भाईदूज पर सूर्य ने किया वृश्चिक में प्रवेश, जाने क्या होगा आप पर असर

दीपावली पर्व के आखिरी दिन यानि भाई दूज के दिन ग्रहों के राजा सूर्य राशि परिवर्तन करेंगे। 16 नवंबर 2020 को सूर्य अपनी नीच राशि तुला से निकलकर अपनी मित्र राशि वृश्चिक में गोचर करेंगे और 15 दिसंबर 2020 तक इस राशि में रहने के बाद इस दिन शाम 21:19 बजे धनु राशि में प्रवेश कर जाएंगे।

ज्योतिष के जानकारों के अनुसार 16 नवंबर 2020, सोमवार यानि को सुबह 06:40 पर अपनी नीच राशि तुला से निकलकर अपनी मित्र राशि वृश्चिक में प्रवेश कर गए। ज्योतिष के अनुसार, सूर्य को सिंह राशि का आधिपत्य प्राप्त है। यह एकमात्र ऐसा ग्रह है जो कभी वक्री गति नहीं करता। वहीं कुंडली में ये आत्मा का कारक ग्रह होने के साथ ही हमारे मान—सम्मान व अपमान का भी कारक माना जाता है।

ऐसे में यदि जातक की कुंडली में सूर्य मजबूत स्थिति में होता है, तो उसे मान-सम्मान और समृद्धि की प्राप्ति होती है। जातक की कुंडली में सूर्य के अशुभ होने पर पेट, आंख और ह्रदय संबंधी रोग हो सकते हैं। माना जाता है सूर्य के अशुभ प्रभाव से जातक के सरकारी काम में भी बाधा आती है। यहां तक कि उसे अपमान का भी घूट पीना पड़ता है।

ऐसे में 16 नवंबर 2020 को सूर्य के वृश्चिक राशि में हो रहे परिवर्तन को वृश्चिक के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि सूर्य इसी राशि में प्रवेश कर रहे हैं। इस गोचर के दौरान सूर्य आपके स्व घर में प्रवेश करेंगे। सूर्य आपके बिजनेस और करियर के दसवें भाव का स्वामी है। सूर्य इस गोचर के दौरान आपके पहले घर में स्थित होने जा रहा है। ज्योतिष के जानकारों अनुसार, इस गोचर के दौरान वृश्चिक राशि वाले अपने करियर को लेकर फोकस रहेंगे। काफी समय से टले हुए कार्यों को पूरा करने की कोशिश करेंगे। इस राशि के जातकों को उनके उच्च अधिकारियों से तारीफ भी मिल सकती है।

Rashi Parivartan of surya : Good and bad effects on you

जानें किस राशि पर पड़ेगा कैसा आसर : Affects on all zodiac signs

1. मेष राशि
इस समय सूर्य का यह गोचर आपके के आठवें घर यानि आयु भाव में होने वाला है। आठवें घर को परिवर्तन और अनुसंधानों का घर माना जाता है। ऐसे में इस गोचर के दौरान मेष जातकों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। यह बात इस तरफ इशारा करती है कि इस गोचर के प्रभाव से आपकी वाणी भी थोड़ी कठोर हो सकती है, जिसका सीधा असर आपके पारिवारिक रिश्तों में पड़ सकता है। इसके अलावा इस गोचर के दौरान आपका आपके पिता के साथ रिश्ता थोड़ा डगमगा सकता है, इसलिए उनके साथ बात करते हुए अपनी वाणी पर उचित ध्यान रखें और संयम बनाए रखें।

कार्य क्षेत्र से जुड़े मेष जातकों के लिए ये समय सावधानी बरतने वाला होगा क्योंकि इस समय के दौरान आप किसी तरह के वाद-विवाद या बहस में पड़ सकते हैं जो उनके मानसिक तनाव में वृद्धि कराने वाला साबित हो सकता है। इसके अलावा अपने वरिष्ठ अधिकारियों और उच्च प्रबंधन के साथ भी किसी तरह की बहस या टकराव में शामिल होने से बचें।

