कालों के काल महाकाल की नगरी अवंतिका के रहस्य

देश दुनिया में यूं तो भगवान शिव शंकर के अनेक मंदिर हैं। वहीं भगवान शिव को ही महादेव के नाम से भी जाना जाता है। ऐसे में आज हम आपको देवों के देव महादेव भगवान शंकर की नगरी कही जाने वाली अवंतिका नगरी यानि उज्जैन के बारे में कुछ खास बताने जा रहे हैं, जिनमें से कई बातें शायद आपमें से कई लोग जानते भी नहीं होंगे। दरअसल महादेव/महाकाल की नगरी अवंतिका नगरी यानि उज्जैन अपने आप में बहुत अद्भुत है। शिप्रा नदी के किनारे बसे और मंदिरों से सजी इस नगरी को सदियों से महाकाल की नगरी के तौर पर जाना जाता है।

उज्जयिनी और अवन्तिका नाम से भी यह नगरी प्राचीनकाल में जानी जाती थी। स्कन्दपुराण के अवन्तिखंड में अवन्ति प्रदेश का महात्म्य वर्णित है। उज्जैन के अंगारेश्वर मंदिर को मंगल गृह का जन्मस्थान माना जाता है, और यहीं से कर्क रेखा भी गुजरती है। मध्य प्रदेश का उज्जैन एक प्राचीनतम शहर है जो शिप्रा नदी के किनारे स्थित है और शिवरात्रि, कुंभ और अर्ध कुंभ जैसे प्रमुख मेलों के लिए प्रसिद्ध है। प्राचीनकाल में इस शहर को उज्जयिनी के नाम से भी जाना जाता है “उज्जयिनी” का अर्थ होता है एक गौरवशाली विजेता। उज्जैन धार्मिक गतिविधियों का केंद्र है और मुख्य रूप से अपने प्रसिद्ध प्राचीन मंदिरों के लिए देशभर के पर्यटकों को आकर्षित करता है।

हजारों लाखों साल से उज्जैन नगरी को भले ही कभी अवंतिका तो कभी कनकश्रृंगा या कुशस्थली या भोगस्थली या अमरावती जैसे कई नामों से जाना गया। लेकिन इन सभी नामों के बावजूद यह सदैव महाकाल की ही नगरी कहलाई। देश भर में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग हैं, उनमें से एक उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में महाकाल के रूप में विराजमान है, ये दुनिया का इकलौता ज्योतिर्लिंग है जो दक्षिणमुखी है। माना जाता है कि दक्षिण दिशा मृत्यु यानी काल की दिशा है और काल को वश में करने वाले महाकाल हैं।

दक्षिण दिशा का स्वामी भगवान यमराज है। दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग के दर्शन मात्र से ही जीवन स्वर्ग तो बनता ही है मृत्यु के उपरांत भी यमराज के दंड से मुक्ति पाता है। महाकालेश्वर द्वादश ज्योतिर्लिंगों में दक्षिणमुखी होने के कारण प्रमुख स्थान रखता है, महाकालेश्वर मंदिर में अनेकों मंत्र जप जल अभिषेक एवं पूजा होती हैं। महाकालेश्वर में ही महामृत्युँजय जाप भी होता है। महाकालेश्वर मंदिर एक विशाल परिसर में स्थित है, जहाँ कई देवी-देवताओं के छोटे-बड़े मंदिर हैं। मंदिर में प्रवेश करने के लिए मुख्य द्वार से गर्भगृह तक की दूरी तय करनी पड़ती है। इस मार्ग में कई सारे पक्के चढ़ाव उतरने पड़ते हैं परंतु चौड़ा मार्ग होने से यात्रियों को दर्शनार्थियों को अधिक ‍परेशानियाँ नहीं आती है। गर्भगृह में प्रवेश करने के लिए पक्की सीढ़ियां बनी हैं।

