बुध के उदय होने से व्यापारिक क्षेत्र में मिलेगी मजबूती

व्यापारिक कारक, आर्थिक पक्ष मजबूत करने वाला और आकाशीय मंत्रिमंडल के राजा ग्रह बुध पौषकृष्ण द्वादशी दस जनवरी से सूर्य के प्रकाश से बाहर निकलेगा। ज्योतिषविदों के मुताबिक बुध ग्रह रविवार रात 12.53 बजे उदय होने जा रहा है। इसके बाद 12 जनवरी को बुद्धि के कारक बृहस्पति से युति तथा 24 जनवरी को क्षितिज से अधिकतम उंचाई पर होगा। यह व्यापारिक ग्रह जनवरी के अंतिम सप्ताह में सूर्यास्त के बाद लगभग 10 से 12 डिग्री ऊंचाई पर देखा जा सकता है। बुध ग्रह 30 जनवरी को उल्टी चाल से चलने लगेगा। मंगल का भी आकाशीय मंत्रिमंडल में दबदबा देखने को मिल रहा है।

मंगल रहेगा स्वराशि में -
औद्योगिक प्रगति का कारक ग्रह मंगल हाल ही स्वराशि मेष में है। वर्तमान संध्याकाल में मंगल लालिमा रंग में हैं। आगामी समय में कई अनुसंधान में सार्थक परिणाम देश को मिलेंगे।

चमक के साथ आएगा नजर -
ज्योतिषाचार्य पं.दामोदर प्रसाद शर्मा ने बताया कि उल्टी चाल चलने पर बुध ग्रह अच्छी चमक के साथ दिखाई देने लगेगा। वर्तमान समय में बुध ग्रह सूर्य के नजदीक होने से दिखाई नहीं दे रहा था, जो दस जनवरी से पश्चिम दिशा में दिखाई देने लग जाएगा। बुध उदय होने के बाद से व्यापारिक वस्तुओं में नई आर्थिक गति प्रदान करेगा। वर्तमान समय में दैत्य गुरु शुक्रपिछले कई महीने से भौर का तारा बना हुआ है, जो अगले माह फरवरी में अस्त होने की तैयारी में हैं। वर्तमान समय में शुक्र पूर्व क्षितिज पर धीरे-धीरे नीचे उतर रहा है, इसलिए वर्तमान समय में सूर्योदय से पहले नजर उठाते ही यह अधिक दमकता हुआ दिखाई दे रहा है।

बिड़ला तारामंडल के सहायक निदेशक संदीप भट्टाचार्य ने बताया कि इस माह बृहस्पति और शनि सूर्य की प्रभा में पहुंच रहे हैं। बुध -मंगल संध्याकाल की तथा शुक्रभोर की शोभा बढ़ा रहा है। भट्टाचार्य ने बताया कि इन्ही पांच ग्रहों को रात्रि में आखों से देखा जा सकता है।



source https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/mercury-will-rise-strengthening-business-sector-6614459/

Comments