इस समय जितना हो सके जंक फूड, तले-भुने भोजन और मसालेदार भोजन से बचें। ध्यान और योग में अपना समय व्यतीत करें नहीं तो आपको आपके पेट या शरीर के निचले हिस्से से जुड़ी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय: सूर्योदय के समय सूर्य नमस्कार करें।

2. वृषभ राशि
सूर्य का यह गोचर वृषभ राशि के सातवें घर यानि विवाह भाव में होने वाला है। सातवें घर को जीवन साथी, व्यवसाय, और व्यावसायिक साझेदारी का घर भी माना जाता है। ऐसे में आप कभी-कभी अपने व्यवहार में कुछ अधिक आधिकारिक और हावी बन सकते हैं। आप के इस व्यवहार से आपके जीवन साथी और आपके प्रियजनों के बीच कुछ समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं, इसलिए जितना हो सके अपने साथी के प्रति विनम्र रहने की कोशिश करें और उन्हें उनका स्पेस देना ना भूलें।

वृषभ राशि के जातक जो साझेदारी में व्यवसाय कर रहे हैं उन्हें इस दौरान कुछ ग़लतफहमी और मतभेदों का सामना भी करना पड़ सकता है। जितना हो सके अपने साथी से बात करें जिससे आपको समस्या का हल निकालने में मदद मिलेगी। कार्य क्षेत्र से जुड़े वृषभ राशि के जातकों को इस समय के दौरान कार्य क्षेत्र पर अपने वरिष्ठ अधिकारियों या सहयोगियों से कुछ अपमान का सामना भी करना पड़ सकता है। इस समय किसी भी तरह के वाद-विवाद में ना उलझे ।

स्वास्थ्य के बारें में बात करें तो इस गोचर के दौरान आपको अपने पेट से जुड़ी किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए कोशिश करें कि इस दौरान भरपूर मात्रा में पानी पिएं। इसके अलावा बहुत ज्यादा नमक और मसालों वाले खाने से दूर रहें। स्वस्थ रहने के लिए खुद को ऐसी शारीरिक गतिविधियों में शामिल करें जिसमें आपका जमकर पसीना निकले। यह आपके स्वास्थ्य के प्रति सकारात्मक परिणाम लेकर आएगा।

उपाय : सूर्योदय के समय सूर्य देव को जल अर्पित करें।

3. मिथुन राशि
सूर्य का यह गोचर मिथुन राशि के जातकों के छठे घर यानि रोग व शत्रु भाव में होने वाला है। सूर्य का यह गोचर मिथुन राशि के जातकों के लिए शुभ फलदाई साबित होगा। स्वास्थ्य के लिहाज से भी सूर्य का यह गोचर मिथुन राशि के जातकों के लिए अच्छे परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा क्योंकि इस दौरान आपको अपनी किसी लंबी चली आ रही बीमारी से छुटकारा मिल सकता है।

मिथुन राशि के जातकों के लिए सूर्य के गोचर का यह समय काफी अच्छा साबित हो सकता है क्योंकि इस समय मिथुन जातकों की इच्छा शक्ति और दृढ़ता चरम पर होगी जो उन्हें इस दौरान किसी भी चुनौतियों का सामना करने में मदद करेगी। इसके अलावा सूर्य का यह गोचर आपकी प्रतिस्पर्धी ऊर्जा में बढ़ोतरी करेगा जिससे आप अपने दुश्मनों पर बढ़त हासिल करने में कामयाब होंगे।

कार्य क्षेत्र से जुड़े वो जातक जो नौकरी बदलने का प्रयास कर रहे हैं उन्हें इस समय के दौरान काफी अच्छे अवसर मिल सकते हैं। इसके अलावा मिथुन राशि के जातकों को उनके कार्य क्षेत्र में भी सफलता मिलेगी क्योंकि उच्च अधिकारी उनके काम की सराहना करेंगे। इस दौरान किसी भी तरह के वाद-विवाद में ना पड़े।

उपाय : सूर्योदय के समय प्रतिदिन आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें।