आकाश का मध्य व धरती का केंद्र : जहां से होता है पूरे ब्रह्माण्ड का समय निर्धारित...
महाकाल की इस भूमि यानि उज्जैन को लेकर तमाम रहस्य आज भी मौजूद हैं। कहा जाता है कि उज्जैन पूरे आकाश का मध्य स्थान यानी यहीं आकाश का केंद्र है। साथ ही उज्जैन पृथ्वी का भी केंद्र भी है, यानी यहीं वो जगह है जहां से पूरे ब्रह्माण्ड का समय निर्धारित होता है। इसी जगह से ब्रह्माण्ड की कालगणना होती है, साथ ही समय का केंद्र मानी जाने वाली इस धरती को महाकाल की धरती भी कहा जाता है। महाकाल की महिमा का वर्णन इस प्रकार से भी किया गया है –

आकाशे तारकं लिंगं पाताले हाटकेश्वरम् ।
भूलोके च महाकालो लिंड्गत्रय नमोस्तु ते ॥

इसका तात्पर्य यह है कि आकाश में तारक लिंग, पाताल में हाटकेश्वर-लिंग और पृथ्वी पर महाकालेश्वर ही मान्य शिवलिंग है।

मान्यता के अनुसार महाकाल पृथ्वी लोक के अधिपति हैं, साथ ही तीनों लोकों के और सम्पूर्ण जगत के अधिष्ठाता भी है। कई धार्मिक ग्रंथों जैसे शास्त्रों और पुराणों में उनका ज़िक्र इस प्रकार किया गया है कि उनसे ही कालखंड, काल सीमा और काल विभाजन जन्म लेता है और उन्हीं से इसका निर्धारण भी होता है। इसका अर्थ ये है कि उज्जैन से ही समय का चक्र चलता है, पूरे ब्रह्माण्ड में सभी चक्र यहीं से चलते हैं। फिर चाहे पृथ्वी का अपनी धुरी पर घूमना हो, चंद्रमा का पृथ्वी का चक्कर लगाना, पृथ्वी का सूर्य का चक्कर लगाना हो या फिर आसमान में किसी प्रकार का चक्र हो यह सब क्रियाएं महाकाल को साक्षी मानकर ही होती हैं।

शिव महापुराण के 22वें अध्याय के अनुसार दूषण नमक एक दैत्य से भक्तो की रक्षा करने के लिए भगवान शिव ज्योति के रूप में उज्जैन में प्रकट हुए थे । दूषण संसार का काल था और शिव शंकर ने उसे खत्म कर दिया इसलिए शंकर भोलेनाथ महाकाल के नाम से पूज्य हुए। अतः दुष्ट दूषण का वध करने के पश्चात् भगवान शिव कहलाये कालों के काल महाकाल उज्जैन में महाकाल का वास होने से पुराने साहित्य में उज्जैन को महाकालपुरम भी कहा गया है। उज्जैन में एक कहावत प्रसिद्ध है “अकाल मृत्यु वो मरे जो काम करे चांडाल का, काल भी उसका क्या बिगाड़े जो भक्त हो महाकाल का”

भस्म से स्नान : एक बेहद गहरा राज...
पुराणों में मोक्ष देनेवाली यानी जीवन और मृत्यु के चक्र से छुटकारा दिलाने वाली जिस सप्तनगरी का ज़िक्र है और उन सात नगरों में एक नाम उज्जैन का भी है। जबकि दूसरी तरफ महादेव का वो आयाम है जिसे महाकाल कहते हैं, जो मुक्ति की ओर ले जाता है। उज्जैन में कालभैरव व गढ़कालिका भी हैं, जिसमें काल का ज़िक्र आता है और काल यानी समय, जो उस समय के भी स्वामी हैं वे हैं महाकाल।

