पुरुषोत्तम मास 2020 का पहला सोमवार आज , इस माह के हर सोमवार ऐसे करें भगवान शंकर को प्रसन्न

हिंदू धर्म में पुरुषोत्तम मास का बहुत महत्व है। इसे भक्ति, पूजा व उपवास का श्रेष्ठ मास यानि महीना भी कहा जाता है। वहीं इस मास में उपवास, पूजा पाठ, यज्ञ, हवन, श्रीमद भागवत पुराण, श्री विष्णु पुराण आदि का मनन विशेष रूप से फलदायी माना जाता है। अधिक मास के अधिष्ठाता भगवान विष्णु जी हैं, इसीलिए इसे पुरुषोत्तम मास भी कहते हैं। इस पूरे समय भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप विशेष लाभकारी होता है। ऐसे में आज 21 सितंबर को पुरुषोत्तम मास का पहला सोमवार पड़ रहा है।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार वैसे तो यह माह भगवान विष्णु को समर्पित होने के कारण इस समय गुरुवार का विशेष महत्व हो जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस मास के सोमवार भी आपकी हर इच्छा को पूर्ण करने के लिए खास माने जाते हैं। वहीं भगवान शिव को भी इस समय आसानी से वर देने के लिए प्रसन्न किया जा सकता है।

इस माह में होती है अनंत फल की प्राप्ति...
आमतौर पर अधिकमास में हिंदू श्रद्धालु, व्रत, पूजा- पाठ, ध्यान, भजन, कीर्तन, मनन आदि करते हैं। पौराणिक सिद्धांतों के अनुसार, इस मास के दौरान यज्ञ-हवन के अलावा श्रीमद् देवीभागवत, श्री भागवत पुराण, श्री विष्णु पुराण, भविष्योत्तर पुराण आदि का श्रवण, पठन, मनन करने का भी विशेष महत्व है। यह बेहद फलदायी होता है। मान्यता है कि इस मास में अगर व्यक्ति जमीन पर सोए और एक ही समय भोजन करें तो उसे अनंत फल प्राप्त होते हैं।

 

MUST READ : शारदीय नवरात्र 2020 : इस बार अश्व पर आएंगी देवी मां, जानें इसका असर

https://www.patrika.com/dharma-karma/shardiya-navratri-2020-celebration-date-time-shubh-muhurat-6411507/

पौराणिक कथाओं के अनुसार इस माह का कोई भी स्वामी होना नहीं चाहता था, तब इस मास ने भगवान विष्णु से अपने उद्धार के लिए प्रार्थना की। प्रार्थना से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु जी ने उन्हें अपना श्रेष्ठ नाम पुरषोत्तम प्रदान किया। साथ ही यह आशीर्वाद दिया कि जो इस माह में श्रीमद् भागवत कथा श्रवण, मनन, भगवान शंकर का पूजन, धार्मिक अनुष्ठान, दान आदि करेगा, वह अक्षय फल प्रदान करने वाला होगा। इसलिए यह माह दान-पुण्य के लिए खास व अक्षय फल देने वाला माना जाएगा।

पुरुषोत्तम मास में सोमवार का महत्व...
पुरुषोत्तम मास में सोमवार व्रत का बहुत ही महत्व बतलाया गया है। शास्त्रों के आधार पर यदि पवित्र पुरुषोत्तम मास में सोमवार का व्रत किया जाता है, तो 10 गुना अधिक फल प्राप्त होता है। सोमवार का दिन भगवान शिव का दिन माना जाता है और पुरुषोत्तम मास में भगवान शिव की पूजा को बहुत लाभदायक बतलाया गया है।

पंडित शर्मा के अनुसार भगवान शिव के पूज्य श्री हरि विष्णु हैं और वहीं श्री हरि विष्णु ने राम के रुप में भगवान शिव को अपना आराध्य बताया है। ऐसे में श्री विष्णु के माह में जहां भगवान शिव भगवान विष्णु के भक्तों से तुरंत प्रसन्न होकर आशीर्वाद देते हैं। वहीं सावन में भगवान विष्णु भी शिव भक्तों पर अपनी कृपा बरसाते हैं।

MUST READ : विजया दशमी 2020 - इस साल दशमी 26 अक्टबूर को, लेकिन श्रीराम के हाथों 25 अक्टबूर को ही हो जाएगा रावण का संहार ...

https://www.patrika.com/dharma-karma/2020-dussehra-surprising-date-of-vijayadashami-2020-6400682/

आज चूंकि भगवान विष्णु के माह पुरुषोत्तम मास का पहला सोमवार है, ऐसे में आप भी भगवान शिव की प्रार्थना कर मनचाहा आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है। दरअसल माना जाता है कि इस माह में अपने आराध्य भगवान शिव की पूजा करने वालों से भगवान विष्णु भी तुरंत प्रसन्न हो जाते हैं, वहीं सोमवार का दिन भगवान शिव का होने के चलते पुरुषोत्तम मास में भगवान विष्णु के भक्त जो इस दिन भगवान शिव की अराधना करते हैं, भगवान शिव उन पर विशेष कृपा बरसाते हैं। इस दिन भक्तों द्वारा शिवलिंग की भी पूजा पूरी श्रद्धा के साथ भगवान शिव का पूरा श्रंगार कर की जानी चाहिए। वहीं नवग्रहों की शांति के लिए पुरुषोत्तम मास में रुद्राभिषेक भी करना चाहिए।

मान्यता के अनुसार इन दिनों में भगवान विष्णु और शिव के पूजन का विशेष महत्व होता है। ऐसा करने से भक्तों को आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त होती है। पुरुषोत्तम मास तीन साल में एक बार आता है। इसे भगवान विष्णु और शिव का सबसे प्रिय महीना भी माना जाता है।

MUST READ : पुरुषोत्तम मास के खास नियम, भूलकर भी न करें ये गलतियां

https://www.patrika.com/festivals/purushottam-mass-2020-adhik-maas-what-to-do-and-what-to-don-t-do-6409537/

source https://www.patrika.com/religion-news/get-special-blessings-of-lord-shiva-in-purushottam-month-6413214/

Comments