4. कर्क राशि
सूर्य का गोचर कर्क राशि के जातकों के पांचवे घर यानि पुत्र व बुद्धि भाव में होगा। पांचवा घर संतान, बुद्धि, प्रेम और रोमांस का प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य का यह गोचर कर्क राशि के जातकों के लिए मिले जुले परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा। आपके पांचवें घर में सूर्य की मौजूदगी की वजह से आप आसानी से नाराज, आपके स्वभाव में चिड़चिड़ापन, और छोटी-छोटी पर बातों पर गुस्सा हो सकते हैं। जो आपके परिजनों के साथ रिश्ते में समस्या पैदा कर सकता है।

सूर्य की यह स्थिति आपको भावुक कर सकती है और आप आसानी से छोटी-छोटी बातों को अपने दिल पर ले लेंगे जो आपके और आपके प्रियजनों के बीच मतभेद पैदा करने वाली साबित होगी। ऐसे में संयम से काम लें और अपने जीवन साथी के साथ खुलकर बात करें।

कार्यक्षेत्र से जुड़े जातकों को इस समय अवांछित देरी का सामना करना पड़ सकता है। जिससे आपके तनाव में वृद्धि होने की संभावना है। इसलिए इस समय के दौरान किसी भी नए काम को करने के बजाय आप अपने पहले से किए हुए काम की संरचना और उसकी योजना पर फिर से एक बार नज़र डालें और उन खामियों पर ध्यान देने की कोशिश करें जो आपके काम में देरी की वजह बन रही है।

तनाव और गुस्से में बढ़ोतरी की वजह से आपका स्वास्थ्य थोड़ा डगमगा सकता है। यह समय आपकी सकारात्मकता और आत्मविश्वास को बढ़ाने में आपकी मदद कर सकता है जिसके परिणामस्वरूप आपके स्वास्थ्य में सुधार अवश्य होगा।

उपाय : रविवार का तांबा दान करें।

5. सिंह राशि :
सूर्य को सिंह राशि का स्वामित्व प्राप्त है। इस समय आपके के लिए सूर्य का यह गोचर चौथे घर यानि सुख व माता का भाव में हो रहा है। चौथा घर माता, आराम, सुख-सुविधाओं का प्रतिनिधित्व करता है। इस गोचर के परिणाम से सिंह जातक अपना सारा ध्यान अपने घर और परिवार पर केंद्रित करेंगे। इस समय आप कोशिश करेंगे कि आप अपने घर के लिए कुछ नया कर सकें। फिर आप घर का पुनर्निर्माण या उसकी साज-सज्जा में समय व्यतीत कर सकते हैं। इसके अलावा यह समय अचल संपत्ति की बिक्री और खरीद से जुड़े मामलों के लिए भी काफी अच्छा साबित हो सकता है।

परिवार के साथ समय व्यतीत करने के लिए यह समय काफी अनुकूल रहेगा। इस समय के दौरान आप अपने परिवार के साथ कहीं घूमने जा सकते हैं या घर पर भी आप अपने परिवार के साथ कुछ समय व्यतीत कर सकते हैं, जिससे आपके और आपके परिवार के रिश्तों को मजबूती मिलेगी।

आपकी मां के स्वास्थ्य के लिहाज से यह समय ज्यादा अनुकूल नहीं रहने वाला है, जिसकी वजह से कुछ सिंह जातकों को परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है।

पेशेवर रूप से यह समय सिंह जातकों के लिए सकारात्मक परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा। कार्यक्षेत्र से जुड़े सिंह राशि के जातकों को इस समय वेतन वृद्धि या पदोन्नति का सुख भी मिल सकता है। कुछ सिंह जातकों के लिए यह समय दीर्घकालिक परियोजनाओं की योजना बनाने के लिए एक अच्छा समय साबित होगा।

लेकिन जैसा की कुंडली का चौथा घर आराम और प्रतिभूतियों का प्रतिनिधित्व करता है ऐसे में आप कभी-कभी अपने व्यवसाय या पेशे में सुरक्षा का अधिक ख्याल रखने के बारे में विचार कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कार्यक्षेत्र में आप ऐसे कामों के प्रति ज्यादा झुकाव महसूस करेंगे जिन कामों के लिए आप ज्यादा सहज/कम्फर्टेबल महसूस करते हैं। जिससे आप कार्य स्थल पर साहसिक निर्णय लेने से खुद को रोक सकते हैं।

