Krishna Janmashtami 2020: कोरोना काल में घर पर ऐसे मनाएं श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, होगा लाभ ही लाभ

नई दिल्ली।
Happy Krishna Janmashtami 2020: श्री कृष्ण जन्माष्टमी श्रावण मास के 8वें दिन मनाई जाती है। इस बार दो दिन कृष्ण जन्माष्टमी ( Krishna Janmashtami ) मनाई जा रही है। भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रपद अष्टमी तिथि में रोहिणी नक्षत्र में अर्ध रात्रि को हुआ था। इसलिए भाद्रपद में जिस तारीख को अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र होता है, उसी दिन श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है। लेकिन, इस बार 11 अगस्त को अष्टमी तिथि है, जबकि रोहिणी नक्षत्र के प्रवेश के समय तिथि परिवर्तित हो रही है।

ऐसे में इस बार 11 और 12 अगस्त दोनों दिन कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जा रही है। भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव को जहां साधु-संत अलग तरीके से मनाते हैं। वहीं, लोग अपने अंदाज में मनाते हैं। आमतौर पर देशभर में कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन, इस बार कोरोना ( Coronavirus ) के चलते मंदिर, स्कूलों में कार्यक्रम नहीं होंगे। ऐसे में आप घर पर ही श्री कृष्ण जन्माष्टमी का आनंद ले सकते हैं। आइए जानते हैं घर पर कैसे मनाएं जन्माष्टमी का पर्व।

janmashthmi_01_1.jpg

बच्चों संग मनाएं जन्माष्टमी
जन्माष्टमी के मौके पर आप बच्चों को घर पर राधा, कृष्ण की तरह तैयार कर सकते हैं। ऐसा करने से बच्चे भी काफी खुश होंगे। जन्माष्टमी के दिन दही हांडी फोड़ने की परंपरा भी है। इस जन्माष्टमी अपने बच्चों के साथ दही हांडी बनाएं। ऐसा करने से बच्चों को हमारी संस्कृति के बारे में भी पता चलेगा। अपने बच्चों से घर में जन्माष्टमी से जुड़ी चीजों के चित्र और क्राफ्ट बनवाएं।

Happy Krishna Janmashtami 2020: Wishes, Quotes, Images Whatsapp, अपनों को शेयर करें कृष्ण जन्माष्टमी की खुशियां

happy-krishna-janmashtami_1.jpg

घर पर सजाएं ठाकुर जी का झूला
आप घर के मंदिर और भगवान श्रीकृष्ण के झूले को सजाएं। ऐसा करने से भगवान श्री कृष्ण प्रसन्न होते हैं। आपको इसका लाभ भी मिलेगा। झूले में फूल, लाल मखमल, या रेशमी कपड़ा, लाल छोटा तकिया और झालर सजाएं। इसके बाद अब कान्हा जी को तैयार कर झूले में बैठा दें।

happy-krishna-janmashtami_01_1.jpg

बाल गोपाल को लगाएं भोग
जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को माखन-मिश्री का भोग लगाएं। बाल गोपाल को माखन बहुत प्रिय है। माखन का भोग लगाने से आरोग्य की प्राप्ति होती है। भगवान कृष्ण के जन्म के बाद उनको चांदी की बांसुरी भी अर्पित करें, अगर चांदी की नहीं है तो आप बांस की भी बांसुरी अर्पित कर सकते हैं। भगवान कृष्ण को बांसुरी बजाना अतिप्रिय था। ऐसा करने से घर के सदस्यों के बीच प्रेम और आनंद बना रहता है।



source https://www.patrika.com/festivals/krishna-janmashtami-2020-celebrate-krishna-janmashtami-in-home-6332272/

Comments