उज्जैन में भस्म से स्नान करनेवाले महाकाल की विशिष्ट आराधना भी होती है। आदिदेव शंकर को भस्म रमाना बेहद पसंद है, इसके पीछे का राज़ भी बेहद गहरा है। एक तरफ महाकाल रूप में अगर शिव समय के स्वामी हैं, तो काल भैरव के रूप में वो समय के विनाशक हैं। इन्ही सब के आसपस वो रहस्य छिपा है जिसमें पता चलता है कि महादेव को राख या भस्म क्यों पसंद है, क्यों उनकी आराधना में भस्म का स्नान या भस्म का तिलक इस्तेमाल होता है। महाकाल की ऐसी आराधना कहीं और देखने को नहीं मिलती। भस्म और महादेव का क्या नाता है? हालांकि ये रहस्य आज भी रहस्य है, लेकिन भस्म को लेकर कुछ सिद्धांत ज़रूर दिए गए हैं।

सती से शिव के प्रेम का प्रतीक है भस्म
हिन्दू धर्म के तमाम पंथों का प्रेरणास्रोत उज्जैन नगरी को माना जाता है। उन्ही में से एक संप्रदाय जो मच्छेन्द्र नाथ और गोरखनाथ से होते हुए नवनाथ के रूप में प्रचलित हुआ। इस संप्रदाय के साधु भी अक्सर भस्म रमाये मिलते हैं। शिव की पसंदीदा भस्म साधु सन्यासियों के लिए प्रसाद है और वो अपनी जटाओं से लेकर पूरे शरीर में धुणे की भस्म लगाए मिलते हैं।

: वहीं शिव के बारे में एक अन्स मान्यता ये भी है कि भगवान शंकर की पहली पत्नी सती के पिता ने भगवान शंकर का अपमान किया जिससे आहत होकर सती यज्ञ के हवनकुंड में कूद गईं, जिससे शिव क्रोधित हो गए। शिव सती के मृत शरीर को लेकर पूरे ब्रह्माण्ड में घूमने लगे। ऐसा लगा कि शिव के क्रोध से ब्रह्माण्ड का अस्तित्व खतरे में है। तब श्री हरि विष्णु ने शिव को शांत करने के लिए सती को भस्म में बदल दिया और शिव ने अपनी पत्नी को हमेशा अपने साथ रमा लेने के लिए उस भस्म को अपने तन पर मल लिया।

: इसके अलवा महादेव की पहली पत्नी सती को लेकर एक अलग मान्यता भी है। जिसके अनुसार श्री हरि विष्णु ने देवी सती के शरीर को भस्म में नहीं बदला, बल्कि उसे छिन्न भिन्न कर दिया। कहते हैं पृथ्वी पर 51 जगहों पर उनके अंग गिरे, इन्हीं स्थानों पर शक्तिपीठों की स्थापना हुई। जिसमें से एक शक्तिपीठ उज्जैन में भी है। जिसे वर्तमान काल में हरिसिद्धी माता के मंदिर के नाम से जाना जाता है।

भस्म का श्रृंगार : मोह-माया से विरक्ति के लिए...
एक मान्यता के अनुसार शिव अपने शरीर पर चिता की राख मलते हैं और संदेश देते हैं कि आखिर में सब कुछ राख हो जाना है, ऐसे में सांसारिक चीज़ों को लेकर मोह-माया के वश में ना रहें और भस्म की तरह बनकर स्वयं को प्रभु को समर्पित कर दें।

भस्म विध्वंस का भी प्रतीक है। क्योंकि ब्रह्मा अगर सृष्टि के निर्माणकर्ता हैं और विष्णु पालनकर्ता तो महेश को सृष्टि का विनाशक माना जाता है। मान्यता के अनुसार जब सृष्टि में नकारात्मकता बहुत ज़्यादा बढ़ जाती है तो शिव संहारक के रूप में आते हैं और सब कुछ विध्वंस कर डालते हैं। इससे एक अन्य मान्यता ये भी है कि भस्म उस विध्वंस का प्रतीक है जिसकी याद शिव सबको दिलाते हैं कि सभी सद्कर्म करें अन्यथा अंत में वो सब राख कर देंगे।

भस्म से शिव का ये रिश्ता सिर्फ मान्यताओं में है, क्योंकि इसका रहस्य आज भी बरकरार है, हालांकि महाकाल को उज्जैन नगरी का राजा मानते हैं और इसे भी लेकर एक ऐसा राज़ है जिसे आज भी अवंतिका के लोग महसूस करते हैं.