उपाय : रविवार के दिन अपनी अनामिका उंगली में 5 से 6 कैरेट का रूबी स्टोन पहनें, लेकिन इसे धारण करने से पहले किसी जानकार की सलाह अवश्य लें।

6. कन्या राशि
सूर्य का यह गोचर कन्या राशि के तीसरे घर यानि पराक्रम भाव में होने जा रहा है। तीसरा भाव पराक्रम, साहस और भाई बहनों का प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य का यह गोचर आपको साहसी बनाएगा। कार्यक्षेत्र पर इस गोचर के दौरान आप नए निर्णय लेने से जरा भी नहीं कतराएंगे, जिसके परिणाम स्वरूप आप अपने उच्च प्रबंधन और सहकर्मियों के बीच उच्च स्थिति में नजर आएंगे।

इस समय आप खुद को आर्थिक रूप से मजबूत करने और धन सचिन संचित करने में कामयाब रहेंगे। भाई बहनों के साथ भी समय व्यतीत करने के लिए यह काफी अच्छा समय साबित होगा। इस गोचर के दौरान आपको आपके भाई बहनों का भरपूर सहयोग मिलेगा। इस अवधि के दौरान की गई यात्रा सफल साबित होंगी और आपको लाभ अवश्य कराएंगी।

इस समय अवधि के दौरान आप अपनी इच्छाओं और महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने में सफल रहेंगे। व्यवसाय के क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिए भी यह समय काफी अच्छा रहने वाला है क्योंकि इस समय उनका काम सुचारु रुप से चल पाएगा। इस समय के दौरान उन्हें कुछ नए प्रस्ताव भी मिल सकते हैं जो उनके व्यवसाय में विस्तार और विकास करने में उनकी मदद करेंगे।

उपाय : सूर्योदय के समय प्रतिदिन विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत का पाठ करें।

7. तुला राशि
तुला राशि के लिए सूर्य का यह गोचर उनके दूसरे घर यानि धन भाव में होगा। दूसरा घर संचित धन, बचत, परिवार और भाषण का प्रतिनिधित्व करता है। वैदिक ज्योतिष में सूर्य ग्रह को एक शुष्क ग्रह माना गया है ऐसे में सूर्य की यह स्थिति आपके लिए अपने प्रियजनों को अपनी भावनाओं को व्यक्त करना थोड़ा मुश्किल बना सकती है। जिसके चलते आप कई पक्षों पर अपने विचार स्पष्ट तौर पर खुलकर तो रखेंगे, लेकिन शायद आपके परिवार के कुछ सदस्यों को इसे समझने में थोड़ी मुश्किल हो सकती है।

ऐसे में अपने प्रियजनों से खुलकर बात करें और अपनी भावनाएं उन तक स्पष्ट रूप से पहुंचाएं। इस दौरान आपका आय का प्रवाह अच्छा रहेगा। लेकिन, इसको अच्छा ही बनाए रखने में आपको थोड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। धन के आने और धन खर्च का आपको इस समय खास ख्याल रखना होगा।

स्वास्थ्य की बात करें तो आंख और दांत दो ऐसे क्षेत्र हैं जहां इस गोचर के दौरान आपको थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए सलाह दी जाती है कि अपने मुंह के क्षेत्र के आसपास उचित स्वच्छता बनाए रखें और अपनी आंखों पर ज्यादा दबाव ना डालें।

उपाय : रविवार के दिन गुड़ का दान करें।

8. वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि के लिए यह गोचर खास महत्व रखता है क्योंकि सूर्य वृश्चिक राशि में ही यानि आपके प्रथम लग्न भाव में ही गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान सूर्य आपके व्यक्तित्व और स्व घर में प्रवेश कर जाएगा।

