मंगल आज से चाल बदलकर हुए वक्री, जानिये किन राशि वालों को होगा नुकसान और कौन होगा मालामाल

देवताओं के सेनापति यानि देवसेनापति व पराक्रम के कारक मंगल आज 4 अक्टूबर 2020 से अपनी चाल में परिवर्तन करते हुए वक्री हो रहे हैं। इस दौरान वे स्वराशि मेष से मीन राशि में 4 अक्टूबर 2020 को सुबह 10:06 बजे से वक्री चाल करते हुए प्रवेश करेंगे और फिर 14 नवंबर को सुबह 6:06 मिनट पर एक बार फिर मार्गी हो जाएंगे।

इसके बाद 24 दिसंबर 2020 को मंगल एक बार फिर स्वराशि मेष में चला जाएगा यानि कि इस हिसाब से मंगल पूरे 81 दिनों की अवधि के लिए इसी राशि में संक्रमण करेगा जिसका सीधा प्रभाव सभी 12 राशियों पर पड़ेगा। देवसेनापति मंगल की उल्टी चाल का प्रभाव जहां कई राशियों पर अशुभ परिणामकारी होगी वहीं कुछ राशियों को यह चाल फायदा भी पहुंचाती हुई दिख रही है।

पंडित सुनील शर्मा के मुताबिक ज्योतिष गणना के अनुसार ऐसा माना जाता है कि ग्रह अपनी वक्री चाल में अशुभ परिणाम देते हैं। मंगल ग्रह को साहस, बल, हिंसा, क्रोध आदि का कारक माना जाता है। जिन राशियों के लिए मंगल देव की वक्री चाल शुभ नहीं है नौकरी-व्यापार से लेकर कई क्षेत्रों में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। आइए जानते हैं आपकी राशि पर मंगल की वक्री चाल का प्रभाव...

MUST READ : मंगल के अमंगल को रोकने के ये हैं सबसे आसान उपाय

https://www.patrika.com/religion-news/how-to-stop-negativity-of-mars-in-astrology-easiest-tips-6427906/

जानिये 12 राशियों पर इस बदलाव का असर:

1. मेष राशि
मंगल इस दौरान आपकी राशि से 12वें यानि व्यय भाव में गोचर करेगा। इस समय आपको सब्र से काम लेना होगा। वैवाहिक जीवन में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है। सेहत के लिहाज से यह समय आपके लिए शुभ नहीं होगा। कार्यक्षेत्र में चुनौतियां आने की संभावना है।

इस गोचर के प्रभाव से मेष जातकों को स्वास्थ्य संबंधी कुछ परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं। अगर स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सही से ध्यान नहीं रखा गया तो इससे आपके आर्थिक ख़र्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। जिससे आप पर तनाव और आपकी मानसिक सेहत पर खासा प्रभाव पड़ेगा।

उपाय : हनुमान चालीसा का जाप करें।

2. वृषभ राशि
इस समय मंगल का गोचर आपके ग्यारहवें भाव में होने वाला है। सफलता और लाभ पाने के लिहाज़ से यह स्थिति आपके लिए शुभ परिणाम लेकर आएगी। वहीं गोचर का यह समय आपके पेशेवर कार्यों और प्रयासों में एक स्थिरता लाएगा। इस दौरान किए गए आपके प्रयासों को उचित प्रशंसा भी मिलेगी।

लेकिन आप में से कुछ को कार्यक्षेत्र से निराशा हाथ लग सकती है। आपको क्रोध बहुत आएगा। आर्थिक चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि जमीन से जुड़े मामलों में लाभ होने की संभावना है।

उपाय : मंगलवार के दिन भगवान कार्तिकेय की पूजा करें।

3. मिथुन राशि
मंगल का गोचर इस समय आपकी राशि से 10वें यानि कर्म भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि आपके दुश्मन इस समय के दौरान आपको नीचे लाने में कोई कसर नहीं छोड़ने वाले हैं। जिससे आपके मन में असुरक्षा की भावना और खोने का डर बढ़ सकता है। जिसकी वजह से स्थिति को नियंत्रण करने की कोशिश में आप आक्रामक रवैया अपना सकते हैं।

ऑफिस में बॉस के साथ कहासुनी हो सकती है। कार्यक्षेत्र में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। कारोबार में बदलाव के संकेत हैं। पिता की सेहत का ध्यान रखें।

