Dhanteras 2020 Date: धनतेरस या धनत्रयोदशी की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इसका महत्व...

पांच दिवसीय दीपावली पर्व की शुरुआत धनतेरस से होती है। दिवाली से यह पर्व दो दिन पहले मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में धनतेरस का विशेष महत्व है। इस दिन सनातनधर्मावलंबी सोना, चांदी, आभूषण, बर्तन आदि की खरीदारी कर पूजा करते है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को हर साल धनतेरस या धनत्रयोदशी मनाई जाती है। इस वर्ष यानि 2020 में धनतेरस यानि धनत्रयोदशी 13 नवंबर दिन शुक्रवार को है।

वहीं दीपावली पर्व का मुख्य त्योहार दिवाली इस पर्व के तीसरे दिन कार्तिक अमावस्या के दिन मनाया जाता है। वहीं धनतेरस या धनत्रयोदशी के दिन देवों के वैद्य भगवान धन्वंतरी की विधि विधान से पूजा की जाती है। इस दिन लोग शुभता के लिए सोना, चांदी, आभूषण, बर्तन आदि की खरीदारी भी करते है।

धनतेरस 2020 पूजा मुहूर्त
इस साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि का प्रारंभ 12 नवंबर दिन गुरुवार की रात 09 बजकर 30 मिनट पर होगा, जो 13 नवंबर दिन शुक्रवार को शाम 06 बजकर 01 मिनट तक रहेगा। ऐसे में धनतेरस 13 नवंबर को है, वहीं इस बार धनतेरस की पूजा के लिए 27 मिनट का शुभ मुहूर्त है।

dhanteras 2020 date and time with some rules
IMAGE CREDIT: dhanteras 2020 date and time with some rules

धनतेरस 2020 मुहूर्त...
धनतेरस मुहूर्त :17:34:00 से 18:01:28 तक
अवधि :0 घंटे 27 मिनट
प्रदोष काल :17:28:10 से 20:07:11 तक
वृषभ काल :17:34:00 से 19:29:51 तक

धनतेरस को धन्वंतरि और कुबेर की पूजा
धनतेरस को शुभ मुहूर्त में आपको देवताओं के वैद्य या आरोग्य के देवता धन्वंतरि और धन के देवता कुबेर की पूजा करनी चाहिए। धन्वंतरि को भगवान विष्णु का रुप माना जाता है। यह अपने हाथों में अमृत कलश धारण किए होते हैं, इनको पीतल के धातु प्रिय हैं, इसलिए धनतेरस को लोग पीतल के बर्तन आदि खरीदते हैं।

धनतेरस : यम दीपक...
दिवाली से दो तिथि पहले यानि धनतेरस को यम के लिए दीपक जलाया जाता है। धनतेरस के दिन संध्या के समय में घर के बाहर एक दीपक यमराज के लिए जलाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि यम का दीपक जलाने से यमराज खुश होते हैं और परिवार के सदस्यों की अकाल मृत्यु से सुरक्षा प्रदान करते हैं।

धनतेरस पर खरीदारी : Shopping on Dhanteras
धनतेरस पर खरीदारी करना शुभ माना जाता है, लेकिन पंडित सुनील शर्मा के अनुसार इस दिन कुछ चीजों को खरीदने पर विशेष निषेध भी है, तो आइये जानते हैं कि धनतेरस के दिन क्या खरीदे व क्या नहीं...

धनतेरस पर खरीदें...
- आमतौर पर लोग इस दिन सोने-चांदी के आभूषण खरीदते हैं, लेकिन यह जरूर नहीं कि आपकी जेब भी इसकी अनुमति दे, ऐसे में आप सोने या चांदी का सिक्‍का खरीद सकते हैं।
- धनतेरस के दिन धन के देवता कुबेर की पूजा की जाती है और उन्‍हें चांदी अति प्रिय है। ऐसे में इस दिन चांदी खरीदना अच्‍छा माना जाता है, कहते हैं कि धनतेरस के मौके पर चांदी खरीदने से यश, कीर्ति और ऐश्वर्य की वृद्धि होती है। यही नहीं चांदी को चंद्रमा का प्रतीक भी माना जाता है, जो मनुष्‍य के जीवन में शीतलता लेकर आती है।
- इस दिन धातु के बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है] विशेषकर चांदी और पीतल को भगवान धन्‍वंतरी का मुख्‍य धातु माना जाता है। ऐसे में इस दिन चांदी या पीतल के बर्तन जरूर खरीदने चाहिए।
- मान्‍यता है कि भगवान धन्‍वंतर‍ि समुद्र मंथन के दौरान हाथ में कलश लेकर जन्‍मे थे] इसलिए धनतेरस के दिन पानी भरने वाला बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है।
- इस दिन व्‍यापारी नए बही-खाते खरीदते हैं, जिनकी पूजा दीपावली के मौके पर की जाती है।
- इस दिन गणेश और लक्ष्‍मी की अलग-अलग मूर्तियां जरूर खरीदें, दीपावली के दिन इन मूर्तियों की पूजा का विधान है।
- इस दिन खील-बताशे और मिट्टी के छोटे दीपक खरीदें, एक बड़ा दीपक भी खरीदें।
- इस दिन लक्ष्‍मी जी का श्री यंत्र खरीदना भी शुभ माना जाता है।
- इसके अलावा आप अपनी घर की जरूरत का दूसरा सामान जैसे कि फ्रिज, वॉशिंग मशीन, मिक्‍सर-ग्राइंडर, डिनर सेट और फर्नीचर भी ले सकते हैं।
- इस दिन वाहन खरीदना शुभ होता है, लेकिन मान्‍यताओं के मुताबिक राहु काल में वाहन नहीं खरीदना चाहिए।