सूर्य के इस गोचर के दौरान वृश्चिक राशि के जातक अपने कॅरियर को लेकर उन्मुख रहेंगे। इस समय के दौरान आप सबसे आगे रहने के लिए बेहद प्रेरित रहेंगे और अपने लंबित कार्यों को पूरा करने के लिए कोई कसर छोड़ते नहीं दिखेंगे। जिसके चलते आपको आपके उच्च स्तर के अधिकारियों से प्रशंसा मिल सकती है। अगर आप कुछ नया शुरू करना चाहते हैं तो उसके लिए भी यह समय बेहद शुभ साबित हो सकता है, क्योंकि सूर्य की यह स्थिति आपके ध्यान, एकाग्रता और दृष्टि को बढ़ाएगी।

इस समय कोई भी निर्णय लेने के लिए आप खुद को पहले से अधिक आत्मविश्वासी, बोल्ड और स्वतंत्र महसूस करेंगे। हालांकि सबसे आगे रहने की इस होड़ में कभी-कभी आप दूसरों पर हावी भी हो सकते हैं, जो कार्य क्षेत्र में आपके लिए ज्यादा अच्छा नहीं साबित होगा। व्यक्तिगत रूप से, सूर्य की यह स्थिति आपको अपने व्यवहार में आक्रामक बना सकती है। इस दौरान आप थोड़े परेशान भी रहेंगे, जिसके चलते आपके रिश्ते में उतार-चढ़ाव की स्थिति पैदा हो सकती है।

इस समय के दौरान आप जितना शांत रह सकें, आपके लिए उतना अच्छा रहेगा। सूर्य की यह स्थिति आपको किसी अनचाही यात्रा पर भी जाने के लिए प्रेरित कर सकती है। हालांकि यह यात्रा आपके स्वास्थ्य के लिहाज से कुछ समस्याएं पैदा कर सकती है। ऐसे में कोशिश करें की इस समय अवधि में आपको किसी भी तरह की यात्रा ना करनी पड़े।

उपाय : किसी महत्वपूर्ण काम पर जाने से पहले पिता का आशीर्वाद जरूर लें।

9. धनु राशि
सूर्य का यह गोचर धनु राशि के बारे में द्वादश घर यानि व्यय भाव में होगा। द्वादश घर विदेश यात्रा और विदेश से लाभ का घर माना गया है। यह समय आपके लिए अकेले में कुछ समय बिताने के लिए भी बेहद अच्छा समय साबित हो सकता है, क्योंकि इस दौरान आप अकेले रहकर खुद का मूल्यांकन कर सकते हैं और खुद को फिर से जीवंत कर सकते हैं। इस अवधि में आपका एक नया रूप भी सबके सामने आएगा जिसमें आप उन लोगों की मदद करने के लिए ज्यादा इच्छुक नजर आएंगे, जो खुद की मदद करते हैं।

कार्यक्षेत्र में इस समय अवधि के दौरान आपको अपनी महत्वकांक्षाओं को पूरा करने की राह में कुछ अनावश्यक बाधाओं का भी सामना करना पड़ सकता है। गोचर का ये समय आपके जीवन में दबाव की स्थिति पैदा कर सकता है, जिसके चलते आप अपने करियर के मामले में स्थिर महसूस करेंगे।

इसके अलावा आर्थिक मामले पर भी धनु जातकों की स्थिति थोड़ी तंग रह सकती है। आप लम्बे समय से जिस पदोन्नति या वृद्धि के लिए इंतजार कर रहे थे, उसमें अभी कुछ और समय भी लग सकता है। अभी धैर्य और संयम से काम करें।

वहीं इस दौरान आपकी व्यय में वृद्धि होगी। ऐसे में किसी भी नए उद्यम या निवेश में हाथ डालने से पहले हर स्थिति का ठीक से मुआयना कर लें, तभी उसमें निवेश करें। अन्यथा आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है। इस समय के दौरान किसी पर भी अंधा विश्वास करने से सावधान रहें, क्योंकि कोई भी उतना वफादार साबित नहीं होगा, जितना आप उनके बारे में सोच रहे हैं।

प्यार और रोमांस के लिए यह समय कुछ ज्यादा शुभ नहीं साबित होगा क्योंकि इस दौरान आपके रिश्तो में बहुत सारी गलतफहमियां आ सकती हैं। वहीं यदि स्वास्थ्य के लिहाज से बात की जाए तो इस समय के दौरान आपके पेट और आंखें आपकी चिंता का विषय बन सकती हैं। अपने आहार को नियंत्रण में रखने की कोशिश करें और आंखों पर बहुत ज्यादा तनाव ना डालें।