उपाय : मंगलवार के दिन व्रत करें।

4. कर्क राशि
मंगल इस दौरान आपकी राशि से 9वें यानि भाग्य भाव में गोचर करेगा। धैर्य से काम लें और चीजों पर अत्यधिक जोर देने की बजाय उन्हें अपनी गति से काम करने दें तो ज़्यादा बेहतर होगा। अपने कौशल को सुधारने के लिए यह समय आपके लिए अच्छा साबित हो सकता है। इसके अलावा आपको अपने भविष्य के लिए सही नींव रखने के लिए यह समय आप की भरपूर मदद करेगा।
इसके साथ ही इस समय कुछ आर्थिक चुनौतियां आ सकती हैं, तैयार रहें। आपके भाग्य में मंगल की वक्री चाल ग्रहण लगा सकती है। इस अवधि में अपनी सेहत का ख्याल रखें।

उपाय : किसी जानकार की सलाह पर ही मंगलवार को अपने दाहिने हाथ की अनामिका उंगली में सोने में लाल मूंगा पहने।


5. सिंह राशि
इस समय मंगल का गोचर आपकी राशि से 8वें यानि आयु भाव में गोचर करेगा। आपका आत्मविश्वास थोड़ा डगमगा सकता है। यह समय अपनी पुरानी ग़लतियों से सबक लेने और अपने भविष्य में उन ग़लतियों को ना दोहराने के लिए एक अच्छा समय साबित हो सकता है। इस गोचर के दौरान जरूरी है कि आप अपनी क्षमता और सकारात्मक रवैया में विश्वास रखें। इस अवधि के दौरान ऋण या अन्य लोगों के संसाधनों पर भरोसा ना करें क्योंकि अंत में आपके हाथ निराशा लग सकती है।

पारिवारिक दृष्टिकोण से आपके माता-पिता का स्वास्थ्य आपको थोड़ी परेशानियां दे सकता है। इसके अलावा इस काल में गूढ़ विज्ञान में आपकी रुचि बढ़ेगी। पैतृक संपत्ति को लेकर किसी तरह का नुकसान हो सकता है। आपको मिलेजुले परिणाम मिलेंगे। इस समय आपको अप्रत्याशित लाभ हो सकता है।

उपाय : मंगलवार को भगवान हनुमान को सिंदूर चढ़ाएं।

6. कन्या राशि
इस गोचर में मंगल आपकी राशि के सातवें यानि विवाह भाव में गोचर कर रहा है। आर्थिक पहलू की करें तो क्योंकि मंगल का सीधा संबंध आपके दूसरे घर से है, इसलिए इस समय आपकी जेब पर इसका असर पड़ सकता है। इसीलिए धन और संसाधनों का उचित प्रबंधन इस समय की बड़ी जरूरत है।साझेदारी में व्यापार करना घाटे का सौदा हो सकता है। किसी के साथ मिलकर अभी नए कार्य की शुरूआत करना ठीक नहीं रहेगा। वैवाहिक जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी की सेहत का ध्यान रखें।

इस गोचर के दौरान आप जल्दबाजी में निर्णय ले सकते हैं। यह गोचर आपको उन चीजों को छोड़ने के लिए मजबूर कर सकता है जो आपको अपने करियर में आगे बढ़ा सकती है, इसीलिए आपको सलाह दी जाती है कि धैर्य रखें और आगे बढ़ने से पहले हर स्थिति का अच्छी तरह से विश्लेषण कर लें।

उपाय : मंगलवार को तांबा दान करें।

7. तुला राशि
इस दौरान मंगल आपकी राशि से 6वें यानि शत्रु व रोग भाव में गोचर करेगा। मंगल का यह गोचर तुला राशि के छठे घर में होने जा रहा है जिसे प्रतिस्पर्धा और अवरोधों का घर माना जाता है। कार्यस्थल पर काम का दबाव रहेगा। शत्रुओं की संख्या में वृद्धि हो सकती है। सेहत में सुधार हो सकता है। इस दौरान अचल संपत्ति के बढ़ने के भी योग बन रहे हैं। हालांकि कारोबार में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी। व्यक्तिगत रूप से मंगल सातवें घर से छठे घर में बीमारियों की तरफ बढ़ रहा है जिससे यह बात साफ होती है कि इस समय आपके साथी का स्वास्थ्य आपको थोड़ा परेशान कर सकता है।

उपाय : मंगलवार के दिन भगवान नरसिंह की पूजा करें।

8. वृश्चिक राशि
मंगल इस दौरान आपकी राशि से 5वें यानि बुद्धि व पुत्र भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान व्यक्तिगत रूप से आप इस समय के दौरान थोड़े परेशान और चिड़चिडे स्वभाव के रह सकते हैं जिसका असर आपके रिश्तों पर पड़ सकता है।

फिजूल के खर्च बढ़ सकते हैं। उच्च शिक्षा को लेकर असमंजस की स्थिति रहेगी। प्रेम संबंध के लिए स्थिति ठीक नहीं है। प्रियतम के साथ अनबन हो सकती है। स्वास्थ्य के लिहाज से पेट के क्षेत्र से जुड़ी कुछ समस्या आपको परेशान कर सकती है खासकर गैस्ट्रिक और अम्लीय मुद्दों से संबंधित परेशानियां...