- मान्‍यता है कि मां लक्ष्‍मी को कौड़‍ियां अति प्रिय हैं, इसलिए धनतेरस के दिन कौड़‍ियां खरीदकर रखें और शाम के समय इनकी पूजा करें। दीपावली के बाद इन कौड़‍ियों को अपने घर की तिजोरी में रखें, मान्‍यता है कि ऐसा करने से धन-धान्‍य की कमी नहीं रहती।
- मां लक्ष्‍मी को धनिया अति प्रिय है, धनतेरस के दिन धनिया के बीज जरूर खरीदने चाहिए। मान्‍यता है कि जिस घर में धनिया के बीज रहते हैं वहां कभी धन की कमी नहीं रहती। दीपावली के बाद धनिया के इन बीजों को घर के आंगन में लगाना चाहिए।
- धनतेरस के दिन नया झाड़ू खरीदना चाहिए, मान्‍यता है कि झाड़ू दरिद्रता को दूर करता है। कहते हैं कि लक्ष्‍मी स्‍वच्‍छ घर में ही निवास करती हैं और झाड़ू सफाई करने का सर्वोत्तम साधन है।

क्या न खरीदें...
- धनतेरस के दिन धारदार वस्तुएं जैसे चाकू या कैंची नहीं खरीदना चाहिए, इसलिए भूलकर भी धनतेरस पर धारदार वस्तुओं की खरीदारी नहीं करें।

- धनतेरस पर तेल खरीदना भी शुभ नहीं माना जाता है, इसलिए आपको इस दिन तेल तो बिल्कुल भी नहीं खरीदना चाहिए।

- आपको धनतेरस पर भूलकर भी एल्युमिनियम के बर्तन या उससे बनी कोई वस्तु अपने घर पर नहीं लानी चाहिए।

- इस दिन आपको कोई भी नुकीली चीज भी नहीं खरीदनी चाहिए, क्योंकि इन चीजों को भी धनतेरस पर खरीदना शुभ नहीं माना जाता है।

- इस दिन कांच का सामान भी खरीदना शुभ नहीं माना जाता है, इसलिए संभव हो तो कांच का सामान भी इस दिन बिल्कुल भी न खरीदें।

- धनतेरस पर गाड़ी खरीदना बहुत शुभ माना जाता है, लेकिन आपको कभी भी गाड़ी राहु काल में नहीं खरीदनी चाहिए।

- इस दिन काले रंग की वस्तुएं भी खरीदना अशुभ माना जाता है, इसलिए आपको धनतेरस पर काले रंग की वस्तुओं की खरीदारी नहीं करनी चाहिए।

- इस दिन आपको शराब या अन्य कोई ऐसी तामसिक चीज भी नहीं खरीदनी चाहिए, क्योंकि धनतेरस पर यह सभी चीजें खरीदना निषेध माना जाता है।

- धनतेरस आप लोहे के बर्तन, छाता या जूते आदि भी बिल्कुल भी न खरीदें, क्योंकि इन सभी वस्तुओं का संबंध शनि देव से माना गया है।

- यदि आप किसी को कोई उपहार देना चाहते हैं तो धनतेरस से एक दिन पहले ही उसे वह उपहार भिजवा दें. धनतेरस के दिन सिर्फ अपने लिए ही चीजें खरीदें।



source https://www.patrika.com/religion-news/dhanteras-2020-date-and-time-with-some-rules-6498161/

Comments