उपाय : सूर्योदय के दौरान प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करें।

10. मकर राशि
सूर्य का यह गोचर मकर राशि के ग्यारहवें घर यानि आय भाव में होने जा रहा है। ग्यारहवें भाव को सफलता, लाभ और समाज में प्रतिष्ठा का प्रतिनिधि माना गया है। यह बात इस तरफ इशारा करती है कि सूर्य का यह गोचर मकर राशि के जातकों के लिए शुभ परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा। इस गोचर के समय अवधि में आपको कुछ ऐसे मुनाफ़े होंगे या आपको एक सफलताएं मिलेंगी, जिसका अपने लंबे समय से इंतजार किया है।

कार्यक्षेत्र से जुड़े जातकों को उनके कार्यस्थल में उनके प्रयासों के लिए प्रशंसा मिलेगी। सरकार या किसी वरिष्ठ अधिकारियों से आपको अप्रत्याशित लाभ मिलने की भी प्रबल संभावना है। मकर राशि के जातक जो व्यापार के क्षेत्र से जुड़े हैं, उनको भी इस गोचर समय के दौरान अप्रत्याशित लाभ और उनके बिज़नेस में बढ़ोतरी दिखेगी। इसके अलावा अगर आप रियल स्टेट, प्रॉपर्टी या किस जमीन में पैसा लगाने की सोच रहे हैं, तो उसके लिए भी यह समय बेहद ही अच्छा साबित हो सकता है।

व्यक्तिगत रूप से भी यह समय आपके लिए काफी अच्छा जाने वाला है क्योंकि इस समय आप किसी नए रिश्ते के बारे में सोच सकते हैं और यह रिश्ता भविष्य में एक मजबूत बंधन के रूप में भी परिवर्तित हो सकता है। वहीं विवाहित लोगों के लिए यह समय एक दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करने का बेहतरीन समय होगा। यह समय आपके रिश्ते को और मजबूत बनाने में मदद कर सकता है।

इस दौरान आपके आपके पिता या पितातुल्य लोगों के साथ संबंध अच्छे होंगे, जिनसे आपको लाभ भी मिल सकता है। हालांकि भाई बहनों के साथ इस समय थोड़े बहुत वाद विवाद होने की आशंका है।

वहीं स्वास्थ्य के संदर्भ में बात करें तो यह समय आपको किसी भी बीमारियों से लड़ने के लिए आवश्यक ऊर्जा और जीवन में शक्ति प्रदान करने वाला साबित होगा। जिससे आपके स्वास्थ्य में सकारात्मक परिणाम नजर आएंगे। कुल मिलाकर बात की जाए तो मकर राशि के लिए गोचर बेहद ही शुभ होने वाला है। इस गोचर में उनको मन वांछित परिणाम प्रदान करने की क्षमता है।

उपाय: किसी भी महत्वपूर्ण काम के लिए घर से निकलने से पहले अपने पिता या पिता तुल्य लोगों से आशीर्वाद लें।

11. कुम्भ राशि
इस गोचर से कैरियर और पेशे के दसवें घर यानि कर्म भाव में मौजूद सूर्य इस बात की तरफ साफ इशारा कर रहा है कि कुंभ राशि के जातकों के लिए यह गोचर लाभ देने वाला साबित होगा। नौकरी के क्षेत्र से जुड़े जातक जो किसी नई नौकरी की तलाश में हैं उन्हें इस समय के दौरान अच्छी नौकरी मिल सकती है। वहीं इसके अलावा जो लोग अपनी मौजूदा नौकरी में हैं उन्हें भी इस समय के दौरान कार्य स्थल में ही उच्च पदों पर आसीन होने का मौका भी मिलने की संभावना है।

