पाकिस्तान में भी लगते हैं देवी मां के जयकारे, होती है विशेष पूजा, दुनियाभर से लोग जाते हैं दर्शन को

नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है। इस दौरान माता के नौ रूपों की पूजा की जाती है। सभी लोग सच्चे मन से माता रानी की पूजा और व्रत रख रहे है। हाल ही में कांग्रेस नेता शकील अहमद ने पूजा का एक वीडियो शेयर किया है, सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। शकील अहमद ने पाकिस्तान स्थित हिंगलाज माता के मंदिर में नवरात्र पूजा का एक वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट से साझा किया है। वायरल हो रहे इस वीडियो में बड़ी संख्या में भक्त नजर आ रहे है। देश विदेश से यहां भक्त दर्शन के लिए पहुंचते हैं। बता दें कि दुर्गा भवानी के पूरे देश में कुल 51 शक्तिपीठ हैं. 51 में से 42 भारत में हैं और बाकी 1 तिब्बत, 1 श्रीलंका, 2 नेपाल, 4 बांग्लादेश और एक पाकिस्तान में है।

mata hinglaj

मंदिर में नवरात्रि की पूजा
यह वीडियो 10 सेकेंड का है। इसमें आप मंत्र उच्चारण सुना जा सकता है। कांग्रेस नेता शकील अहमद ने जो वीडियो शेयर किया है वह मंदिर पर नवरात्रि की पूजा का है। यह वीडियो इसलिए खास है क्योंकि पाकिस्तान से आए दिन हिंदुओं के उत्पीड़न की खबरें सामने आती रहती है।

यह भी पढ़े :— ईडाणा माता मंदिर : देवी खुद करती हैं अग्नि स्नान, आग लगना व बुझना आज भी है रहस्य

पाकिस्तान में हिंदुओं के साथ गलत बर्ताव
वहां हिंदुओं के लिए सम्मान से जीना बहुत हद तक आसान नहीं है। ऐसा कहा जाता है कि पाक में हिंदुओं के साथ धर्म परिवर्तन, लड़कियों से जबरन शादी या फिर सामाजिक अधिकारों से दूर रखे की कोशिशें होती रहती हैं। पाकिस्तान के इस बर्ताव से पूरी दुनिया काफी नाराज है। कई देश पाकिस्तान के इस रवैया को लेकर आलोचना कर चुका है, इसके बावजूद पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आता है।

यह भी पढ़े :— सूर्य देव को जल चढ़ाने से चमक जाएगी सोई हुई किस्मत, इन बातों का रखें विशेष ध्यान

देवी सती की 51 शक्तिपीठों में से एक
आपको बता दें कि 51 में से एक शक्तिपीठ पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में स्थित है। जहां दर्शन मात्र से ही सभी पापों का अंत हो जाता है। ये मंदिर सुरम्य पहाड़ियों की तलहटी में एक प्रकृतिक गुफा में बना है। इतिहास में उल्लेख है कि सुरम्य पहाड़ियों की तलहटी में स्थित यह गुफा मंदिर लगभग 2000 साल पुराना है। यहां इंसान की बनाई हुई कोई प्रतीमा नहीं है बल्कि एक मिट्टी की वेदी बनी है जहां एक छोटे आकार की शिला को हिंगलाज माता के रूप में पूजा जाता है। यह मंदिर पाकिस्तान में कई हिंदू समुदायों के बीच आस्था का केन्द्र बना हुआ है। तालिबानी कहर और धार्मिक कट्टरवाद के कारण इस मंदिर पर कई हमले भी हुए। लेकिन स्थानीय हिन्दू और मुसलमानों ने मिलकर इस मंदिर को बचाया।



source https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/temple-of-mata-hinglaj-in-balochistan-pakistan-navratri-puja-6481019/

Comments