उज्जैन के एकमात्र राजा : महाकाल...
विक्रम- बेताल और सिंहासन बत्तीसी की प्रचलित कथा में भी उज्जैन के राजा विक्रमादित्य से जुड़े ऐसे कई रहस्यों को इस नगरी ने समेट रखा है। कहा जाता है कि राजा विक्रमादित्य ने जब से 32 बोलने वाली पुतलियों से जड़े हुए अपने सिंहासन को छोड़ा, तो उनके शासन के बाद से यहां कोई भी राजा रात में रुक नहीं सकता।

उज्जैन के एक ही राजा हैं और वो हैं कालों के काल महाकाल। पौराणिक तथा और सिंहासन बत्तीसी की कथा के मुताबिक राजा भोज के काल से ही यहां कोई राजा नहीं रुकता है। यहां तक कि आज के समय में यहां पर ना तो सीएम, पीएम, राष्ट्रपति या कोई जनप्रतिनिधि यहां रात में रुक नहीं सकता।

कहते हैं कि देश के चौथे प्रधानमन्त्री मोरार जी देसाई उज्जैन में एक रात रुके थे, अगले ही दिन उनकी सरकार चली गई। कर्नाटक में मुख्यमंत्री येदियुरप्पा उज्जैन में एक रात रुके और 20 दिन बाद ही येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा।

इस मान्यता का राज़ कोई नहीं जानता, लेकिन ऐसी घटनाएं राजनीति और राजपरिवार से जुड़े लोगों को विवश कर देती हैं कि वह महाकाल की नगर सीमा में रात को बिल्कुल नहीं रुकें।

अनिश्चित मृत्यु टालते हैं महाकाल -
कई व्यक्ति बाबा के दर्शन इसलिए भी करते है ताकि वन अपनी अनिश्चित मृत्यु को टाल सके, एवं मोक्ष को प्राप्त हो सके। यहाँ आकर सच्चे मन से मांगी गई दुआ कभी खाली नहीं जाती। यहाँ आने से हर मनोकामना पूर्ण होती हैं। बाबा के दर्शन करने के लिए देश विदेश से भी व्यक्ति आते है। कई विद्वानों का कहना है की महाकाल उज्जैन से ही दुनिया का भरण-पोषण करते हैं।

भगवान महाकाल का सच्चे मन से पूजन करने से सभी कष्टो से मुक्ति मिल जाती है ।हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान शंकर को मृत्यु लोक के देवता माना जाता है, इसलिए वो अवतार न होते हुए स्वयं साक्षात ईश्वर है और कालों के काल होने के कारण उन्हें महाकाल कहा जाता है जिसका न आरम्भ है न ही अंत है ।

महाकाल को काल का अधिपति माना गया है तथा खासतौर पर भगवान शंकर का पूजन करने से मृत्यु का भय दूर हो जाता है एवं अगर सच्चे मन से भगवान शंकर की पूजा की जाये तो मृत्यु के बाद यमराज द्वारा दी गई यातनाओ से भी मुक्ति मिल जाती है।

महाकाल स्तोत्रं: हर हाल में सफलता दिलवाता है शिव का यह वरदान….
बहुत ही कम महाकाल स्तोत्रं के बारे में जानते हैं, जिसे स्वयं भगवान शिव ने भैरवी को बताया था। इस स्तोत्रं में भगवान शिव के विभिन्न स्वरूपों की स्तुति की गई है। धार्मिक ग्रंथों की मानें तो यह स्तोत्रं भगवान शिव के भक्तों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

प्रतिदिन बस एक बार इस स्तोत्रं का जाप भक्त के भीतर नई ऊर्जा और शक्ति का संचार कर सकता है। इस स्तोत्रं का जाप आपको सफलता के बहुत निकट लेकर जा सकता है।