इस समय के दौरान आपकी स्थिति में सुधार होगा। इसके अलावा आप कुछ बड़े और प्रभावशाली लोगों के संपर्क में भी आ सकते हैं जिससे भविष्य में आपको फायदा या मुनाफ़ा मिलेगा। इस समय के दौरान आपके सहकर्मी और आपकी अधीनस्थ आपके काम और आपके प्रयासों में आपका भरपूर समर्थन करेंगे। जिससे कार्य स्थल में आपकी उत्पादकता और कार्य क्षमता बढ़ने की प्रबल संभावना नजर आ रही है। साथ ही आप इस समय सीमा के दौरान आवश्यक कौशल और अनुभव प्राप्त करने में सक्षम होंगे, जिससे आपके कॅरियर में आपको बहुत लाभ मिलेगा।

इस समय के दौरान विनम्र रहे जिसके परिणाम स्वरूप आपको इस गोचर से बेहतर परिणाम मिलने में मदद मिलेगी। व्यवसाय के क्षेत्र से जुड़े जातकों के कुछ काम जो पिछले कुछ समय से अटके हुए थे उन्हें इस समय अवधि के दौरान अपने लंबित कार्यों को पूरा करने के लिए मदद मिल सकती है। इसके अलावा इस समय अवधि में की गई यात्रा आपको शुभ परिणाम देने वाली साबित होगी। निजी तौर पर भी आपके रिश्ते और आपके परिवार के लिए अच्छा समय साबित होगा।

आपके जीवन में ख़ुशियां और संतोष भरपूर मात्रा में रहेगा। आपके मित्र और आपके साथी भी इस अवधि के दौरान आपको आवश्यक सहयोग प्रदान करेंगे। स्वास्थ्य के लिहाज से यह समय आपको ऊर्जा वान और जोश से भरपूर रखेगा। हालांकि अगर आप किसी तरह की शारीरिक गतिविधि में लिप्त होते हैं, तो इससे आपकी ऊर्जा को बेहतर दिशा में ले जाने में मदद मिलेगी। इससे आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।

उपाय : सूर्योदय के समय रोजाना राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें।

12. मीन राशि
सूर्य का यह गोचर मीन राशि के जातकों के नौवें घर यानि भाग्य भाव में होगा। नौवां घर आध्यात्म, लंबी यात्रा, उच्च शिक्षा और भाग्य का प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य की इस स्थिति में आपको व्यक्तिगत और पेशेवर दोनों ही मोर्चों पर लाभ मिलने के संकेत हैं। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े जातक इस समय अपने परिश्रम और हार्ड वर्क से वांछित परिणाम पाने में सफल रहेंगे। खासकर वह छात्र जो सरकारी या किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं।

आपकी राशि के नौवें घर में सूर्य के इस गोचर से आपके पिता को उनके पेशेवर जीवन में बड़ी सफलता और प्रगति मिलेगी। साथ ही इस समय के दौरान आपको आपके पिता से काफी सहयोग भी मिलने की संभावना है। मीन राशि के जातकों के लिए यह समय इस बात की तरफ साफ इशारा करती है कि इस गोचर के दौरान आप अपने दुश्मनों और प्रतियोगियों पर हावी होने में सक्षम रहेंगे। साथ ही अगर आपका कोई भी कानूनी केस चल रहा है तो इस समय उसका फैसला आपके पक्ष में आने की प्रबल संभावना है। मीन राशि के पेशेवर जातकों को भी इस समय में लाभ होने की संभावना है।

इस समय के दौरान आप अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत और कोई भी बलिदान देने से झिझकेंगे नहीं। आपके द्वारा किए गए काम के लिए आपको अपने कार्य स्थल में उचित पहचान और प्रशंसा मिलेगी। इसके अलावा सरकारी परियोजनाओं से जुड़े हुए व्यवसाइओं को इस समय के दौरान नई परियोजनाओं और नए कार्यों से जुड़ने की प्रबल संभावना है।

कुल मिलाकर यह समय आपके लिए काफी शुभ रहने वाला है। इस दौरान आपको काफी सारे सकारात्मक परिणाम मिलने की संभावना है। इस दौरान कोई भी निर्णय लेने में समझदारी बरतें और अपने अहंकार को दूर रखें।

उपाय : सूर्य उदय के दौरान रोजाना सूर्य अष्टकम का पाठ करें।



source https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/rashi-parivartan-of-surya-good-and-bad-effects-on-you-6520960/

Comments