शारदीय नवरात्र 2020 : इस बार घोड़े पर आएंगी तो हाथी पर जाएंगी मां दुर्गा, जानें क्या होगा इसका असर

हिंदू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व होता है। साल में नवरात्रों की संख्या चार होती है, जिनमें दो प्रमुख नवरात्रे — चैत्र नवरात व शारदीय नवरात्र कहलाते हैं, जबकि दो गुप्त नवरात्रि होतीं हैं। नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा आराधना की जाती है। नवरात्रि के पहले दिन घट स्थापना के साथ ही नवरात्रि आरंभ हो जाते हैं। साथ ही विभिन्न पंडालों में मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर मां शक्ति की आराधना की जाती है।

नवरात्रि पर मां दुर्गा के धरती पर आगमन का विशेष महत्व होता है। देवीभागवत पुराण के अनुसार नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा का आगमन भविष्य में होने वाली घटनाओं के संकेत के रूप में भी देखा जाता है। हर वर्ष नवरात्रि में देवी दुर्गा का आगमन अलग-अलग वाहनों में सवार होकर आती हैं और उसका अलग-अलग महत्व होता है। वहीं जानकार देवी के प्रस्थान के वाहन को भी काफी महत्वपूर्ण मानते हैं।

किस दिन होता है कौन सा वाहन
- अगर नवरात्रि का आरंभ सोमवार या रविवार के दिन होता है तब इसका अर्थ होता है माता हाथी पर सवार होकर आएंगी।
- अगर शनिवार और मंगलवार के दिन नवरात्रि का पहला दिन होता है तो माता घोड़े पर सवार होकर आती हैं।
- वहीं गुरुवार या शुक्रवार के दिन नवरात्रि आश्विन शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि पर मां का आगमन होता तो माता डोली की सवारी करते हुए भक्तों को आशीर्वाद देने आती हैं।
- बुधवार के दिन नवरात्रि का पहला दिन होने पर माता नाव की सवारी करते हुए धरती पर आती हैं।

शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर से आरंभ
इस वर्ष शारदीय नवरात्रि करीब एक महीने की देरी से शनिवार 17 अक्टूबर से आरंभ हो रहे हैं। शनिवार के दिन नवरात्रि का पहला दिन होने के कारण इस दिन मां दुर्गा घोड़े की सवारी करते हुए पृथ्वी पर आएंगी। देवी भागवत पुराण के अनुसार जब माता दुर्गा नवरात्रि पर घोड़े की सवारी करते हुए आती हैं।

बांग्ला पंचांग के अनुसार इस साल मां दुर्गा का आगमन घोड़े पर हो रहा है। इसका अर्थ 'छत्रभंग स्तुरंगमे' बताया गया है. इससे शासन और शासकों के लिए उथल-पुथल की स्थिति और शासन परिवर्तन का योग बनता है। इसके अलावा घोड़े पर आती हैं तो पड़ोसी देशों से युद्ध की आशंका बढ़ जाती है।

वहीं ज्योतिष के जानकारों के अनुसार भी 23 सितंबर को हुआ राहु का परिवर्तन सामरिक दृष्टि से भारत के लिए कुछ परेशानी वाला हो सकता है। क्यों वृषभ का राहु हमेशा ही भारत को युद्ध की स्थिति में ले जाता है। ऐसे में इस बार भी राहु का वृषभ में आना पाकिस्तान से युद्ध चाहे वह लिमिटेड वॉर ही क्यों न हो, कि ओर इशारा करता दिख रहा है। पूर्व में भी राहु के वृषभ में आने पर भारत का पाकिस्तान से युद्ध हो चुका है। भले ही युद्ध में जीत भारत की ही होगी, लेकिन युद्ध होना ही परेशानी का कारण रहेगा।

शारदीय नवरात्रि 2020 : देवी मां का हाथी पर होगा प्रस्थान, जानिये हाथी पर वापसी का अर्थ...
एक ओर जहां शारदीय नवरात्रि 2020 में मां दुर्गा का अश्व पर आगमन होगा वहीं देवी मां दुर्गा पूजा के पूरे कार्यक्रम के बाद हाथी पर प्रस्थान करेंगी। जानकारों के अनुसार देवी मां की वापसी का अर्थ कई तरह से समझा जा सकता है।

दरअसल हाथी सुख-समृद्दि और ताकत का मानक है और इस बार देवी का प्रस्थान इसी वाहन पर हो रहा है ऐसे में ज्योतिष के अनुसार जो चीजें खास हैं उनके अनुसार इसके बाद देश में वर्षा धीरे धीरे थम जाएगी। वहीं यह कहीं ने कहीं युद्ध जैसी स्थितियों की ओर भी इशारा करती दिख रहीं हैं। इनमें अन्न की कमी या यूं कहें महंगाई बढ़ना, सुख और प्रसन्नता में कमी आने का भी संकेत माना जा सकता है। कुल मिलाकर ये एक दबाव यानि प्रेशर का समय रह सकता है। लेकिन इस दौरान किसी भी मामले में मेहनत के साथ जीत मिलेगी ही।



source https://www.patrika.com/dharma-karma/shardiya-navratri-2020-mata-durga-arrival-and-departure-effects-6421222/

Comments