उपाय :अपने दाहिने हाथ की अनामिका में लाल मूँगा पहने

9. धनु राशि
इस समय मंगल का गोचर आपकी राशि से 4थें यानि माता व सुख भाव में गोचर करेगा। इस दौरान माता जी की सेहत का ख्याल रखें। साथ ही माता जी के साथ संबंध मधुर बनाए रखें। आपको जल्दबाजी में कुछ निर्णय लेना पड़ सकते हैं जिसके परिणाम स्वरूप भविष्य में आपको नुकसान हो सकता है। आर्थिक रूप से इस दौरान आप अपने घर और संपत्ति को पुनः निर्मित कराने की सोच सकते हैं।

यह आपके रिश्तों में कुछ मन मुटाव भी पैदा कर सकता है। सुखों में कमी आ सकती है। नया कार्य शुरू कर सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से रक्त या बीपी की समस्या इस समय आपको परेशान कर सकती है।

उपाय : हनुमान चालीसा का पाठ करें।

10. मकर राशि
मंगल इस दौरान आपकी राशि से 3रें यानि पराक्रम व छोटे भाई बहन भाव में गोचर करेगा। इस समय के दौरान आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और आप अपने लक्ष्य और महत्वाकांक्षाओं के लिए प्रयास करने में बिल्कुल नहीं झिझकेंगे। साथ ही आपको इस दौरान कुछ ऐसी नौकरियों के अवसर भी प्राप्त हो सकते हैं, जिसके लिए आप पहले प्रयास तो कर रहे थे, लेकिन किन्हीं परिस्थितियों के कारण आप उन्हें पाने में असफल हुए थे।
मानसिक बेचैनी का सामना करना पड़ सकता है। छोटे भाई-बहनों के साथ किसी बात को लेकर तू-तू-मैं-मैं हो सकती है। आपके साहस और पराक्रम में कमी आएगी। समझदारी से काम लें।

उपाय : भक्ति भाव से अंगारक स्त्रोत का पाठ करें।

11. कुंभ राशि
आपकी राशि से मंगल इस समय द्वितीय यानि धन भाव में गोचर करेगा। इस समय आर्थिक मामलों से जुड़े किसी भी फैसले के बारे में अच्छी तरह से जांच करने के बाद ही कदम उठाएं। यह गोचर आपकी वाणी को थोड़ा कठोर बना सकता है जिसके चलते आपके प्रिय जनों और आपके संबंधों के बीच कुछ कड़वाहट पैदा हो सकती है।
किसी के साथ झगड़ा होने की आशंका है। कुंटुंब में परिजनों के बीच विवाद की स्थिति देखने को मिल सकती है। धन की बचत कर पाना मुश्किल होगा। व्यापार में लाभ होगा।
इस समय आपको किसी भी तरह की खरीद से बचें। इसकी जगह आप आपके और आपके परिवार के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए एक सुविचारित योजना या बजट उचित है।

उपाय : ऋण मोचक मंगल स्त्रोत का पाठ करें।

12. मीन राशि
मंगल इस दौरान आपकी ही राशि में यानि लग्न भाव में गोचर करेगा।यह गोचर मीन राशि के जातकों के लिए खराब परिणाम लेकर आने वाला साबित हो सकता है। इस समय आपको संसाधनों और क्षमता के पूरे उपयोग के बाद भी आपकी मेहनत का उचित फल नहीं प्राप्त होगा। कार्यक्षेत्र में भी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है।

इस अवधि में मानसिक परेशान हो सकते हैं। आपका गुस्सा बढ़ेगा और यह गुस्सा आपके घरवालों और प्रियजनों पर निकल सकता है। इससे आपके परिवार में समस्याएं बढ़ सकती हैं।
वैवाहिक जीवन में जीवनसाथी से खटपट हो सकती है।ध्यान रहे इस समय किसी भी तरह के वाद-विवाद या बहस में ना पड़े क्योंकि इससे आपके दुखी होने के चांस ज्यादा है।

उपाय : प्रतिदिन अपने माथे पर चंदन का तिलक लगाएं।



source https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/rashi-parivartan-of-mars-and-it-s-good-and-bad-effects-on-you-6437643/

Comments