वास्तु टिप्स : इन कारणों से घर में आती हैं ने​गेटिव ऊर्जा, ऐसे करें दूर

वास्तु शास्त्र एक प्राचीन हिंदू वास्तुकला विज्ञान है। वैदिक काल से ही वास्तु को मानते आ रहे है। वास्तु शास्त्र का महत्व हमेशा से रहा है। व्यक्ति के जीवन में इसका प्रभाव देखने को मिलता है। किसी भी घर की सुख-शांति और समृद्धि को लेकर वास्तु शास्त्र में कई नियम बताए गए हैं। यदि तमाम तरह की सुख-सुविधाओं के बाद भी आपके घर में तनाव बना रहता है। कई कोशिशों के बाद भी आपको सुकून की नींद नहीं आती और परिवार में झगड़े का माहौल बना हुआ है तो आपको अपने घर के वास्तु दोष पर विचार करना चाहिए। वास्तु का असर घर में रहने वाले सभी लोगों पर पड़ता है। बच्चों की पढ़ाई से लेकर सभी की सेहत और कॅरियर भी पर भी इसका असर देखने को मिलता है।

ईशान कोण का महत्त्व
शास्त्रों के अनुसार दैवीय ऊर्जा का उद्गमन उत्तर पूर्व दिशा को बताया गया है। इसे ईशान कोण भी कहा जाता है। इसी दिशा से सारी दैवीय शक्तियां संचालित होती हैं। यही स्थान ईश्वर को भी समर्पित है। इस के विपरीत दक्षिणी पश्चिम दिशा अर्थात साउथ वैस्ट दिशा पर दैत्यों और पिशाचों का काल वास होता है। इसलिए वास्तु के अनुसार, ईशान कोण का काफी महत्त्व माना जाता है।

 

wastuu111.jpg


नेगेटिव ऊर्जा के संकेत
किसी घर में पूर्व से सूर्य की किरण प्रवेश नहीं करती है और उत्तर पश्चिम दिशा से वायु का संचालन बंद होता है। उत्तर पूर्व दिशा से जल का स्थान दूषित हो जाए, देव स्थान या घर का मंदिर दूषित हो जाए तो उन जगहों पर नकारात्मक शक्तियों का वास हो जाता है। इसके साथ ही भूूत-प्रेत अपना बसेरा बना लेते हैं। जिस स्थान पर 43 दिन तक सूर्य की किरणों का संचालन ना हो तथा वहां की दीवारों पर नमी के कारण सीलन हो तथा हवा के ना संचालित होने से दुर्गुन्ध आती हो ऐसे स्थान पर भूत-प्रेत निवास करते हैं।

 

यह भी पढ़े :— इंजीनियर्स का कमाल, 7600 टन की 85 साल पुरानी बिल्डिंग को बिना तोड़े किया शिफ्ट

क्या है नेगेटिव शक्तियां
ऐसा कहा जाता है कि जिस जमीन पर पूर्वजों का मरघट स्थान है, वहां पर कोई अपना घर बना ले तो वहां नकारात्मक शक्तियां अपना वास बना लेती हैं। अगर पीपल अथवा बरगद को काट कर घर बनाते है तो भी वहां भी पिशाच वास करते हैं। वास्तु के अनुसार, घर किसी कॉलोनी अथवा सड़क का आखरी घर हो वहां पर भी नकारात्मक शक्तियों का वास होता है।

 

wastuu112.jpg

यह भी पढ़े :— पाकिस्तान में भी लगते हैं देवी मां के जयकारे, होती है विशेष पूजा, दुनियाभर से लोग जाते हैं दर्शन को

घर में नहीं टिकता धन
वास्तुशास्त्र के मुताबिक पैसा हमेशा सही दिशा में रखना चाहिए। अगर आपकी तिजोरी या फिर अलमारी गलत दिशा में है तो धन कभी नहीं रूकेगा। ऐसे में अलमारी या फिर तिजोरी जहां भी आप धन रखते हो उसकी दिशा सही होनी चाहिए। पैसे रखने की अलमारी को इस तरह से रखना चाहिए कि उसका मुख उत्तर दिशा की ओर खुले। उतर दिशा को भगवान कुबेर की भी दिशा मानी जाती है।

नेगेटिविटी बढ़ाते है कबाड़ और टूटा शीशा
लोग घर में टूटा शीशा या फिर कबाड़ रखते हैं उनके यहां भी धन नहीं टिकता। कबाड़ और टूटा शीशा निगेटिविटी बढ़ाता है, जिसके कारण धन के साथ और भी कई समस्याएं आती है। इसलिए कभी भी अपने घर में टूटी चीज नहीं रखे। घर की छत पर कभी भी कूड़ा इकट्ठा नहीं होने दे। इससे भी घर में वास्तुदोष बना रहता है और तमाम आर्थिक समस्याएं आती है।



source https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/best-vastu-tips-home-negative-energy-6483063/

Comments