महाकाल स्तोत्रं -

ॐ महाकाल महाकाय महाकाल जगत्पत।
महाकाल महायोगिन महाकाल नमोस्तुते।।
महाकाल महादेव महाकाल महा प्रभो।
महाकाल महारुद्र महाकाल नमोस्तुते।।

'अनेकानेक प्राचीन वांग्मय महाकाल की व्यापक महिमा से आपूरित हैं क्योंकि वे कालखंड, काल सीमा, काल-विभाजन आदि के प्रथम उपदेशक व अधिष्ठाता हैं।

अवन्तिकायां विहितावतारं
मुक्ति प्रदानाय च सज्जनानाम्‌
अकालमृत्योः परिरक्षणार्थं
वन्दे महाकाल महासुरेशम॥

'अर्थात जिन्होंने अवन्तिका नगरी (उज्जैन) में संतजनों को मोक्ष प्रदान करने के लिए अवतार धारण किया है, अकाल मृत्यु से बचने हेतु मैं उन 'महाकाल' नाम से सुप्रतिष्ठित भगवान आशुतोष शंकर की आराधना, अर्चना, उपासना, वंदना करता हूँ।

वहीं यहां मौजूद कालभैरव मंदिर की कहानी बड़ी दिलचस्प है। स्कंद पुराण के मुताबिक चारों वेदों के रचियता ब्रह्मा ने जब पांचवें वेद की रचना करने का फैसला किया तो परेशान देवता उन्हें रोकने के लिए महादेव की शरण में गए। उनका मानना था कि सृष्टि के लिए पांचवे वेद की रचना ठीक नहीं है, लेकिन ब्रह्मा जी ने महादेव की भी बात नहीं मानी।

कहते हैं इस बात पर शिव क्रोधित हो गए। गुस्से के कारण उनके तीसरे नेत्र से एक ज्वाला प्रकट हुई। इस ज्योति ने कालभैरव का रौद्ररूप धारण किया, और ब्रह्माजी के पांचवे सिर को धड़ से अलग कर दिया। कालभैरव ने ब्रह्माजी का घमंड तो दूर कर दिया लेकिन उन पर ब्रह्महत्या का दोष लग गया. इस दोष से मुक्ति पाने के लिए भैरव दर दर भटके लेकिन उन्हें मुक्ति नहीं मिली. फिर उन्होंने अपने आराध्य शिव की आराधना की। शिव ने उन्हें शिप्रा नदी में स्नान कर तपस्या करने को कहा. ऐसा करने पर कालभैरव को दोष से मुक्ति मिली और वो सदा के लिए उज्जैन में ही विराजमान हो गए।

वैसे तो काल भैरव के इस मंदिर में पैर रखते ही मन में एक अजीब सी शांति का एहसास होता है, लगता है मानो सारे दुख दूर हो गए लेकिन कालभैरव को ग्रहों की बाधाएं दूर करने के लिए जाना जाता है. खास तौर पर जन्म कुंडली में राहु से पीड़ित होने वाला व्यक्ति विचारों के जाल में फंसा रहता है. वो अगर इस मंदिर में आकर भगवान को भोग लगाता है तो उसे सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। बिल्कुल वैसे ही जैसे कालभैरव को शिव की आराधना से मिली थी।

ऐसे पहुंचें यहां :-
उज्जैन (मध्यप्रदेश) पहुंचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा इंदौर है, जो उज्जैन से पचपन किलोमीटर की दूरी पर है। इंदौर में रेलवे स्टेशन भी है जो दिल्ली, मुंबई, बनारस, भोपाल, अहमदाबाद, बिलासपुर और जयपुर जैसे महत्वपूर्ण स्थानों से सीधा जुड़ा है। इंदौर से उज्जैन बस या ट्रेन के जरिए आसानी से पहुंचा जा सकता है।



source https://www.patrika.com/pilgrimage-trips/mystery-of-lord-shiva-city-ujjain-in-madhya-pradesh-6505100/

Comments