक्त शनि के कोप से मुक्त रहते हैं।

6. शनिदेव की धर्मपत्नी :-
शनि महाराज अपनी पत्नी से भी भयभीत रहते हैं। इसलिए ज्योतिषशास्त्र में शनि की दशा में शनि पत्नी के नाम का मंत्र जपना भी एक उपाय माना गया है। इसकी कथा यह है कि एक समय शनि पत्नी ऋतु स्नान करके शनि महाराज के पास आई, लेकिन अपने ईष्ट देव शिव के ध्यान में लीन शनि महाराज ने पत्नी की ओर नहीं देखा। क्रोधित होकर पत्नी ने शाप दे दिया कि अब से आप जिसे देखेंगे उसके बुरे दिन शुरू हो जाएंगे। ज्योतिषशास्त्र में शनिदेव की पत्नी को प्रसन्न करने का मंत्र -

ध्वजिनी धामिनी चैव कंकाली कलहप्रिया। कंटकी कलही चाऽथ तुरंगी महिषी अजा।।
शनेर्नामानि पत्नीनामेतानि संजपन‍् पुमान्। दुःखानि नाशयेन्नित्यं सौभाग्यमेधते सुखम।।



source https://www.patrika.com/religion-news/shanidev-whom-is-he-afraid-of-who-can-make-us-safe-6368516/

Comments